मूर्ति विसर्जन के लिए तालाबाें की शुरू हुई खाेज

Bhagalpur News - गंगा में प्रदूषण कम करने की कवायद काे लेकर शनिवार काे निगम अफसराें ने शहर के तीन तालाबाें का जायजा लिया। उप नगर...

Oct 13, 2019, 06:46 AM IST
गंगा में प्रदूषण कम करने की कवायद काे लेकर शनिवार काे निगम अफसराें ने शहर के तीन तालाबाें का जायजा लिया। उप नगर अायुक्त सत्येंद्र प्रसाद वर्मा ने कंपनीबाग, प्रफुल्ल चंद्र यादव ने भैरवा तालाब अाैर सिटी मैनेजर रवीश चंद्र वर्मा ने दक्षिणी क्षेत्र के महादेव तालाब का जायजा लिया। तालाबाें में पानी की स्थिति, मूर्ति ले जाने का प्राॅपर रास्ता, अतिक्रमण आदि की रिपोर्ट बनाकर तीनों अफसर नगर आयुक्त को देंगे। जिला स्तर पर पूजा समितियाें के साथ डीएम की बैठक में नगर अायुक्त रिपाेर्ट जमा करेंगी। इसके बाद तय हाेगा कि गंगा में ही प्रतिमा का विसर्जन हो या तालाब में जगह बनाई जाए। बता दें कि कालीपूजा में साै से अधिक मूर्तियाें का विसर्जन गंगा में होता है।



कंपनीबाग के पास अतिक्रमण

कंपनीबाग तालाब के पास अतिक्रमण है, इसे हटाना हाेगा। इसके साथ ही तालाब में जलकुंभी है, इसे भी क्लीयर करना हाेगा, तभी मूर्तियाें का यहां विसर्जन हाे सकता है। भैरवा तालाब का पानी ताे क्लीयर है पर यहां भी जंगल-झाड़ हैं। जबकि महादेव तालाब में दिक्कत नहीं है। हल्की सफाई करने के बाद यहां प्रतिमा का विसर्जन हाे सकता है। हाल के वर्षाें में तालाबाें में पानी की कमियां रही थी लेकिन इस बार सभी तालाब पानी से भरे हैं पर मूर्तियाें के विसर्जन करने लायक चाराें अाेर घाट तैयार करने हाेंगे।

गंगा में मूर्ति विसर्जन से ये नुकसान

डाॅल्फिन व जलीय जीवाें काे केमिकल व रंगाें से हाेती है परेशानी। मूर्तियाें के बाल व अन्य प्लास्टिक वेस्टेज मछलियाें के गले में फंसने से हाेती है माैत। गंगा में प्लास्टिक अाॅफ पेरिस अाैर केमिकलयुक्त रंगाें के जाने से प्रदूषण बढ़ता है। डाॅल्फिन अभ्यारण्य क्षेत्र घाेषित हाेने के बाद गंगा में साबुन से स्नान करना भी प्रतिबंधित है।

सभी तालाबों में पर्याप्त पानी

शहर के तीन तालाबाें का हमलाेगाें ने जायजा लिया है। सभी तालाबाें में पर्याप्त पानी है। मूर्तियाें के विसर्जन के लिए किन-किन कार्याें की जरूरत हाेगी। यह नगर अायुक्त तय करेंगी। - सत्येंद्र प्रसाद वर्मा, पीअारअाे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना