समाज में मादक पदार्थों का उपयोग रोकने में पुलिस की जरूरी भूमिका

Bihar Sharif News - बिहार पुलिस एकेडमी में मंगलवार को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल डिफेंस नयी दिल्ली द्वारा सामाजिक सुरक्षा पर दो...

Dec 04, 2019, 09:06 AM IST
बिहार पुलिस एकेडमी में मंगलवार को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल डिफेंस नयी दिल्ली द्वारा सामाजिक सुरक्षा पर दो दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण में नालंदा, नवादा, गया, शेखपुरा के पुलिस पदाधिकारी के अलावा एकेडमी के सभी प्रशिक्षु डीएसपी शामिल हुए। कार्यक्रम का उद्घाटन एकेडमी के निदेशक डीजी भृगु श्रीनिवासन और प्राचार्य डीआईजी डा. परवेज अख्तर ने किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि दो दिवसीय प्रशिक्षण के दौरान विशेष जानकारी दी जायेगी। समाज में मादक पदार्थों का प्रयोग व प्रसार रोकने में पुलिस की अहम भूमिका है। नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ सोशल डिफेंस द्वारा बिहार पुलिस एकेडमी में नोडल सेंटर बनाया गया है। इस प्रशिक्षण से पुलिस पदाधिकारियों में एक बड़ी सोच और नशा के प्रति कठोर अवधारणा पैदा होगी। मनोरोग विज्ञाग के अध्यक्ष डा. पंकज कुमार ने कहा कि नशा का शिकार होना ही एक प्रकार की बीमारी है। जिससे निकलना बहुत जरूरी है। नशा से समाज पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। नॉर्थ इस्ट राज्यों के बार्डर से हमारे देश में भारी मात्रा में मादक पदार्थ आते हैं। जिससे देश के अलग-अलग राज्यों में पहुंचाया जाता है। जिसे रोकने में पुलिस की भूमिका महत्वपूर्ण है।

नाबालिग अपराधी भी काफी संख्या में

निरंतर लोक अदालत के सदस्य एसपी मिश्रा ने कहा कि वर्तमान समय में पुलिस का दायित्व कई क्षेत्रों में बढ़ गया है। वर्तमान में नाबालिग अपराधकर्मियों की संख्या काफी बढ़ी है। जिसके कारण उनका मानसिक बदलाव, आर्थिक आवश्यकता और चरित्र में कमजोरी है। समाज में नशा करने की प्रवृत्ति बढ़ी है। जिसके कारण नाबालिग बच्चे को प्रलोभन देकर इसका आदि बनाया जाता है। फिर नशा के लत लग जाने पर उसकी पूर्ति के लिए उससे अपराध करवाया जाता है। सड़क दुर्घटना का कारण भी नशा है। इस मौके पर मनो रोग विशेषज्ञ डा. जय सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना