• Hindi News
  • Bihar
  • Chhapra
  • Chhapra News diarrhea spread in water logged areas of saran till date 3 children die more than 150 people sick

सारण के जलजमाव वाले इलाकों में फैला डायरिया अबतक 3 बच्चों की मौत, 150 से अधिक लोग बीमार

Chhapra News - शहरी व ग्रामीण इलाकों में अभी भी जलजमाव की स्थिति है। जिससे डायरिया का प्रकोप तेजी से बढ़ गया है। केवली शहर के स्लम...

Oct 15, 2019, 09:10 AM IST
शहरी व ग्रामीण इलाकों में अभी भी जलजमाव की स्थिति है। जिससे डायरिया का प्रकोप तेजी से बढ़ गया है। केवली शहर के स्लम बस्ती से अब तक 150 से अधिक लोग डायरिया के चपेट में आ चुके है। जिनका सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है। शहर के रुपगंज,साहेबगंज खनुआ नाला के आस-पास की बस्ती व निचले इलाकों में जलजमाव की हालत है। जिससे लोगों को संक्रामक रोग फैल रहे है।

वहीं मुफस्सिल थाना क्षेत्र के लाल बाजार मुसहर टोली में डायरिया का प्रकोप थम नहीं रहा है। एक दर्जन बच्चे डायरिया के संक्रमण के शिकार हो गये, जिन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। गांव में डायरिया के प्रकोप का शिकार होने के कारण दो बच्चियों की मौत हो गई थी और कई अन्य आक्रांत थे। इसके पहले भी एक बच्चे की डायरिया से मौत हो गई है। इसकी सूचना मिलने के बाद सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा ने मेडिकल टीम को गांव में भेजकर डायरिया के शिकार बच्चों का इलाज कराया।

डायरिया काे लेकर छिड़काव करते टीम

डायरिया काे लेकर छिड़काव करते टीम

डायरिया से पीड़ित दो बच्चे सदर अस्पताल में भर्ती, मेडिकल टीम कर रही है दवाओं का वितरण

छपरा| जिले में बाढ़ व जलजमाव के बाद बढ़ रही डायरिया के प्रकोप को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट मोड में आ गया है। सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने मेडिकल टीम का गठन कर दिया है। मेडिकल टीम मुफस्सिल थाना क्षेत्र के लाल बाजार मुसहर टोली में पहुंचकर डायरिया से पीड़ित बच्चों का इलाज किया। टीम के द्वारा जरूरी दवाओं व ओआरएस के पैकेट का वितरण भी किया गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से वहां पर एंबुलेंस की भी सुविधा मुहैया करायी गयी है। वहीं मेडिकल टीम के द्वारा उस इलाके में ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया गया तथा डायरिया बचाव को लेकर लोगों के बीच जागरूकता फैलायी गयी।जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉ. दिलीप कुमार सिंह ने बताया बाढ़ जल-जमाव के कारण उस इलाके में डायरिया का प्रकोप बढ़ गया है। शुक्रवार को दो बच्चियों की मौत हो गयी थी। जिसके बाद से लगातार मेडिकल टीम वहां पर कैंप कर रही है। डायरिया से पीड़ित अन्य दो बच्चों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जलजमाव इलाके में किया जा रहा है ब्लीचिंग पाउडर

अब जल -जमाव के बाद बीमारियों का खतरा बढ़ गया है और इसके मद्देनजर अस्पताल में आवश्यक सभी दवाओं का स्टॉक रखा गया है। जरूरी दवाइयां पैरासिटामॉल, ओआरएस, ओंडेम, जिंक आदि दवाएं मौजूद है। जहां भी जमीन सूख रही है, उन इलाकों में ब्लीचिंग पाउडर और चूने का छिड़काव किया जा रहा है।

सभी पीएचसी को दिया गया है ब्लीचिंग पाउडर

सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्व झा ने बताया डायरिया को लेकर स्वास्थ्य विभाग गंभीर है और इससे निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में ब्लीचिंग पाउडर उपलब्ध करा दी गयी है। साथ हीं सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि जल-जमाव व बाढ वाले इलाकों ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव सुनिश्चित करें।

थम नहीं रहा है डायरिया का प्रकोप एक दर्जन से अधिक बच्चे आक्रांत

मेडिकल टीम प्रभावित इलाकों भेजा गया है

डायरिया से दो बच्चियों की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। सीएस ने मेडिकल टीम का गठन किया। जिसमें सदर अस्पताल के डा. राकेश कुमार, जिला स्वास्थ्य समिति के एमएनई भानू शर्मा, डीसीएम बिजेंद्र कुमार सिंह तथा अन्य चिकित्सा कर्मियों को शामिल किया गया और टीम को डायरिया से प्रभावित लाल बाजार मुसहर टोली में भेजा गया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना