• Hindi News
  • Bihar
  • Darbhanga
  • Darbhanga News 39auspicious day today o pahun chhathi oil and uthu uthu uthu sundar jaayi chhi abhiyaar sapahnhu roop nahi bhetate39

‘मंगलमय दिन आजु हे पाहुन छथि आयल व उठू उठू सुंदर जाय छी विदेशर सपनहु रूप नहि भेटत’ से गूंजा महफिल

Darbhanga News - 47वें मिथिला विभूति पर्व समारोह के सांस्कृतिक कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत संध्या सात बजे दीप प्रज्वलन के साथ किया...

Nov 11, 2019, 07:10 AM IST
47वें मिथिला विभूति पर्व समारोह के सांस्कृतिक कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत संध्या सात बजे दीप प्रज्वलन के साथ किया गया। पूर्व एमएलसी डॉ. विनोद कुमार चौधरी की अध्यक्षता में संयुक्त रूप से संस्कृत विवि के पूर्व कुलपति डॉ देव नारायण झा, डॉ विनोद चौधरी, संस्थान के महासचिव डॉ वैद्यनाथ चौधरी बैजू व नगर विधायक संजय सरावगी ने किया। उसके बाद बीपीएससी में मैथिली भाषा से उतीर्ण बसहा निवासी शिवाशीष कुमार को मिथिला विभूति से सम्मानित किया गया। सम्मान कार्यक्रम के बाद अनुपमा मिश्र के स्वर में मंगलमय दिन आजु हे पाहुन छथि आयल गीत से आगत अतिथियों का स्वागत किया गया। स्वागत गीत के बाद डॉ. सुषमा झा के स्वर में विद्यापति गीत उठू उठू सुंदर जाय छी विदेशर सपनहु रूप नहि भेटत उदेश्वर के साथ कार्यक्रम को बढ़ाया गया। जिसके बाद स्वागत भाषण करते हुए विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव ने कहा कि यह समारोह संपूर्ण मिथिलांचल वासी व मैथिली बोलने वाले राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय लोगों का समारोह है। यह समारोह पूरे मिथिलांचल वासी के सहयोग से ही संभव है। स्वागत भाषण के बाद नटराज डांस एकेडमी की ओर से गणेश वंदना और ओडिशी नृत्यांगना प्रियांशी मिश्रा की भगवती वंदना पर हुई नृत्य ने पंडाल में उपस्थित दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। साथ ही बाल गायक प्रभाष कुमार के स्वर गाई गयी मिथिला वर्णन को भी खूब वाहवाही मिली।

ओडिशी नृत्यांगना प्रियांशी मिश्रा की भगवती वंदना ने नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया

सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत करते अतिथि।

सृष्टि फाउंडेशन की नृत्यांगना प्रियांशी मिश्रा ने बांधा समा | रविवार को कवि कोकिल विद्यापति के निर्वाण दिवस पर विद्यापति सेवा संस्थान की ओर से आयोजित होने वाले मिथिला विभूति पर्व समारोह की शुरुआत रंगारंग व भव्यतम हुई। आज के सांस्कृतिक कार्यक्रम में दरभंगा के प्रसिद्ध व प्रचलित नृत्य संस्थान सृष्टि फाउंडेशन की ओडीसी नृत्यांगना प्रियांशी मिश्रा ने अपने मनमोहक नृत्य से कार्यक्रम में चार चांद लगा दिया। प्रियांसी मिश्रा ने जय जय भैरवी असुर भयावन पर नृत्य प्रस्तुत कर माहौल को रंग में बना दिया। ओडीसी वेशभूषा और भाव भंगिमा से ओतप्रोत मिश्रा ने अपनी प्रस्तुति से उपस्थित दर्शकों को मंत्र मुग्ध कर दिया।

भास्कर न्यूज| दरभंगा

47वें मिथिला विभूति पर्व समारोह के सांस्कृतिक कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत संध्या सात बजे दीप प्रज्वलन के साथ किया गया। पूर्व एमएलसी डॉ. विनोद कुमार चौधरी की अध्यक्षता में संयुक्त रूप से संस्कृत विवि के पूर्व कुलपति डॉ देव नारायण झा, डॉ विनोद चौधरी, संस्थान के महासचिव डॉ वैद्यनाथ चौधरी बैजू व नगर विधायक संजय सरावगी ने किया। उसके बाद बीपीएससी में मैथिली भाषा से उतीर्ण बसहा निवासी शिवाशीष कुमार को मिथिला विभूति से सम्मानित किया गया। सम्मान कार्यक्रम के बाद अनुपमा मिश्र के स्वर में मंगलमय दिन आजु हे पाहुन छथि आयल गीत से आगत अतिथियों का स्वागत किया गया। स्वागत गीत के बाद डॉ. सुषमा झा के स्वर में विद्यापति गीत उठू उठू सुंदर जाय छी विदेशर सपनहु रूप नहि भेटत उदेश्वर के साथ कार्यक्रम को बढ़ाया गया। जिसके बाद स्वागत भाषण करते हुए विद्यापति सेवा संस्थान के महासचिव ने कहा कि यह समारोह संपूर्ण मिथिलांचल वासी व मैथिली बोलने वाले राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय लोगों का समारोह है। यह समारोह पूरे मिथिलांचल वासी के सहयोग से ही संभव है। स्वागत भाषण के बाद नटराज डांस एकेडमी की ओर से गणेश वंदना और ओडिशी नृत्यांगना प्रियांशी मिश्रा की भगवती वंदना पर हुई नृत्य ने पंडाल में उपस्थित दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। साथ ही बाल गायक प्रभाष कुमार के स्वर गाई गयी मिथिला वर्णन को भी खूब वाहवाही मिली।

शोभायात्रा के साथ तीन दिवसीय मिथिला विभूति पर्व समारोह का हुआ आगाज, झांकी में दिखी मिथिला की कला व संस्कृति

दरभंगा| महाकवि विद्यापति के निर्वाण दिवस कार्तिक त्रयोदशी के अवसर पर विद्यापति चौक स्थित विद्यापति की प्रतिमा पर पद्मश्री डॉ सी पी ठाकुर के माल्यार्पण व शोभायात्रा के साथ ही तीन दिवसीय मिथिला विभूति पर्व समारोह की विधिवत शुरूआत की गयी। शोभायात्रा प्रभारी विनोद कुमार झा एवं प्रो. विजय कांत झा व संस्थान के महासचिव डॉ. वैद्यनाथ चौधरी बैजू के नेतृत्व में निकली शोभा यात्रा में मैथिली लोक गीतों व मिथिला की गौरवशाली इतिहास को दर्शाती झांकी में हजारों की संख्या में आम मैथिल जन एवं मिथिलाकर साक्षरता अभियान के अभियानी शामिल हुए। शोभा यात्रा में शामिल लोग अपनी गौरवशाली परंपरा एवं धरोहर लिपि को संरक्षित करने एवं इसे व्यवहार में लाने सहित पृथक मिथिला राज्य के गठन की मांग से संबंधित नारे के साथ विवि परिसर पहुंच परिसर में लगी प्रतिमाओं पर माल्यार्पण किया। शोभा यात्रा प्रभारियों ने कहा कि इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य मिथिला मैथिली की गौरवशाली परंपरा एवं धरोहर से आमजन को अवगत कराना है। नगर विधायक संजय सरावगी, पूर्व विधान पार्षद डॉ. विनोद कुमार चौधरी, कामेश्वर सिंह संस्कृत विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डाॅ देवनारायण झा, मैथिली अकादमी के पूर्व अध्यक्ष पं कमला कांत झा, रूसा के पूर्व उपाध्यक्ष डॉ कामेश्वर झा, एमएलएसएम कॉलेज के प्रधानाचार्य डाॅ विद्या नाथ झा, पूर्व प्रधानाचार्य डाॅ अनिल कुमार झा, हीरा कुमार झा, पं विष्णु देव झा विकल, इग्नू के निदेशक, रामकुमार झा, हरि सहनी, आदित्य नारायण चौधरी आदि ने भी महाकवि की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और शोभा यात्रा में शामिल हुए। मौके पर संस्थान के स्वागत महासचिव प्रो जीवकांत मिश्र, राकेश मिश्र, चंद्रशेखर झा बूढ़ा भाई, प्रवीण कुमार झा, पं नारायण झा, डॉ. गणेश कांत झा, गुणानंद चौधरी, डॉ. उदय कांत मिश्र, आशीष चौधरी, मणि भूषण राजू, कृष्ण कांत झा, परमानंद झा, उग्र नाथ झा, हरे कृष्ण झा, कांत झा, बमबम झा, पूजा कश्यप, हरि किशोर चौधरी प्रवीण चौधरी, राम विनोद झा, रंजीत चौधरी, राजेश कुमार चौधरी एवं अरुण कुमार झा आदि मौजूद थे।

नृत्य प्रस्तुत करती ओडीसी नृत्यांगना।

विद्यापति पर्व समारोह को लेकर निकली शोभा यात्रा में शामिल लोग।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना