• Hindi News
  • Bihar
  • Buxar
  • Buxar News weather changed due to rain in the past day 2 to 4o temperature dropped due to cold winds

बीते दिन हुई बारिश से बदला मौसम, सर्द हवाओं की वजह से 2 से 4o गिरा तापमान

Buxar News - जिले में मौसम के यू-टर्न लेने के कारण एक बार फिर लोगों की परेशानी बढ़ गई है। शुक्रवार की देरशाम हुई बारिश का असा...

Jan 19, 2020, 06:56 AM IST
Buxar News - weather changed due to rain in the past day 2 to 4o temperature dropped due to cold winds

जिले में मौसम के यू-टर्न लेने के कारण एक बार फिर लोगों की परेशानी बढ़ गई है। शुक्रवार की देरशाम हुई बारिश का असा शनिवार को पूरे दिन देखने को मिला। आलम यह रहा कि दिन भर आकाश में बादल छाए रहने के कारण जिले का तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस गिरावट दर्ज की गई है। जहां अधिकतम तापमान में चार डिग्री, वहीं न्यूनतम तापमान में दो डिग्री की गिरावट हुई। जिले में बीते दिन अधिकतम तापमान 19 डिग्री तथा न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, 83 प्रतिशत आद्रता के साथ छह किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। हालांकि, हवा की रफ्तार कम होने के कारण लोगों को अधिक ठंड से दो-चार नहीं हाेना पड़ा। इसके साथ 24 घंटा कोहरा छाया रहा है। जिसको लेकर मौसम विभाग ने फॉग अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले चार दिनों तक मौसम का हाल कुछ ऐसा ही रहेगा। सुबह और शाम घना धुंध छाया रहेगा। हालांकि दिन में थोड़ी देर के लिए हल्की धूप निकल रही हैं, लेकिन बादलों व हवाओं के कारण उसका असर नहीं दिख रहा हैं। यदि इस बीच पछुआ हवाएं तेज हुईं, तो कोल्ड डे की स्थिति बन सकती है। जिससे लोग दिन भर ठंड से ठिठुरते दिख जाएंगे।



गेहूं की फसल में आवश्यकतानुसार सिंचाई करनी चाहिए


कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि वैज्ञानिक डॉ देवकरन ने बताया कि शुष्क मौसम को ध्यान में रखते हुए 15 से 30 नवंबर के बीच बुआई की गई गेहूं की फसल में आवश्यकतानुसार दूसरी या तीसरी सिंचाई करनी चाहिए। तीसरी सिंचाई के बाद यूरिया का छिड़काव करना चाहिए। दिसंबर में बोए गए गेहूं की फसल में बुआई के 25 से 30 दिन बाद पहली सिंचाई के 4-5 दिन बाद खरपतवारनाशी दवा का छिड़काव करना चाहिए। 50 से 55 दिन की हो चुकी मक्के की फसल को 50 किलोग्राम यूरिया प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करें। उसके तुरंत बाद मिट्टी चढ़ाकर सिंचाई करें। सरसों एवं राई में लाही कीड़े की रोकथाम के लिए इमीडाक्लोरपीड की 0.25 एमएल या डाईमेथोएट 30 प्रतिशत की एक एमएल प्रति लीटर के हिसाब से पानी में घोल कर छिड़काव करना चाहिए।




अगले पांच दिनों का तापमान एक नजर


25

घने कोहरे के बिच जाते युवा

धूप नहीं निकलने के कारण फसलों को हो सकता है नुकसान : आलू की फसल में ब्लाइट रोग के लिए नियमित निगरानी करें। अगर, रोग संक्रमण होता है तो डायथेन एम-45 दो ग्राम या रेडाेमिल डेढ़ ग्राम प्रति लीटर पानी में घोल कर छिड़काव करें। अगर, आलू की फसल में कटा हुआ कीट का प्रकोप देखने को मिले तो क्लोरोपायरीफाॅस 20 ईसी ढाई किलोग्राम एक हजार लीटर पानी में मिला कर प्रति हेक्टेयर के हिसाब से छिड़काव करें। धूप निकलने के बाद गेहूं, चना, सरसों समेत सभी रबी फसलों को फायदा होगा। लेकिन यदि धूप नहीं खिली, तो सबसे अधिक नुकसान सरसों की फसल को पहुंच सकता है। सरसों में लाही पकड़ने का खतरा बढ़ जाता है। अत्यधिक ठंड के कारण इन फसलों की ग्रोथ रुक गई थी लेकिन अब धूप निकलने से फसलें न केवल हरी भरी होगी बल्कि फसलों की ग्रोथ बढ़ेगी और चमक भी आएगी।


ग्रामीण इलाकों में ठंड व कोहरे के कारण जनजीवन अस्तव्यस्त

शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सर्द हवाअाें व धुंध का कहर जारी है। जिसके कारण पूरा जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। सुबह से छाया हुआ घना कोहरा दोपहर बाद तक रहता है जिस कारण लोगों को दैनिक कामों के निपटारे में भी दिक्कतें आ रही है। हाड़ कंपा देने वाली ठंड से जिंदगी ठहर सी गई है। घने कोहरे के कारण हाईवे पर चलने वाले वाहनों की रफ्तार पर भी ब्रेक लग गया है। आलम यह है कि सुबह 9 बजे तक वाहन चालकों को लाइट का सहारा लेना पड़ रहा है। ठंड का ज्यादा असर दैनिक मजदूरी करने वाले मजदूरों पर भी दिखा। ठंड की वजह से शहर में काम स्थगित होने की वजह से कई मजदूरों को निराश होकर वापस लौटना पड़ रहा है।

23

जनवरी

22

जनवरी

20

जनवरी

21

जनवरी

20

10

15

05

19

जनवरी

08

19

09

21

11

21

09

20

09

20

X
Buxar News - weather changed due to rain in the past day 2 to 4o temperature dropped due to cold winds
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना