वैलेंटाइन डे वेस्टर्न कल्चर, माता-पिता की पूजा ही भारत की संस्कृति : मंत्री

Bhagalpur News - जागृत युवा समिति के तत्वावधान में शुक्रवार को सैंडिस कंपाउंड में शुक्रवार काे मातृ-पितृ सह भारत माता पूजन...

Feb 15, 2020, 07:01 AM IST
Bhagalpur News - valentines day western culture worship of parents is india39s culture minister

जागृत युवा समिति के तत्वावधान में शुक्रवार को सैंडिस कंपाउंड में शुक्रवार काे मातृ-पितृ सह भारत माता पूजन समारोह का आयोजन किया गया। समाराेह की छटां देखने लायक थी। दर्जनाें बच्चाें ने अपने माता-पिता काे बिठाकर उनकी अारती उतारी, उन्हें कुमकुम का तिलक लगाया। फूल माला पहना उनकी पूजा की। उनके पांव छूकर जीवन में सफल हाेने का अाशीष लिया। माता-पिता की सात बार परिक्रमा भी की। पूजन के लिए बच्चाें काे अाॅडियाे के जरिए गाइड किया जा रहा था। पूरे पूजन समाराेह के साक्षी थे सूबे के पिछड़ा एवं अतिपिछड़ा वर्ग के कल्याण मंत्री विनाेद कुमार सिंह। उन्होंने कहा कि वैलेंटाइन डे भारत की संस्कृति नहीं है बल्कि यह वेस्टर्न कल्चर है। माता पिता की पूजा करना भारत की संस्कृति है। उन्होंने कहा शहीद होने वाले वीरों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी। इसके पूर्व कार्यक्रम का उद्घाटन मंत्री ने भारत माता के चित्र के अागे दीप जलाकर किया। उद्घाटन के दौरान जागृत युवा मंच के संरक्षक प्रो. डॉ. मथुरा दूबे, अनंत कुमार सिन्हा, प्रो. कामाख्या प्रसाद, रोहित पांडेय आदि मौजूद थे।

मंत्रोच्चार के साथ बच्चों ने माता-पिता के चरण धाेए

वैदिक मंत्रोच्चार के साथ बड़ी संख्या में बच्चों ने अपने माता-पिता का पूजन किया। सबसे पहले बच्चों ने अपने माता-पिता के चरण धोए। इस सामूहिक दृश्य को देखकर सभी की आंखों भर आई। इस अवसर पर अतिथियों ने बच्चों को मेडल पहनाकर सम्मानित किया।

शहीद रतन ठाकुर के पिता को किया सम्मानित

कार्यक्रम स्थल पर शहीद रतन ठाकुर का चित्र भी लगाया गया था। शहीद के पिता राम निरंजन ठाकुर को सम्मानित किया गया। जागृत युवा समिति के कार्यकर्ताओं के अलावा सभी अतिथियों ने उनकी पूजा की। अपने पुत्र को खो चुके राम निरंजन ठाकुर उस समय भाव विभोर हो गए जब दर्जन भर युवकों ने उन्हें पिता मानकर उनकी पूजा की। उनके चरण धोये गए। चंदन लगाया गया।

बच्चाें ने माता-पिता काे लगाया तिलक, की उनकी परिक्रमा

भारत माता की हुई आरती

कार्यक्रम में आए सभी लोगों ने दीपक लेकर भारत माता की आरती की। इस दौरान संपूर्ण परिसर दीपक से जगमगा उठा। कार्यक्रम में गायक रवि शंकर रवि ने कई भजन पेश किए। उन्होंने गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरुआत की।

भाारतीय संस्कृति की रक्षा करना हमारा कर्तव्य

आनंदराम ढांढानियां सरस्वती विद्या मंदिर के प्रधानाचार्य अनंत कुमार सिन्हा ने कहा कि भारत की संस्कृति की रक्षा से ही देश विश्वगुरु बन सकता है। माता-पिता की पूजा का एक दिन नहीं है, बल्कि उनका सम्मान और पूजा प्रत्येक दिन होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भगवान गणेश ने माता-पिता की परिक्रमा कर प्रथम पूज्य हो गए। इस अवसर पर आनंदराम ढांढनिया सरस्वती विद्या मंदिर, रामेश्वरलाल नोपानी सरस्वती विद्या मंदिर, सनविला एकेडमी, उपनय एकेडमी, न्यू ईरा एकेडमी, सेंट टेरेसा, माउंट असीसी, कार्मल स्कूल के बच्चे मौजूद थे।

मातृ-पितृ पूजन समाराेह में मौजूद बच्चे और उनके अभिभावक।

मातृ-पितृ पूजन समाराेह में सजधज कर पहुंचे बच्चों ने अपने माता-पिता का किया पूजन और लिया आशीर्वाद।

Bhagalpur News - valentines day western culture worship of parents is india39s culture minister
X
Bhagalpur News - valentines day western culture worship of parents is india39s culture minister
Bhagalpur News - valentines day western culture worship of parents is india39s culture minister

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना