• Hindi News
  • Bihar
  • Buxar
  • Dumranv News water supply is being done in ward two due to the broken pipe the residents are being forced to drink dirty water the officials remain silent

फटे पाइप से वार्ड दो में हो रही है जलापूर्ति, गंदा पानी पीने को विवश हो रहे हंै शहरवासी, अधिकारी मौन

Buxar News - वार्ड दो स्थित कमल नगर मुहल्ले को जलापूर्ति देने वाले हर घर नल योजना का पाइप वायरलेस टावर के ठीक सामने फट गया है।...

Oct 18, 2019, 07:36 AM IST
वार्ड दो स्थित कमल नगर मुहल्ले को जलापूर्ति देने वाले हर घर नल योजना का पाइप वायरलेस टावर के ठीक सामने फट गया है। जिससे मुहल्ले के लोग गंदा पानी पीने को विवश हैै। पाइप फटने से हर दिन हजारों लिटर पेयजल बर्बाद हो रहा है। वही इससे कमल नगर मुहल्ले के मुख्य निकास द्वार के पास जलजमाव की समस्या भी गंभीर हो गई है। पिछले कई महीनों से यह स्थिति बनी है। दूसरी तरफ फटे पाइप के मरम्मत के प्रति विभाग उदासीन बना हुआ है। जिस कारण मुहल्लेवासियों में गहरा आक्रोश है। मुहल्ले के छोटू सिंह, बबलू सिंह, सुनील कुमार आदि ने कहा कि जलापूर्ति का पाइप फटने से एक तरफ जहां उपभोक्ताओं को गंदा पानी पीने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है वही दूसरी तरफ जलजमाव की समस्या भी गंभीर हो गई है। जिस कारण मुहल्ले में आने जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मुहल्लेवासियों ने कहा कि दो महीना पहले जतकुटवा बस्ती के पास भी पाइप फट गया था। जिसकी मरम्मत विभाग द्वारा कराई गई थी। लेकिन वायरलेस टावर के पास फटे पाइप की मरम्मत नहीं हुई है।

कई जगहों पर फटे पाइप से हो रही है आपूर्ति

डुमरांव में जलापूर्ति योजनाओं के नाम बदलने के बावजूद भी लोगों को फटे पाइपों से मुक्ति नहीं मिल पा रही है। पहले पीएचईडी विभाग द्वारा पाइप बिछा जलापूर्ति की जाती थी। अभी हाल ही में मुख्यमंत्री सात निश्चय योजना के तहत जलापूर्ति की पाइप बिछाया गया है। लेकिन वह पाइप भी फट गया है। जिससे मुख्यमंत्री के इस महत्वाकांक्षी योजना के जमीनी हकीकत को समझा जा सकता है। सूत्रों की मानें तो संवेदकों द्वारा दोयम दर्जे का पाइप बिछाया गया जिस कारण पाइप कुछ ही महीनों में फटने लगे है। वार्ड दो के साथ ही वार्ड चार में मुख्य सड़क के किनारे सहित कई अन्य जगहों पर जलापूर्ति योजना का पाइप फट गया है।

मुहल्ले के पास हुआ जलजमाव।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना