• Hindi News
  • Bihar
  • Darbhanga
  • Darbhanga News in the next 2 to 3 months in darbhanga medical college and hospital the process of cornea transplant in the bank can begin

दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में अगले 2 से 3 महीने में आई बैंक में कार्निया प्रत्यारोपण की प्रक्रिया शुरू हो सकती है

Darbhanga News - दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (डीएमसीएच) में अगले 2 से 3 महीने में आई बैंक में कार्निया प्रत्यारोपण की प्रक्रिया...

Feb 11, 2020, 07:25 AM IST
Darbhanga News - in the next 2 to 3 months in darbhanga medical college and hospital the process of cornea transplant in the bank can begin

दरभंगा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (डीएमसीएच) में अगले 2 से 3 महीने में आई बैंक में कार्निया प्रत्यारोपण की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से कवायद तेज हो चुकी है। इसके मद्देनजर सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की 2 सदस्यीय टीम ने आई बैंक का जायजा लिया। टीम में स्वास्थ्य सेवा पटना के निदेशक डॉ. तपेश्वर प्रसाद एवं ब्लाइंड स्वास्थ्य सेवा पटना के एसपीओ डॉ. हरिशचंद्र ओझा शामिल थे। मौके पर अधीक्षक डॉ. आरआर प्रसाद, उपाधीक्षक डॉ. बालेश्वर सागर, डॉ. मणिभूषण शर्मा उपस्थित थे। दोनों अधिकारियों ने आई बैंक में पहुंचकर उपकरणों व संसाधनों का जायजा लिया। इस दौरान टीम ने नेत्र विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अल्का झा से बात कर विस्तार से जानकारी भी ली। बिहार मेडिकल सर्विस एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (बीएमएसआइसीएल) की ओर से आई बैंक में प्रयुक्त होने वाले कई उपकरण पहले ही मुहैया करा दिए गए हैं। इसके तहत स्टेप्लर, माइक्रोस्कोप, हैवी बटन, माइनर सर्जरी, लैंप, कानियल बटन, आई इस्ट्रूमेंट आदि उपकरण उपलब्ध करा दिए गए हैं। वहीं अन्य आवश्यक उपकरण अभी आना बाकी है। लैब फ्रिज के लिए डिमांड भेजा गया है। कार्निया प्रत्यारोपण में मरीज की खराब और अपारदर्शी आंख के कार्निया को निकालकर स्वस्थ एवं पारदर्शी कार्निया लगाया जाता है। प्रत्यारोपण के लिए कार्निया आई बैंक से प्राप्त होता है। आई बैंक में नेत्रदान के इच्छुक लोगों से उनकी मृत्यु के पश्चात 6 घंटे के भीतर कार्निया एकत्रित किया जाता है। आई बैंक में कार्निया की जांच की जाएगी। डॉक्टरों के अनुसार प्रत्यारोपण का निर्णय डॉक्टर मरीज की आंखों की स्थिति एवं स्वस्थ कार्निया की उपलब्धता के आधार पर करते हैं। डोनर कार्निया की कमी होने की स्थिति में सर्जरी में विलंब हो जाता है। कार्निया प्रत्यारोपण सर्जरी की सफलता के लिए आंखों के पर्दे रेटिना एवं आंख के नस का स्वस्थ होना अनिवार्य है। कार्निया प्रत्यारोपण एक जटिल प्रक्रिया है। ऑपरेशन के बाद रोशनी में धीरे-धीरे सुधार आता है।

एक व्यक्ति से दान में मिले कार्निया 2 नेत्र बाधित लोगों की जिंदगी में राेशनी ला सकती : डॉ. आरआर

अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरआर प्रसाद कहा कि कार्निया प्रत्यारोपण शरीर के अन्य अंगों के प्रत्यारोपण की तुलना में सबसे ज्यादा किया जाने वाला एवं सबसे सफल प्रत्यारोपण है। प्रत्यारोपण का कार्य नेत्रदान के लिए इच्छुक लोगों से मरणोपरांत एकत्रित किया जाता है। एक व्यक्ति के द्वारा दान में दिए गए कार्निया 2 नेत्र बाधित लोगों की जिंदगी में रोशनी ला सकते हैं। इसलिए नेत्र दान को महादान की संज्ञा दी जाती है। ऐसे व्यक्ति जिन्होंने नेत्रदान का संकल्प किया है उनकी मृत्यु के पश्चात उनके नेत्र संग्रहित किए जाते हैं। आई बैंक में उसी नेत्र को नेत्र बाधित मरीजों में प्रत्यारोपित किया जाता है। जल्द ही डीएमसीएच परिसर में आई बैंक शुरू होने की संभावना है।

डीएमसीएच के आई बैंक का निरीक्षण करती दो सदस्यीय टीम।

X
Darbhanga News - in the next 2 to 3 months in darbhanga medical college and hospital the process of cornea transplant in the bank can begin

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना