होटलों के रेट में आएगी गिरावट, टूरिज्म सेक्टर से छिनेगी नौकरी

Gaya News - कोरोना संक्रमण के दहशत का सबसे बुरा असर हॉस्पिटेलिटी व टूरिज्म सेक्टर पर पड़ा है। पूरी दुनिया लाॅक डाउन है, लोगों...

Apr 08, 2020, 07:05 AM IST

कोरोना संक्रमण के दहशत का सबसे बुरा असर हॉस्पिटेलिटी व टूरिज्म सेक्टर पर पड़ा है। पूरी दुनिया लाॅक डाउन है, लोगों की आवाजाही ठप है। संभावना है कि इस लाॅक डाउन के दूरगामी नकारात्मक असर होगें। इससे लोगों के रोजगार के अवसर घटेंगे। होटलों का रूम टैरिफ घटेगा और उसकी आक्यूपेंसी भी। होटलों में आपस में रूम टैरिफ प्राइस वार भी छिड़ सकता है। बोधगया होटल व्यवसाय पहले से ही मंदी का मार झेल रही है, ऐसे में उनका वजूद बचाए रखना काफी मुश्किल होगा। होटल एसोसिएशन ने सरकार को इस सेक्टर के लिए पैकेज की मांग की है व कहा है, फिलहाल बिजली बिल में राहत दे। खाली होटल में भी बिजली के कई फिक्स दर होते हैं। उन सभी को माफ करने की जरूरत है। होटल व हॉस्पिटेलिटी सेक्टर से जुड़े अन्य इकाई के लिए रीवाइवल पैकेज की भी मांग की गई। गाइड एसोसिएशन व टूर आॅपरेटर व ट्रेवल एजेंसियां भी पैकेज घोषणा की प्रतीक्षा में है।

टूरिज्म सेक्टर को बचाने को चाहिए रिवाइवल पैकेज


होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष जय सिंह व महासचिव संजय सिंह का कहना है, कोरोना से जंग कब तक चलेगा, कहा नहीं जा सकता। फिलहाल कोई नई बुकिंग नहीं है। नवंबर-दिसंबर से पहले संभावना नहीं दिख रही। टूरिस्ट भी पहले की तुलना में घटेगें। होटल व टूरिज्म सेक्टर को बचाने के लिए रिवाइवल पैकेज चाहिए।

टूरिस्ट गाइडों की स्थिति खराब


टूरिस्ट गाइडों का काम तब शुरू होगा, जब टूरिस्टों का आगमन शुरू होगा। टूरिस्ट गाइड एसोसिएशन आॅफ बिहार के अध्यक्ष राकेश कुमार पप्पू ने कहा, स्थिति दयनीय है। सरकार दिहाड़ी मजदूरों की सोच रही है, लेकिन गाइडों की नहीं। टूरिज्म शुरू होने में लंबा समय लगेगा। पूरा विश्व त्रासदी से त्रस्त है। कोरोना की दहशत इतनी अधिक है कि नवंबर-दिसंबर से पहले टूरिज्म शुरू होने की संभावना नहीं दिख रही। टूर आॅपरेटरों की भी यही दशा है। रेंटल कार सर्विस प्रोवाइडर भी टूट गए हैं।


घटेगा रूम टैरिफ


कोरोना के बाद जब होटल व्यवसाय शुरू होगा, तब रूम आक्यूपेंसी बढ़ाने को रूम टैरिफ में गिरावट होगी। संभावना है, रूम टैरिफ में 40 से 50 फीसदी तक गिरावट हो सकती है। टैरिफ घटने के बावजूद रूम अक्यूपेंसी 30 से 40 फीसदी तक घटेगा। प्राइसवार शुरू हो सकता है। विदेशी टूरिस्ट के भी नवंबर से पहले आने की संभावना कम ही दिखती है। विवाह में भी होटल बुकिंग पर संशय है। लाॅक डाउन हटने के बाद की स्थिति पर निर्भर करता है। कर्मियों का भुगतान कैसे होगा, चिंता का प्रश्न है।


होटल में बना क्वारेंटाइन सेंटर

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना