इटाढ़ी के कुकुढ़ा गांव में कल होगा रावण वध

Buxar News - असत्य पर सत्य एवं बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक विजय दशमी पर देश भर में रावण का पुतला जलाया जाता है। वही बक्सर...

Oct 13, 2019, 07:05 AM IST
असत्य पर सत्य एवं बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक विजय दशमी पर देश भर में रावण का पुतला जलाया जाता है। वही बक्सर जिले के इटाढ़ी प्रखंड अंतर्गत कुकुढा गांव में रावण को पांच दिन और जिंदा रहने की मोहलत मिल जाती है। सदियाें से चली आ रही परम्परा के अनुसार यहां विजयदशमी से पांच दिनों बाद आश्विन मास की शरद पूर्णिमा को रावण का वध किया जाता है। लेकिन, इस साल आश्विन पूर्णिमा रविवार को पड़ने के चलते इस साल सोमवार को रावण का वध के लिए भगवान श्रीराम वाण चलाएंगे। इसकी तैयारी भी पूरी कर ली गयी है। सदियाें पुरानी इस परम्परा का निर्वाहन आज भी यहां के ग्रामीण बड़े उत्साह व उमंग से करते हैं। रामलीला समिति के अध्यक्ष हरेन्द्र कुशवाहा व रामशीष कुशवाहा ने बताया कि यहां नवरात्र के पहली तिथि से रामलीला का शुभारंभ होता है। यहां की रामलीला की प्रस्तुति भी निराली है। देश भर में जहां रामलीला के अभिनय का प्रदर्शन भगवान श्रीराम के जन्मोत्सव से होता है। वही यहां पहली नवरात्र को शुभारंभ की जाने वाली रामलीला में प्रभू श्रीराम के वन-गमन के दृश्य प्रस्तुति व प्रसंग के साथ रामलीला की शुरुआत की जाती है। क्षेत्र के शिवप्रसाद पांडेय व केदार बारी ने बताया कि रावण वध से एक दिन पूर्व मेघनाथ का वध किया जाता है। इनका कहना है कि शरद पूर्णिमा पर आयोजित होने वाले इस रावण वध कार्यक्रम रविवार व मंगलवार को नही किया जाता है। अगले दिन रावण का वध किया जाता है।

वर्षों से चली आ रही आश्विन पूर्णिमा पर दहन की परंपरा

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना