‘फंडामेंटल प्रिंसिपल्स ऑफ मॉलीक्यूलर स्पैक्ट्रोस्कोपी’ का किया मैथिली अनुवाद

Darbhanga News - स्थानीय एमएलएसएम कॉलेज के रसायन विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष व साहित्य अकादमी नई दिल्ली में मैथिली के संयोजक...

Jul 25, 2019, 07:15 AM IST
स्थानीय एमएलएसएम कॉलेज के रसायन विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष व साहित्य अकादमी नई दिल्ली में मैथिली के संयोजक प्रोफेसर प्रेम मोहन मिश्र ने सीएन बैनवेल और एलिन द्वारा लिखी पुस्तक “फंडामेंटल प्रिंसिपल्स ऑफ मॉलीक्यूलर स्पैक्ट्रोस्कोपी” का मैथिली अनुवाद “आण्विक वर्णपट विज्ञानक मौलिक सिद्धांत” की पहली प्रति उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को बुधवार को नई दिल्ली में भेंट की।

मौके पर उपराष्ट्रपति ने कहा कि वैज्ञानिक अध्ययन और अनुसंधान तथा वर्णित तथ्यों के प्रचार प्रसार के लिए तकनीकी और वैज्ञानिक पुस्तकों का अनुवाद भारतीय भाषाओं में किया जाना चाहिए। श्री नायडू ने कहा कि भारत में प्रचलित सभी भाषाएं भारतीय भाषा हैं। उपराष्ट्रपति ने बताया कि मैथिली में रसायन विज्ञान की पुस्तक के अनुवाद से प्रसन्नता हुई है। उन्होंने अनुवादक श्री मिश्र को इस कार्य के लिए बधाई दी। उपराष्ट्रपति के आवास पर आयोजित इस कार्यक्रम के अवसर पर सांसद गोपालजी ठाकुर ने मिथिला और मैथिली के विषय में जानकारी दी। प्रो. प्रेम मोहन मिश्र ने पुस्तक भेंट करने के साथ ही विज्ञान और तकनीक की पुस्तकों के अनुवाद से छात्रों को मिलने वाले लाभ की चर्चा की। उन्होंने उपराष्ट्रपति को अपनी मैथिली की अन्य पुस्तकें भी भेंट की। मौके पर अखिल भारतीय मिथिला संघ के महासचिव विद्यानंद ठाकुर, मैथिली साहित्य महासभा के अध्यक्ष अमरनाथ झा एवं पत्रकार व साहित्यकार ब्रह्मेंद्र झा भी उपस्थित थे। प्रो मिश्र ने बताया कि मैथिली भाषा में यह किसी भी पाठ्य-पुस्तक का पहला अनुवाद है ।

अनुवाद की गई पुस्तक की पहली प्रति उपराष्ट्रपति को देते प्रेम मोहन मिश्र।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना