ग्रामीणों से एसडीएम बोले- शराब निर्माण नहीं करोगे तो रोजगार की व्यवस्था करेंगे

Buxar News - शराब निर्माण के लिए बदनाम हो चुके लाखनडिहरा पंचायत के बंझू डेरा व नोनियाडेरा के ग्रामीण अब शराब को हाथ तक नहीं...

Bhaskar News Network

Nov 11, 2019, 07:17 AM IST
Dumranv News - sdm said to villagers if you do not manufacture liquor you will arrange employment
शराब निर्माण के लिए बदनाम हो चुके लाखनडिहरा पंचायत के बंझू डेरा व नोनियाडेरा के ग्रामीण अब शराब को हाथ तक नहीं लगाएंगे। दोनों गांवों में अब न तो शराब का निर्माण होगा और न ही इसकी तस्करी। बल्कि शराब निर्माण करने की कोशिश करने वालों को गांव के युवा अच्छी सबक भी देंगे। रविवार को एसडीएम हरेन्द्र राम व एसडीपीओ केके सिंह के नेतृत्व में दोनों गांव के युवाओं तथा महिला-पुरूषों की एक संयुक्त बैठक हुई। जिसमें यह निर्णय लिया गया। सभी ग्रामीणों ने प्रशासनिक व पुलिस पदाधिकारियों के समक्ष भविष्य में कभी शराब निर्माण नहीं करने की शपथ भी ली। खास यह कि इस बैठक का आयोजन भी दोनों गांव के युवाओं की पहल के बाद ही किया गया था। जिसका नेतृत्व बंझू डेरा का युवक संतोष कुमार ने किया। संतोष ने ही एसडीएम व एसडीपीओ के साथ अन्य पदाधिकारियों को बैठक का निवेदन किया था। इसके बाद एसडीएम व एसडीपीओ ने रविवार को बैठक का समय निर्धारित किया था।

एकस्वर में शराब नहीं बनाने का संकल्प : बैठक के दौरान ग्रामीण महिला व पुरुषों ने एक स्वर में शराब नहीं बनाने का संकल्प लिया। वही एसडीएम ने शराब निर्माण से विमुक्त हुए लोगों को वैकल्पिक रोजगार देने का आश्वासन भी दिया। वही एसडीएम ने ग्राम रक्षा दल के गठन की बात भी कही। बैठक में एसडीएम व एसडीपीओ के अलावे बीडीओ प्रमोद कुमार, सीओ विजय कुमार सिंह, थानाध्यक्ष संतोष कुमार, लाखनडिहरा पंचायत के मुखिया संतोष कुमार सिंह, ग्रामीण संतोष चौधरी, हरेन्द्र चौधरी, राकेश चौधरी, मनोज चौधरी, बबलू चौधरी, अंटू चौधरी, सत्येन्द्र चौधरी, रविन्द्र चौधरी समेत सैकड़ों ग्रामीण थे।

दोनों गांव के युवाओं ने किया आह्वान अब गांव में नहीं बनाने देंगे शराब

एसडीएम बोले शराब निर्माण से मुक्त लोगों के वैकल्पिक रोजगार की व्यवस्था

शराब निर्माण नहीं करने का शपथ लेते ग्रामीण।

जीविका कार्यक्रम के तहत दिया जाएगा रोजगार

एसडीएम हरेन्द्र राम ने ग्रामीणों के साथ बैठक के दौरान उन्हें आश्वस्त किया कि शराब निर्माण से विमुक्त हुए लोगों को वैकल्पिक रोजगार की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए ग्रामीणों खासकर महिलाओं को जीविका समूह से जोड़ उन्हें लघु व कुटीर उद्योग के लिए ऋण मुहैया कराय जाएगा। एसडीएम ने कहा कि दोनों गांवों में शिविर लगा राशन-किरासन से वंचित उचित लाभुकों का राशन कार्ड बनवाने के लिए आवेदन लिया जाएगा। इसके अलावे जरूरतमंदों को वृद्धा पेंशन, आवास योजना आदि का लाभ नियमपूर्वक दिया जाएगा। इसके अलावे गांव में नली, गली व पेयजल की समस्या का समाधान भी प्राथमिकता के आधार पर होगा। एसडीएम के इस पहल की ग्रामीणों ने करतल ध्वनियों से स्वागत किया। एसडीएम ने कहा कि गांव में शराब निर्माण की निगरानी व इसके रोकथाम के लिए ग्राम रक्षा दल का गठन किया जाएगा। इसके सदस्य इसकी मानिटरिंग करेंगे।

शराब निर्माण वाले गांवों के लिए नजीर बनेंगे दोनों गांव | एसडीपीओ केके सिंह ने कहा कि बंझू डेरा व नोनियाडेरा गांव शराब निर्माण करने वाले अन्य गांवों के लिए नजीर बनेंगे तथा वहा भी जल्दी ही ग्रामीण सामूहिक रूप से शराब निर्माण नहीं करने की शपथ लेंगे। कहा कि वैसे गांवों को चिह्नित कर वहां भी युवाओं व ग्रामीणों में शराब निर्माण रोकने की अलख पुलिस के द्वारा जगाई जाएगी।

शराब निर्माण व तस्करी के लिए बदनाम हो गया था बंझू डेरा व नोनियाडेरा

संतोष की पहल की ग्रामीणों ने की सराहना | नोनियाडेरा का संतोष कुमार आज अपने गांव व बंझू डेरा के साथ ही प्रशासन का चहेता बन गया है। संतोष कुमार ही वह पहला युवक है जिसने शराब निर्माण को गांव के लिए बदनुमा दाग बता नोनियाडेरा व बंझू डेरा के युवकों को इससे तौबा करने के लिए प्रेरित किया। उसी के प्रयास से गांव के पुरूष व महिला भी शराब निर्माण नहीं करने पर राजी हुए।

अधिकारियों के साथ बैठक में उपस्थित ग्रामीण।

पुलिस की लगातार दबिश से युवाओं ने लिया था प्रशासन के साथ बैठक का फैसला

शराब निर्माण से चौपट हो रहा था युवाओं का भविष्य, बदनाम हो रहा था गांव का नाम

बंझू डेरा व नोनिया डेरा गांव में शराब निर्माण से युवाओं का भविष्य चौपट हो रहा था। एक तरफ शराब की लत से युवा पीढ़ी बर्बाद हो रही थी तो दूसरी तरफ दोनों गांव के युवा पुलिस के राडार पर रहते थे। कई युवाओं पर शराब निर्माण व तस्करी का एफआईआर भी दर्ज है। जिससे उनके आगे का भविष्य अंधकारमय दिखाई पड़ने लगा था। शराब निर्माण होने से दोनों गांवों की इज्जत पर भी सवाल उठ रहा था। दूसरे गांव के लोग कई बार इसके लिए ताने भी मारते थे। जिसके बाद युवाओं में चेतना जगी।

Dumranv News - sdm said to villagers if you do not manufacture liquor you will arrange employment
X
Dumranv News - sdm said to villagers if you do not manufacture liquor you will arrange employment
Dumranv News - sdm said to villagers if you do not manufacture liquor you will arrange employment
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना