• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Bhagalpur News there was no problem in duty so the nurse madhu sent the children home the two daughters of nurse sulechana came to help the mother

ड्यूटी में न हाे दिक्कत इसलिए नर्स मधु ने बच्चाें काे भेज दिया घर ताे नर्स सुलाेचना की दाे बेटियां मां की मदद काे अा गईं

Bhagalpur News - वैसे ताे मेडिकल काॅलेज अस्पताल में अामताैर पर नर्साें की लापरवाही की ही खबर अाती है, लेकिन जब काेराेना महामारी...

Mar 30, 2020, 06:41 AM IST

वैसे ताे मेडिकल काॅलेज अस्पताल में अामताैर पर नर्साें की लापरवाही की ही खबर अाती है, लेकिन जब काेराेना महामारी का संकट अाया ताे ये सेवा की मिसाल भी पेश कर रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ने जब देश के अस्पतालाें में काम कर रही नर्साें का हाैसला बढ़ाया ताे इनलाेगाें काे भी इससे प्रेरणा मिली। मेडिकल काॅलेज अस्पताल के एमसीएच वार्ड काे यहां काेराेना मरीजाें के लिए अाइसाेलेशन वार्ड बनाया गया है। इसमें नाै नर्साें की विशेष रूप से ड्यूटी लगायी गयी है। ये अपनी जान की परवाह किए बिना काेराेना के मरीजाें की जान बचाने के लिए लगातार 12 घंटे तक काम कर रही हैं। ड्यूटी में दिक्कत न इसलिए नर्साें की एक इंचार्ज ने अपने बच्चाें काे अपने घर बेगूसराय भेज दिया है ताे दूसरे इंचार्ज की दाे बेटियां मां की मदद के लिए यहां पहुंच गयी हैं। वह घर में मां के काम में हाथ बटाती हैं ताकि वह समय पर ड्यूटी जा सके।

मानवता की सेवा करने की ली है शपथ, पूरा करने का यही है असली समय : मधु

अाइसाेलेशन वार्ड की दूसरी पाली की इंचार्ज मधु कुमारी ने अपने बच्चाें काे अपने घर बेगूसराय पहुंचा दिया है, ताकि ड्यूटी के दाैरान उन्हें परिवार की चिंता न रहे। काम करने में सहूलियत हाे। इससे बच्चे काे संक्रमण का भी डर नहीं रहेगा। वह कहती हैं कि जब शपथ लेकर नर्सिंग प्राेफेशन में अायी हूं ताे डरना किस बात का। मानवता की सेवा का जाे पाठ हमलाेगाें काे पढ़ाया गया है, उसे पूरा करने का यही असली माैका है। इसलिए हम बिना डर के नि:संकाेच काम कर रहे हैं। उन्हाेंने बताया कि हर दिन अस्पताल अाने से पहले अाैर यहां से वापस घर जाने पर स्नान करते हैं। सभी कपड़े साफ कर ही दाेबारा पहनते हैं ताकि सुरक्षित रहें। इसी तरह अाइसाेलेशन वार्ड की नर्स ममता, सुधा, पुष्पा, इंदु, प्रियंका अादि भी लगातार मरीजाें की सेवा में लगी हैं।

आइसोलेशन वार्ड में कोरोना मरीज के पास जाने वाले स्टाफ को समझातीं नर्स मधु कुमारी(उजली ड्रेस में)।

मेडिकल काॅलेज अस्पताल के अाइसाेलेशन वार्ड की दाे इंचार्ज नर्स पेश कर रहीं सेवा की मिसाल


जीवन में आया है एेसा पहला माैका, काेराेना काे हराना है : सुलाेचना

अाइसाेलेशन वार्ड की इंचार्ज सुलाेचना कहती हैं कि घर से साथ अस्पताल की भी जिम्मेदारी है। अस्पताल में 12 घंटे तक काम करना पड़ रहा है। परेशानियाें काे देखते हुए उनकी दाेनाें बेटियां-प्रेरणा पंत अाैर भावना पंत घर के काम में हाथ बंटाने अा गई हैं। वह सिर्फ बच्चाें के सब्जी बनाती हैं अाैर ड्यूटी पर चली जाती है। सुलाेचना कहती हैं कि वह 2016 से लगातार अाइसाेलेशन वार्ड में काम कर रही हैं लेकिन जीवन में पहली बार एेसा माहाैल देखा है। मुश्किल की इस घड़ी में परिवार के सभी लाेग हाैसला बढ़ाते हैं। इस लड़ाई में काेराेना काे हराना है।

नर्स सुलोचना घर में केवल सब्जी बनाकर ड्यूटी पर चली जाती हैं, बाकी काम उनकी बेटियां करती हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना