• Home
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Bhagalpur - टीम ने सदर अस्पताल का लिया जायजा न ईएनटी न ही हड्डी के मिले डॉक्टर
--Advertisement--

टीम ने सदर अस्पताल का लिया जायजा न ईएनटी न ही हड्डी के मिले डॉक्टर

मेडिकल कॉलेज अस्पताल में एमबीबीएस की 100 सीटों पर स्थायी मान्यता को लेकर दूसरे दिन बुधवार को एमसीआई की मॉक टीम सदर...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 02:40 AM IST
मेडिकल कॉलेज अस्पताल में एमबीबीएस की 100 सीटों पर स्थायी मान्यता को लेकर दूसरे दिन बुधवार को एमसीआई की मॉक टीम सदर अस्पताल समेत नाथनगर रेफरल अस्पताल व ग्रामीण स्वास्थ्य प्रशिक्षण केंद्र पहुंची। टीम ने सदर अस्पताल के इंडोर, ओपीडी, टीकाकरण केंद्र व पोषण पुनर्वास केंद्र के अलावा क्षेत्रीय वैक्सीन सेंटर का जायजा लिया। इस दौरान ईएनटी व हड्डी रोग विशेषज्ञों की कमी खली। साथ ही अल्ट्रासाउंड सेंटर साल भर से बंद होने की वजह से गर्भवती की प्रॉपर जांच नहीं होने की सूचना मिली। टीम के साथ सदर अस्पताल के प्रभारी डॉ. एके मंडल, एमसीआई की मॉक टीम के सदस्यों में गया मेडिकल कॉलेज से डॉ. प्रमोद कुमार व डॉ. राजेंद्र प्रसाद समेत मेडिकल कॉलेज के दो डॉक्टर शामिल थे। टीम के सदस्य जब टीका लगा रही नर्स से रोज लगने वाले टीकों की संख्या पूछी। पोषण पुनर्वास केंद्र में कुपोषित बच्चों के बारे में जानकारी ली, किचन भी देखा। पोषण पुनर्वास केंद्र में नवगछिया अनुमंडल क्षेत्र के ननकार गांव के दिव्या कुमारी के चार महीने के पुत्र को टीम ने देखा।

पोषण केंद्र व क्षेत्रीय वैक्सीनेसन रूम भी देखा बिना रिपोर्ट लिखे लौटी मॉक ड्रिल टीम

सदर अस्पताल में कुपोषित बच्चों की जानकारी लेते टीम के सदस्य ।

नाथनगर में कुछ डॉक्टर रहे अनुपस्थित

एमसीआई मॉक ड्रिल टीम बुधवार को नाथनगर रेफरल अस्पताल का भी निरीक्षण किया। दो सदस्यीय टीम में गया मेडिकल कॉलेज के एनोटॉमी विभाग के प्रो डॉ. पीके वर्मा और डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शामिल थे। टीम ने लैब, एनबीसीसी रूम, लेबर रूम, सिजेरियन रूम, मेजर ओटी रूम, महिला वार्ड, ओपीडी आदि का निरीक्षण किया और डॉक्टरों की संख्या के बारे में जानकारी ली। कुछ डॉक्टरों को अनुपस्थित पाया। टीम ने ग्रामीण स्वास्थ्य प्रशिक्षण केंद्र का जायजा लिया। इस दौरान अस्पताल प्रभारी डॉ. अंजना और स्वास्थ्य प्रबंधक विनय उपाध्याय अनुपस्थित थे।