भारतीय आश्रम व्यवस्था वैज्ञानिक : डॉ. मार्कंडेय

Darbhanga News - सीएम कॉलेज में इंडक्शन प्रोग्राम के अंतिम दिन शनिवार को विभिन्न विभागों में विशेष व्याख्यान, रचनात्मक कार्यक्रम...

Sep 14, 2019, 07:27 AM IST
Darbhanga News - indian ashram system scientist dr markandeya
सीएम कॉलेज में इंडक्शन प्रोग्राम के अंतिम दिन शनिवार को विभिन्न विभागों में विशेष व्याख्यान, रचनात्मक कार्यक्रम तथा क्षेत्र-भ्रमण आदि कराया गया। अंत में छात्र-छात्राओं से फीडबैक भी लिए गए। संस्कृत, गणित एवं दर्शनशास्त्र विभाग में आयोजित कार्यक्रम में लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ, नई दिल्ली के सांख्य-योग के विभागाध्यक्ष डॉ. मार्कंडेय नाथ तिवारी ने प्रथम सत्र में भारतीय संस्कृति की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति विश्व में सर्वश्रेष्ठ संस्कृति है। ईश्वर सर्वव्यापक, सर्वशक्तिमान तथा ज्ञानमय हैं। इन्हें ही हम विभिन्न रूपों में देखते और समझते हैं। सांसारिक माया मोह को त्याग कर जिन्होंने अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण कर लिया, वे देवतुल्य हो जाते हैं। भारतीय संस्कृति की चार आश्रम-व्यवस्था पूर्णतया व्यावहारिक एवं वैज्ञानिक है। हमारी संस्कृति हमें आपस में जोड़ती है व व्यक्ति को आदर्श मानव बनाने का प्रयास करती है।

भावना पर आधारित होता है संबंध : प्रो. विकास कुमार

अर्थशास्त्र के प्राध्यापक प्रो. विकास कुमार ने मानवीय संबंधों की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि संबंध भावना पर आधारित होता है। इसमें दोनों पक्ष एक-दूसरे के पूरक तथा अाश्रित होते हैं। सिर्फ उम्मीदों पर संबंध नहीं टिकता, बल्कि कृतज्ञता तथा दोनों की बराबर संतुष्टि जरूरी है। गलतफहमी से नाराजगी होने पर संबंध टूटता है। मानवीय संबंध बनाए रखने के लिए दोनों पक्षों को एक-दूसरे की भावनाओं का ख्याल रखना आवश्यक है। स्नातकोत्तर अंग्रेजी विभाग के छात्र-छात्राएं एवं शिक्षक, शिक्षिकाएं विभागाध्यक्ष प्रो. इंदिरा झा के नेतृत्व में पुअर होम स्थित नेत्रहीन विद्यालय में गए। जहां डॉ. सीमा कुमार ने सामाजिक दायित्व में छात्रों की भूमिका विषय पर विचार व्यक्त किए।

X
Darbhanga News - indian ashram system scientist dr markandeya
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना