बंद रहता है पंचायत का आरटीपीएस काउंटर, लोगों को होती है परेशानी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रखंड के चार मिनी सचिवालय स्थित आरटीपीएस काउंटर उद्घाटन के बाद से ही बंद रहता है। इसका लाभ क्षेत्र के ग्रामीणों को नहीं मिलता है। पंचायत वासियों को ऐसे में जाति, आवास, आय प्रमाण पत्र के लिए प्रखंड मुख्यालय का चक्कर लगाना पड़ता है। जबकि इन पंचायतों से प्रखंड की दूरी लगभग 6 से 15 किलोमीटर है। डिजिटल इंडिया बनाने की दिशा में प्रखंड के सोलह पंचायत में से 4 पंचायत भवन सोनवर्षा, बाबूगंज इंग्लिश, रूपसागर व आथर में बीते 26 जनवरी को आरटीपीएस काउंटर खोला गया। जिससे पंचायत वासियों को आवास से लेकर अन्य प्रमाण पत्र बनवाने व प्राप्त करने में सहुलियत हो। परंतु 6 माह बीत जाने के बाद भी काउंटर में ताला झुल रहा है। जिससे पंचायत के लोगों की परेशानी बरकरार है। सोनवर्षा पंचायत के लोगों के अनुसार पंचायत भवन में आरटीपीएस काउंटर का उद्घाटन से उन्हें उम्मीद थी कि प्रमाण पत्र, स्वास्थ्य कार्ड समेत अन्य आरटीपीएस संबंधित कार्य के लिए प्रखंड मुख्यालय का चक्कर लगाने से छुटकारा मिल जायेगा। इसको लेकर उन्होंने सरकार की यह योजना से काफी खुश थे। पर उद्घाटन के चंद दिन बाद प्रमाण पत्र बनवाने के लिए जैसे ही वे पंचायत मुख्यालय पहुंचे। उन्हें बैरंग लौटना पड़ रहा था। कारण काउंटर पर ताला झुल रहा था। सोनवर्षा पंचायत के सोनू पाण्डेय, अरूण पाण्डेय, नंदजी प्रसाद, लक्ष्मी कुमारी, रूबी कुमारी, सुमन देवी ने बताया कि आवास प्रमाण पत्र बनवाने के लिए वे चार दिन से पंचायत मुख्यालय का चक्कर लगा रही थी। थक हार कर आखिरकार उन्हें प्रखंड मुख्यालय ही पहुंचना पड़ा। इस संबंध में बीडीओ रविन्द्र कुमार ने बताया कि प्रखंड मुख्यालय में अधिक कार्य होने के कारण कम्प्यूटर ऑपरेटर को बुला लिया गया है। कार्य समाप्त होते ही उन्हें पंचायत मुख्यालय भेज दिया जायेगा।

बंद पड़ा सोनवर्षा पंचायत के आरटीपीएस काउंटर ।

खबरें और भी हैं...