कोसी बराज के 37 फाटक खोले गए, निर्मली के 5 हजार घरों में घुसा पानी

Bihar Sharif News - भास्कर न्यूज | वीरपुर (सुपौल) कोसी नदी का जलस्तर इस साल के सर्वाधिक स्तर पर है। बढ़ते जलस्तर ने जुलाई माह के पिछले 12...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:30 AM IST
Wean News - kosi baraj39s 37 gates were opened water entered in 5000 houses of nirmali
भास्कर न्यूज | वीरपुर (सुपौल)

कोसी नदी का जलस्तर इस साल के सर्वाधिक स्तर पर है। बढ़ते जलस्तर ने जुलाई माह के पिछले 12 साल के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। नेपाल में भारी बारिश से कोसी का डिस्चार्ज शनिवार को 3.18 लाख क्यूसेक को पार कर गया है। बराज से भारी मात्रा पानी छोड़े जाने से निर्मली, सरायगढ़, किसनपुर और सुपौल के तटबंध के भीतर के कई गांवों में बाढ़ का पानी फैल गया है। लोग ऊंचे स्थानों की ओर पलायन कर रहे हैं। केवल निर्मली अनुमंडल के पांच हजार घरों में पानी घुस गया है जबकि 40 हजार लोग इससे प्रभावित हैं। बताया जा रहा है कि जुलाई में सर्वाधिक जलस्तर ने नया रिकॉर्ड बनाया है, वहीं बढ़ते जलस्तर और मूसलाधार बारिश ने लोगों की भी चिंता बढ़ा दी है। तीन लाख क्यूसेक से अधिक जलस्तर होने के बाद कोसी बराज की स्थिति रेड अलर्ट पर चली जाती है। इस बीच अच्छी खबर यह भी है कि जल अधिग्रहण बराह क्षेत्र में 12 बजे के बाद से जलस्तर में गिरावट आ रही है जिससे अगले 6 घंटे में लगातार बढ़ते जलस्तर से लोगों को निजात मिलने की संभावना है। 37 फाटक खोले गए हैं ताकि पानी को आसानी से निकाला जा सके। बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली रिपोर्ट के मुताबिक जलस्तर बढ़ा है, पर दोनों तटबंध के सभी स्पर सुरक्षित हैं।

सुरक्षा बांध टूटा, कई गांवों में फैला पानी

रेल महासेतु के पास गाइड बांध से सटाकर श्रमदान से बनाए गए 600 मीटर लंबे सुरक्षा बांध के शुक्रवार की देर रात टूटने से कई गांवों में पानी घुसने से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई है। जबकि बसुआ के पास ग्रामीण टोला संपर्क पथ के पानी की तेज वेग में ध्वस्त हो जाने से दर्जनों गांवों के लोगों का आवागमन ठप हो गया है। नेपाल के तराई में लगातार बारिश के बाद कोसी के जलस्तर में वृद्धि होने से तटबंध के अंदर बसे गांव, घुरन, बलवा, तेलवा, मरौना के घोघरिया, सिसौनी, सरायगढ़ के लौकहा, बनैनिया, किशनपुर का नौआबाखर, भेलवा सहित अन्य गांव डूब गए हैं।

X
Wean News - kosi baraj39s 37 gates were opened water entered in 5000 houses of nirmali
COMMENT