हुजूर दामाद छोटी बेटी को पांच वर्षों से बंधक बनाए हुए है

Buxar News - मंगलवार सुबह डुमरांव थाना में अजीबो गरीब मामला प्रकाश में आया। जब एक पिता अपने बेटी को पाने के लिए थानाध्यक्ष के...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:16 AM IST
Dumranv News - hussein son in law is holding the younger daughter for five years
मंगलवार सुबह डुमरांव थाना में अजीबो गरीब मामला प्रकाश में आया। जब एक पिता अपने बेटी को पाने के लिए थानाध्यक्ष के समीप हाथ जोड़कर गुहार लगाई। थाना क्षेत्र के लाखनडिहरा गांव निवासी रमेश चौबे पिता स्वर्गीय काशी नाथ चौबे ने पुलिस को बताया कि सात वर्ष पूर्व बड़ी बेटी की शादी सिमरी थाना क्षेत्र के आशा पड़री गांव निवासी सत्यम तिवारी पिता ओमप्रकाश तिवारी से की थी। उसके बाद बेटी गर्भ से हुई तो हेल्प के नाम पर छोटी को ले गया फिर लोग कहने पर एक साल बाद पहुंचा दिए। फिर बच्चा एक साल बाद सत्यम तिवारी, मुन्ना तिवारी व चंदन तिवारी आए बोले की आपकी बेटी की तबियत बहुत खराब है एक लाख रूपया दिजिए जल्द लौटा देगें। जिसके बाद मैने पैसा दे दिए। फिर मदद के लिए छोटी बेटी को साथ ले गये। उसके बाद पैसे देने से हड़पने के लिए आना-कानी कर रहे है। उसके बाद न तो बेटी को मिलने दे रहे है और नाही उससे फोन पर भी बात कर रहे है। उपर से जाने पर मारपीट करने के लिए उतारू हो जाते है। एक बाद तो हद तब हो गई जब उसने मेरी बुढ़ी मां के साथ दामाद ने हाथापाई करने दिया। छोटी बेटी शादी के लायक हो गई परन्तु कहते है मैं उससे शादी करूंगा। जब मैने अपनी छोटी बेटी की शादी तय की उसे फिर लेने गए तो दरवाजा बंद कर गालीगलौज करने लगे। थानाध्यक्ष शिव नारायण राम ने पूछा कि पांच साल से आप चुप क्यों थे। पिता ने जबाब दिया कि हजूर सामाजिक स्तर से बहुत प्रयास किया परन्तु जब बेटी को भेजे नही तो आपके पास आना पड़ा। मुझे दो बेटी है न तो बड़ी से बात करने दे रहे है और ना ही छोटी से ही। संपति हड़पने के लालच में कहता है कि दोनों से शादी करेगे। थानाध्यक्ष ने आवेदन ले लिया उन्होंने तुरंत मामले की जांच के लिए जिम्मेदारी एक पदाधिकारी को दी। उन्होंने कहा कि जांच में अगर दोषी पाया जाता है तो अपहरण का एफआईआर व धोखाधड़ी का दर्ज कर लड़की को मुक्त कराया जाएगा।

X
Dumranv News - hussein son in law is holding the younger daughter for five years
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना