छह व्यापार मंडल व 17 पैक्सों पर गेहूं की खरीद शुरू, 72.5 एमटी का हुआ है उठाव

Buxar News - लोकसभा चुनाव की व्यस्तता के बीच आखिरकार जिला सहकारिता विभाग ने गेहूं की खरीद शुरू कर दी है। पिछले चार दिनों में एक...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:10 AM IST
Buxar News - wheat procurement started on 6 trade boards and 17 packs 725 mt has been lifted
लोकसभा चुनाव की व्यस्तता के बीच आखिरकार जिला सहकारिता विभाग ने गेहूं की खरीद शुरू कर दी है। पिछले चार दिनों में एक व्यापार मंडल व दो पैक्स से कुल छह किसानों से 72.5 एमटी गेहूं की खरीद की गई है। इस बार गेहूं की खरीद के लिए अब तक छह व्यापार मंडल व 17 पैक्सों को अनुमति दी गई है।इस बावत जिला सहकारिता पदाधिकारी अखिलेश कुमार ने बताया कि सभी प्रखंडों में आठ हजार एमटी गेहूं की खरीद का लक्ष्य रखा गया है। जिले के निबंधित किसानों से ही गेहूं की खरीदारी की जाएगी। कहा कि जिन किसानों ने अब तक रजिस्ट्रेशन नहीं किया है, वह जल्द से जल्द नजदीकी वसुधा केंद्र में जाकर विभागीय साइट पर अपना नाम दर्ज करा लें। उल्लेखनीय है कि इस बार जिले में गेहूं की पैदावार पिछली बार की अपेक्षा काफी अच्छी हुई। लेकिन, ससमय सरकारी उठाव नहीं होने के कारण किसानों को अपनी मेहनत की कमाई बिचौलियों के हाथों में देना पड़ा। जिसके कारण वह सरकारी लाभ पाने से वंचित हो गए है। ऐसे में विभाग ने बाकी बचे किसानों से जल्द से जल्द उठाव करने का निर्णय लिया है।

खलिहान में रखे गेहूं के बोझे।

सिटी रिपोर्टर|बक्सर

लोकसभा चुनाव की व्यस्तता के बीच आखिरकार जिला सहकारिता विभाग ने गेहूं की खरीद शुरू कर दी है। पिछले चार दिनों में एक व्यापार मंडल व दो पैक्स से कुल छह किसानों से 72.5 एमटी गेहूं की खरीद की गई है। इस बार गेहूं की खरीद के लिए अब तक छह व्यापार मंडल व 17 पैक्सों को अनुमति दी गई है।इस बावत जिला सहकारिता पदाधिकारी अखिलेश कुमार ने बताया कि सभी प्रखंडों में आठ हजार एमटी गेहूं की खरीद का लक्ष्य रखा गया है। जिले के निबंधित किसानों से ही गेहूं की खरीदारी की जाएगी। कहा कि जिन किसानों ने अब तक रजिस्ट्रेशन नहीं किया है, वह जल्द से जल्द नजदीकी वसुधा केंद्र में जाकर विभागीय साइट पर अपना नाम दर्ज करा लें। उल्लेखनीय है कि इस बार जिले में गेहूं की पैदावार पिछली बार की अपेक्षा काफी अच्छी हुई। लेकिन, ससमय सरकारी उठाव नहीं होने के कारण किसानों को अपनी मेहनत की कमाई बिचौलियों के हाथों में देना पड़ा। जिसके कारण वह सरकारी लाभ पाने से वंचित हो गए है। ऐसे में विभाग ने बाकी बचे किसानों से जल्द से जल्द उठाव करने का निर्णय लिया है।

लक्ष्य की प्राप्ति बनेगी टेढ़ी खीर :

देरी से गेहूं की अधिप्राप्ति शुरू होने के कारण लक्ष्य की प्राप्ति करना विभाग के लिए टेढ़ी खीर साबित हो सकती है। जानकारों की माने तो गेहूं सालों भर खाने वाला अन्न है। इसलिए किसान, मजदूर सहित अन्य लोग एक वर्ष तक उपयोग करने के मुताबिक गेहूं स्टॉक कर लिया है। शेष बचे हुए अनाज को उन्होंने बिचौलियों को बेच दिया है। ऐसे में विभाग को लक्ष्य प्राप्ति के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगाना पड़ेगा।

इस बार सरकारी समर्थन मूल्य 1840 रुपये प्रति क्विंटल

जिले के गेहूं खरीदारी को लेकर विभाग ने किसानों से न्यूनतम गेहूं की खरीदारी की सीमा निर्धारित कर दी है। जानकारी के अनुसार समान्य किसानों से करीब 150 क्विंटल तथा बटाईदारों से करीब 50 क्विंटल तक गेहूं की खरीदारी की जा सकती है। विभाग के अनुसार गेहूं की खरीदारी के लिए सरकारी समर्थन मूल्य 1840 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित की गई है। इसी मूल्य पर जिले के चिन्हित पैक्स किसानों से गेहूं की खरीदारी करेंगे। लेकिन विभागीय अफसरों की माने तो बाजार मूल्य व विभाग के समर्थन मूल्य में अधिक अंतर नहीं होने के कारण खरीदारी प्रभावित हो सकता है। उधर बिचौलिए किसानों से कम मूल्य पर गेहूं खरीद रहे है। सूत्रों कि माने तो जिले में बिचौलिए करीब 1500 से 1600 रुपए प्रति क्विंटल की दर से किसानों से गेहूं की खरीदारी कर रहे है। लेकिन सहकारिता विभाग बिचौलियों पर अंकुश लगाने के लिए कोई कारगर कदम नहीं उठाया है।

चुनाव के बाद आएगी गेहूं के उठाव में तेजी लोकसभा चुनाव के कारण अभी गेहूं के उठाव में तेजी नहीं आई है। चुनाव के बाद उठाव में तेजी आएगी। साथ ही, जिले के शेष बचे हुए पैक्सों को भी टैग किया जाएगा, जिससे अधिक से अधिक गेहूं का उठाव हो सके। साथ ही, किसानों को बिचौलियों के हाथों अनाज नहीं बेचने को लेकर जागरूकता फैलाई जाएगी। ताकि, उन्हें गेहूं के समर्थन मूल्य का लाभ मिल सके। अखिलेश कुमार, डीसीओ, बक्सर

X
Buxar News - wheat procurement started on 6 trade boards and 17 packs 725 mt has been lifted
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना