पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गुलाब की पंखुड़ियों से बच्चों संग खेली होली

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

होली के अवसर पर प्रखंड के बड़का राजपुर केशोपुर पथ पर स्थित ऑक्सफोर्ड कॉन्वेंट में विभिन्न तरह के कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जिसका उद्घाटन स्कूल के निदेशक रूपेश चौबे, उपनिदेशक अनूप चौबे, जिला पार्षद बंटी शाही, व्यवसायी मिथिलेश पांडे एवं सरोज पांडेय द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। जिसमें सर्व प्रथम छात्रों ने रसायन युक्त रंगों से होली विषय पर वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लिया। इस प्रतियोगिता के द्वारा छात्रों ने होली के महत्व को एवं वर्तमान में आई हुई कुरीतियों को भाषण के माध्यम से बताया। छात्रों ने बताया कि होली पर हम जो काले रंगों का उपयोग करते हैं। वह लाइट ऑक्साइड से तैयार किया जाता है। इससे किडनी पर खतरा होता है। हरा रंग कॉपर सल्फेट से बनता है। जिसका असर आंखों पर पड़ता है। लाल रंग मरक्यूरी सल्फाइड के प्रयोग से बनता है। इससे त्वचा का कैंसर तक हो सकता है।

प्राकृतिक रंग बनाने के हुनर भी सिखाया : वही इस अवसर पर छात्रों द्वारा प्राकृतिक रंग बनाने के हुनर भी बताया गया। गुलाबी रंगों के लिए कचनार के फूल को रात भर पानी में भिगो दें सुबह तक इसका रंग गुलाबी और केसरिया हो जायेगा। फिर आप इसे होली खेल सकते हैं।वही भूरा रंग के लिए पान में खाने वाला कत्था का भी उपयोग कर सकते है। हरा रंग के लिए आप मेहंदी से होली के लिए हरा रंग तैयार कर सकते हैं।इसके लिए मेहंदी में थोड़ा सा आटा अच्छी तरह मिक्स करें। रंग बनकर तैयार हो जायेगा। पीला रंग के लिए हल्दी बेसन को मिलाकर आप पीला रंग तैयार कर सकते हैं।लाल रंग के लिए आप लाल चंदन पाउडर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा तमाम तरह के रंगों को प्राकृतिक रूप से रंग बनाने की विधि बताई गई।

फूल की पंखुड़ियों से होली खेला : वही इस अवसर पर छात्र एवं शिक्षकों ने फूल की पंखुड़ियों से होली खेल स्वच्छ पर्यावरण का संदेश दिया। कार्यक्रम के समापन पर संबोधित करते हुए।विद्यालय के निदेशक रूपेश चौबे ने कहा की शास्त्रों में कहा गया है की पेड़ पौधे में जीवात्मा होती है। होलिका दहन में लकड़ी इकट्ठा करने के लिये हजारों पेड़ों की बलि देना उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि हम सबका दायित्व बनता है कि हम सब एकजुट होकर पर्यावरण के संरक्षण के लिए अभियान चलाए। वही इस अवसर पर स्कूल के शिक्षकों में नंदलाल कुमार, मिथुन, सुधांशु चौबे, धर्मेंद्र पांडे, डीजे गुरु, एडीमल तमांग, मीरा गुप्ता, प्रीति सिंह, पूजा सिंह, नीरज सिंह के साथ अन्य मौजूद रहे।

पंखुड़ियों से होली खेलते लोग।
खबरें और भी हैं...