• Hindi News
  • Bihar
  • Bihar sharif
  • Nalanda News children will learn tricks to stop the trend of crime safety of women and elderly and disaster management

बच्चे अपराध की प्रवृति को रोकने, महिलाओं और बुजुर्गों की सुरक्षा और आपदा प्रबंधन के गुर सीखेंगे

Bihar Sharif News - स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्रा स्टूडेंट पुलिस कैडेट (एसपीसी) बनकर अपराध की प्रवृति को रोकने, महिलाओं व...

Feb 15, 2020, 09:00 AM IST
Nalanda News - children will learn tricks to stop the trend of crime safety of women and elderly and disaster management

स्कूलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्रा स्टूडेंट पुलिस कैडेट (एसपीसी) बनकर अपराध की प्रवृति को रोकने, महिलाओं व बुजुर्गों की सुरक्षा और आपदा प्रबंधन के गुर सीखेंगे। जिसमें बच्चों को बेहतर पुलिसिंग और ईमानदार नागरिक बनाने की नींव तैयार की जाएगी। इसके तहत स्कूलों में छात्र-छात्राओं को एसपीसी की ट्रेनिग में बुनियादी कानून और पुलिस की कार्यप्रणाली से वे रूबरू कराया जाएगा। छात्र और पुलिस को एक-दूसरे के सहयोग से अपराधमुक्त समाज बनाने के लिए काम करना है। इसके लिए जिले में पायलट प्रोजेक्ट के तहत 30 हाईस्कूलों का चयन किया गया है। इसी को लेकर शुक्रवार को आदर्श प्लस टू हाई स्कूल में चयनित विद्यालयों के एचएम और प्रशिक्षण प्राप्त दो शिक्षकों को बेहतर संचालन के लिए जानकारी दी गई। कार्यशाला का उद्घाटन संभाग प्रभारी जयंत कुमार आचार्या ने किया।

टीम भावना से ही होता है मुश्किलों का समाधान

संभाग प्रभारी श्री आचार्या ने एचएम और शिक्षकों को मोटिवेट करते हुए कहा कि स्टूडेंट पुलिस कैडेट के तहत टीम भावना से बड़ी से बड़ी मुश्किलों का आसान समाधान होगा। एसपीसी कार्यक्रम आपसी तालमेल को बेहतर बनाने में मदद कर सफलता की संभावना को बढ़ाता है। उन्होने कहा कि एसपीसी कैडेटों को यूनीफार्म एक प्रतीक चिह्न और झंडा दिया जाएगा। जिसे ट्रेनिंग के दौरान पहनेंगे। उन्हें मेला एवं विशेष परिस्थिति में तैनात किया जाएगा। उन्होने कहा कि एसपीसी के नोडल सीपीओ (शिक्षक कम्युनिटी आफिसर) होंगें। उन्हें पुलिस अधिकारी अपनी कार्यशैली से अवगत कराएंगे। हर स्कूल में थाना स्तरीय (दारोगा) नोडल पदाधिकारी के रूप में कार्य करेंगे। साथ ही जिले में एक डिप्टी एसपी नोडल पदाधिकारी होंगे। जो विद्यालय के एसपीसी का माह में एक बार निरीक्षण करेंगे। प्रशिक्षण कार्यक्रम में मास्टर ट्रेनर अजय कुमार, शिवशंकर लाल, प्रशांत प्रियदर्शी, डॉ अभिनव कुमार, अश्विनी चंद्रा एवं प्रीतम कुमार दीपक उपस्थित थे।

आउटडोर एक्टिविटी के लिए पुलिस कार्यालय का कराया जाएगा भ्रमण


मास्टर ट्रेनर डॉ अभिनव ने शिक्षकों को कहा कि आउटडोर एक्टिविटी के तहत छात्र-छात्राओं को पुलिस कार्यालय का भ्रमण कराया जाएगा। इसके तहत एसपीसी कैडेट को सीमा सुरक्षा बल कैंप, सीआरपीएफ कैंप, पुलिस अकादमी, थाना, अनुमंडल एवं जिला स्तरीय पुलिस ऑफिस और ट्रैफिक पुलिस कार्यालय का भ्रमण कराया जाएगा। उन्होने कहा कि आपदा के समय राहत कार्य में मदद के टिप्स भी कैडेटों को देनी है ताकि राहत कार्य में कैडेट सहयोग कर सकेंगे।


एसपीसी के तहत दिखाएं प्रेरणादायक फिल्म


दो शिक्षक और पुलिस अनुसेवक को मिलेगा 1 हजार रुपया

मास्टर ट्रेनर प्रशांत प्रियदर्शी ने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत छात्र पुलिस कैडेट के लिए प्रति माह एक वर्ग क्लास एवं दो दिन आउटडोर गतिविधियों का संचालन किया जाना है। इसके लिए चयनित विद्यालय के दो शिक्षकों और पुलिस संगठन द्वारा चयनित प्रशिक्षक (पुलिस अनुसेवक) को प्रतिवर्ष 1000 रुपया सम्मान के रूप में दिया जाएगा। साथ ही कार्यक्रम के सफल संचालन के लिए संबंधित जिला के एसपी एवं डीईओ के संयुक्त हस्ताक्षर से प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा।

स्कूल में बुनियादी कानून और पुलिस की कार्यप्रणाली से बच्चों को रूबरू कराया जाएगा

किस मद में कितनी राशि खर्च होगी

{शिक्षण सामाग्री के रूप में कॉपी,कलम,परिचयपत्र,चार्ट पेपर,स्केच,पेन व कैंची आदि के व्यय पर 15 हजार की राशि खर्च किया जाएगा।

{आउटडोर गतिविधि के लिए 22 हजार व्यय का प्रावधान है। जिसमें फर्स्ट एड,टोपी एसपीसी लोगो सहित छपा हुआ सिटी,बैनर,वाहन आदि पर खर्च किया जाएगा।

{प्रशिक्षण एवं अन्य मद पर 5 हजार राशि खर्च करना है। जिसमें प्रशिक्षण प्राप्त दो शिक्षक और पुलिस अनुदेशक को 1-1 हजार राशि सालाना दिया जाएगा। दरी,साफ-सफाई आदि पर 2 हजार खर्च किया जाएगा।

{आकस्मिकता पर 5 हजार व्यय किया जाएगा। इसके तहत प्रेरणादायक फिल्म और जेनरेटर,डीजल,ईंधन व प्रोजेक्टर पर व्यय किया जाएगा।

पदाधिकारी ने कहा- खर्च की गई राशि का उपयोगिता देना अनिवार्य


कोई पाठ्य पुस्तक नहीं : मास्टर ट्रेनर अजय कुमार ने बताया कि इस योजना में कोई पाठ्यपुस्तक नहीं है। छात्रों का महीने में एक से दो क्लास लगेगी। अपराध की रोकथाम के तहत सामुदायिक पुलिस, सड़क सुरक्षा, सामाजिक बुराइयों से लड़ना, महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा, आपदा प्रबंधन, यातायात व्यवस्था समेत कई मुद्दों पर आधारित जानकारी दी जायेगी। उन्होने कहा कि छात्राओं को सशक्त बनाने के लिए शिक्षा सबसे ताकतवर हथियार है। उन्होने कहा कि एसपीसी कार्यक्रम के तहत विद्यार्थियों को जिम्मेदार नागरिक के रूप में विकसित करने की जरूरत है।


मास्टर ट्रेनर शिवशंकर लाल ने शिक्षकों को कहा कि एसपीसी के तहत कैडेटो को प्रेरणादायक फिल्म को प्रोजेक्टर के माध्यम से दिखाया जाना है। यह कार्यक्रम विद्यार्थियों को जिम्मेदार नागरिक के रूप में विकसित करने तथा उनकी क्षमताओं को स्वानुशासन,व्यावहारिक ज्ञान,संवेदना,मूल्य,नीति,नैतिकता एवं ईमानदारी के लिए विकसित करेगा। उन्होने कहा कि चक दे इंडिया,बागवान,भाग मिल्खा भाग,एम एस धोनी व मेरी कॉम जैसी फिल्मों को विद्यालय की गतिविधियों के तहत दिखाया जाना है।


कार्यक्रम में शामिल एचएम और शिक्षक।


एसपीसी कार्यक्रम में जानकारी देते ट्रेनर।

Nalanda News - children will learn tricks to stop the trend of crime safety of women and elderly and disaster management
X
Nalanda News - children will learn tricks to stop the trend of crime safety of women and elderly and disaster management
Nalanda News - children will learn tricks to stop the trend of crime safety of women and elderly and disaster management

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना