भेड़ बकरी पालन योजना से भेड़ पालन को मिलेगा बढ़ावा, 60 से 80 प्रतिशत अनुदान

Bihar Sharif News - विलुप्त हो रही भेड़ प्रजाति को संरक्षित करने और इसके पालन के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा भेड़...

Feb 22, 2020, 07:00 AM IST
Bihar Sharif News - sheep goat rearing scheme will boost sheep rearing 60 to 80 percent grant

विलुप्त हो रही भेड़ प्रजाति को संरक्षित करने और इसके पालन के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए राज्य सरकार द्वारा भेड़ पालकों को मदद दी जायेगी। समेकित भेड़ एवं बकरी पालन योजना के तहत भेड़ पालन पर अनुदान दिया जायेगा। इस योजना के तहत नालंदा सहित राज्य के 19 जिलों का चयन किया गया है। 60 से 80 प्रतिशत तक अनुदान देने की योजना है। अनुदान का भुगतान वास्तविक क्रय लागत पर किया जायेगा। हालांकि इसके लिए अधिकतम 76 हजार 400 रुपया तक ही भुगतान की सीमा तय कर दी गयी है। अधिक होने पर लाभुक को स्वयं भुगतान करना होगा। जिले को अभी तक लक्ष्य नहीं मिला है। डीएएचओ डा. अशोक कुमार विद्यार्थी ने बताया कि भेड़ पालन को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर इसकी शुरुआत की गयी है। योजना का मुख्य उद्देश्य छोटे किसानों और पशुपालकों को भेड़ पालन के लिए प्रोत्साहित कर उनकी आय बढ़ाना है। साथ ही भेड़ को संरक्षित करना भी उद्देश्य है।

दो तरह की योजना बनाई गई है

एपीओ डॉ. नेहा मालविका सिंह ने बताया कि इस योजना के तहत भेड़ फार्म को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए दो तरह की योजना बनी है। जिसमें 20 प्लस 1 पर 80 प्रतिशत एवं 40 प्लस दो पर 60 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। 20 प्लस 1 पर 95 हजार 500 एवं 40 प्लस दो पर 1 लाख 95 हजार लागत मूल्य तय किया गया है।

किसानों के आय में होगी वृद्धि : डीएएचओ ने बताया कि भेड़ पालन से किसानों को काफी हद तक आर्थिक समस्या दूर होगी। भेड़ से मांस एवं उन उपलब्ध होने के साथ-साथ कृषि के क्षेत्र में भी काफी लाभ मिलेगा। भेड़ ग्रामीण अर्थव्यवस्था और सामाजिक संरचना से जुड़ा हुआ है। यह व्यवसाय मांस, दूध, ऊन, कार्बनिक खाद और अन्य उपयोगी सामग्री देता है। भेड़ पालकों को इससे कई फायदे हैं।

विलुप्त हो रही है प्रजाति

सरकारी उपेक्षा एवं आर्थिक समस्या के कारण जिले में भेड़ प्रजाति धीरे-धीरे विलुप्त होती जा रही है। जगह के आभाव में गरेड़िया समाज को भेड़ के रख रखाव में काफी परेशानी होती है। बारिश के मौसम में भेड़ पालन के अलावा अपनी जीविका चलान भी मुश्किल हो जाता है। इस समस्याओं से परेशान काफी लोग भेड़ पालन करना छोड़ मजदूरी करने को लाचार हैं।

भेड़ प्रजाति को संरक्षित करने को राज्य सरकार की पहल

जीविका के माध्यम से होगा स्वीकृत : एपीओ ने बताया कि 20 प्लस 1 योजना के तहत राज्य में 60 लोगों को लाभ देने का लक्ष्य है। जिसमें 30 पशुपालन निदेशालय एवं 30 जीविका द्वारा स्वीकृत किया जाएगा। 40 प्लस 2 में सभी आवेदन निदेशालय से स्वीकृत किए जाएंगे। हालांकि अभी तक जिला स्तर से लक्ष्य नहीं दिया गया है। लक्ष्य मिलने के बाद जिला कार्यालय द्वारा प्रक्रिया शुरू की जाएगी।


लिया जाएगा शपथ पत्र

उन्होंने बताया कि योजना के लिए चयनित किसानों को पांच वर्षो तक फार्म संचालन के लिए शपथ पत्र भराया जाएगा। ताकि कोई किसान बीच में व्यवसाय को नहीं छोड़ सकें। इस योजना के लिए आवेदन प्राप्त होने के बाद पशुपालन पदाधिकारी एवं प्रभारी पशुपालन पदाधिकारी द्वारा स्थल की जांच करने के बाद स्थानीय लोगों द्वारा संपुष्टि करने के बाद ही अनुसंशा की जाएगी। उन्होंने बताया कि भेड़ों के क्रय के बाद उसका स्वास्थ्य जांच, पीपीआर टीकाकरण करने के साथ-साथ ईयर टैगिंग भी करायी जायेगी।

उन्होंने बताया कि यह सरकार की महत्वपूर्ण योजना है। इसकी सही देखभाल के लिए पहली बार इस योजना के तहत प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी के साथ लाभुक का एग्रीमेंट किया जाएगा। जबकि अन्य सभी योजनाओं में डीएएचओ के साथ एग्रीमेंट किया जाता है।


बीएएचओ के साथ होगा एग्रीमेंट

X
Bihar Sharif News - sheep goat rearing scheme will boost sheep rearing 60 to 80 percent grant

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना