अपने चार साथियों की जान बचाकर खुद शहीद हो गया सेना का जवान पुरुषोत्तम

Gaya News - जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में पोस्टेड गया का बेटा पुरुषोत्तम कुमार हिमस्खलन में फंसे नौ साथियों में से चार साथियों...

Jan 16, 2020, 07:26 AM IST
Gaya News - after saving the life of his four comrades he became a martyr himself
जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में पोस्टेड गया का बेटा पुरुषोत्तम कुमार हिमस्खलन में फंसे नौ साथियों में से चार साथियों की जान बचा खुद भी शहीद हो गया। शहीद पुरुषोत्तम का शव 14 जनवरी की शाम 05:00 बजे बर्फ के दल-दल में काफी छानबीन के बाद बरामद किया गया, जबकि उनके साथ रहे चार अन्य साथी जवान का शव 13 जनवरी को ही सैन्य अधिकारियों ने बरामद कर लिया गया था। शहीद के पिता शिवराम ठाकुर ने बताया कि 13 जनवरी की दोपहर 03:30 में जम्मू के सैन्य अधिकारियों ने सूचना दी कि पेट्रोलिंग पर निकले नौ जवान हिमस्खलन में फंस गए है। चार जवानों को उनके बेटे शहीद पुरुषोत्तम ने बचा लिया। इसी बीच आए तेज तूफान में वह दोबारा बचे हुए चार साथियों के साथ बुरी तरह फंस गया। गाड़ी में रहने से चार जवानों के शव को तुरंत बरामद कर लिया गया, पर आपके बेटे पुरुषोत्तम की तलाश जारी है। घर वालों को मिली इस सूचना के बाद से चीत्कार मच गई। प|ी, बेटे व बेटियों की रो-रो कर हालत खराब हो गई है। लगातार गया आर्मी के डॉक्टर शहीद की प|ी का इलाज कर रहे हैं। इसके बाद 14 जनवरी की शाम 05:00 बजे शहीद का शव बरामद किया गया।

शहादत

जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में थे पोस्टेड

13 जनवरी को पेट्रोलिंग के दौरान हिमस्खलन में फंसे थे नौ जवान, 14 को मिला पुरुषोत्तम का शव

13 जनवरी को ही 4 जवानों का शव हुआ था बरामद, बर्फबारी के कारण अबतक गया नहीं पहुंचा जवान का शव

शहीद की प|ी अपने बच्चों के साथ रोते-बिलखती। - फोटो-आकाश

लगातार बर्फबारी के कारण अब तक नहीं पहुंच सका है शव

श्रीनगर कुपवाड़ा माछिल सेक्टर में लगातार बर्फबारी के कारण अब तक शहीद का शव नहीं पहुंचा है। परिजन लगातार जम्मू के सैन्य अधिकारियों से बातचीत कर रहे हैं। सैन्य अधिकारियों द्वारा आश्वासन दिया जा रहा है, कि जैसे ही बर्फबारी रुकती है, शहीद का शव राष्ट्रीय सम्मान के साथ गया लाया जाएगा। बता दें शहीद जवान जम्मू कश्मीर के कूपवाड़ा दुधी में पोस्टेड था।

गया कॉलेज से की थी बीए पार्ट-वन की पढ़ाई

शहीद के पिता ने बताया कि उनका बड़ा बेटा काफी होनहार था। मैट्रिक का एग्जाम गया हाई स्कूल से दिया। इसके बाद इंटर की पढ़ाई महेश सिंह यादव कॉलेज से पूरी की। ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए गया कॉलेज में एडमिशन कराया। पार्ट वन की परीक्षा भी दी और पार्ट टू में एडमिशन कराया। इसी वक्त सेना में चयन हो गया। पहली पोस्टिंग जम्मू में ही थी। इसके बाद बिकानेर, जोधपुर में भी ड्यूटी की। यहां से फिर जम्मू के कुपवाड़ा दूधी में कार्यरत था। सेना में ज्वाइंन के बाद 2005 में गया में भव्य तरीके से विवाह हुआ था। शहीद की दो बेटियां और एक बेटा है।

तुम अपनी सेहत का ख्याल रखना, यहां बर्फबारी काफी हो रही है, हो सकता है कल से कॉल आए या नहीं...

तुम ठीक से रहना...। अपनी सेहत का ख्याल रखना...। यहां बर्फबारी काफी हो रही है। हो सकता है कल से कॉल आएगा या नहीं...। 12 जनवरी को आखिरी बार शहीद जवान पुरुषोत्तम ने इन्हीं चंद शब्दों में अपनी प|ी अर्चना से बात की। प|ी की सेहत की चिंता पुरुषोत्तम को अक्सर लगी रहती थी। प|ी अर्चना ने कहा कि मुझे क्या पता था? कि ये तीन शब्द उनके आखिरी शब्द है। इतना कह फिर से रोने लगी। बता दें कि 14 जनवरी को जब जम्मू के सैन्य अधिकारियों का फोन आया कि पुरुषोत्तम कुमार शहीद हो गए है तो यह बात सुन प|ी बेहोश हो गई। गया आर्मी के डॉक्टर शहीद की प|ी का इलाज कर रहे हैं। रो-रोकर प|ी का बुरा हाल हो गया है। जूबां पर सिर्फ एक ही शब्द है कि हर वक्त वे मुझसे मेरी सेहत के बारे में पूछते थे। जानकारी हो कि शहीद की प|ी नवादा शाहपुर की रहने वाली है। यहीं से ग्रेजुशन की पढ़ाई भी पूरी की थी। शहीद पुरुषोत्तम की दो बेटियां और एक बेटा है। सबसे बड़ी बेटी 12 साल की अनामिका कुमारी व छोटी बेटी छह साल की लधिमा कुमारी है। नौ साल का एक बेटा पुष्कर है। तीनों बच्चे आर्मी स्कूल गेट नंबर पांच में पढ़ाई कर रहे हैं। सबसे छोटी बेटी को समझ में ही नहीं आ रहा कि आखिर मां क्यूं रो रही है? मां की गोद में बैठ उसके आंसू को पोंछती दिखीं। नन्हीं सी बेटी को पता ही नहीं कि उसके सर से उसके पिता का साया उठ चुका है। दादा सभी पोता-पोतियाें को दिलासा दे रहे है कि वह हैं, सब ठीक हो जाएगा।

 12 जनवरी को शहीद पुरुषोत्तम ने आखिर बार अपनी प|ी अर्चना से की थी बात

पुरुषोत्तम था बड़ा बेटा, मंझला बेटा एनएसजी का ब्लैक कमांडो, छोटा बेटा इंजीनियरिंग

 छह साल की बेटी लधिमा को मालूम ही नहीं कि उसके सर पर उठ चुका है पिता का साया

पिता ने कहा-उत्साह था देश को दो वीर सुपुत्र दिया

जब मेरे दो बेटे देश की सुरक्षा में कमान संभाले हुए थे। सीना चौड़ा था। उत्साह था देश को दो वीर सुपुत्र दिया। आज बड़ा बेटा शहीद हो गया है। गम है पर एक खुशी भी है कि उसने अंतिम घड़ी में भी खुद के जान की चिंता न की और अपने चार साथी को बचा लिया। बेटा पुरुषोत्तम काफी होनहार था। घर, परिवार सब की चिंता थी उसे। जब भी घर आता, पूरे मन से सारे काम करता। आंखों में नमी के बीच शहीद के पिता शिवराम ठाकुर ये बातें कहीं। कहा कि उनका बेटा पुरुषोत्तम नवंबर 2019 में ही एक माह की छुटिट्यों पर गया आया था। घर की बांड्री का कार्य कराया। 08 दिसंबर को जाने के वक्त मैने कहा कि बेटा अब मुझे मेरी जिम्मेवारी से मुक्त करो। कुछ दिन बचे है तीर्थस्थल पर जाना है। इस पर शहीद पुरुषोत्तम ने कहा कि पापा अगली बार जब मैं गया आऊंगा तो आपको जरूर तीर्थस्थल पर भेजूंगा। पिता ने कहा कि मुझे क्या पता कि मुझे तीर्थस्थल पर भेजने की बात कह खुद ही दुनियां छोड़ कर चला जाएगा। इतना कहते ही फिर पिता के आंखें नम हो गई। वहीं मृतक पुरुषोत्तम का मंझला भाई भी दिल्ली में एनएसजी का ब्लैक कमांडो है। भाई की मौत पर वह भी सहम गया है। वहीं शहीद का छोटा भाई बंगलौर में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा हैं। पिता शिवराम ठाकुर गवर्नमेंट प्रेस गया में वेंडर थर्ड ग्रेड में कार्यरत थे।

Gaya News - after saving the life of his four comrades he became a martyr himself
X
Gaya News - after saving the life of his four comrades he became a martyr himself
Gaya News - after saving the life of his four comrades he became a martyr himself
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना