--Advertisement--

नवादा / 60 घंटे बाद उठाया गया एचपी गैस का टैंकर, दो दिन चला रेस्कयू ऑपरेशन

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2019, 07:28 PM IST


टैंकर को हटाने के लिए आरा से बुलाई गई टीम टैंकर को हटाने के लिए आरा से बुलाई गई टीम
X
टैंकर को हटाने के लिए आरा से बुलाई गई टीमटैंकर को हटाने के लिए आरा से बुलाई गई टीम

  • 4 घंटे से ज्यादा देर तक बंद रहा हाइवे, 10 हजार गाड़ियों के रूट को किया गया डायवर्ट
  • आरा से बुलाई रेस्क्यू टीम, चार क्रेनों से चार घंटों तक चला रेस्क्यू ऑपरेशन

नवादा. एनएच 31 किनारे पलटे एचपी गैस के टैंकर को निकालने में प्रशासन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। घटना के करीब 60 घंटे बाद टैंकर का रेस्कयू करने में सफलता मिल पाई। रेस्कयू से पहले आस-पास के 4 गांवों को खाली कराया गया। इससे करीब आठ हजार लोगों को 8 घंटे से ज्यादा समय घर छोड़कर खेतों में बिताना पड़ा। 

 

हादसे में ड्राइवर की मौत
बता दें कि शुक्रवार की सुबह गोरखपुर जा रही एचपी की गैस टैंकलोरी पलट गई थी। एनएच 31 पर सीतारामपुर के पास हुए इसे हादसे में ड्राइवर की मौत हो गई थी। इसके बाद से टैंकलोरी को निकालने का प्रयास किया जा रहा था। शनिवार के दिन प्रयास के बाद भी सफलता नहीं मिलने के बाद रविवार को फिर से रेस्क्यू शुरू किया गया। बताया जाता है कि टैंकर में 30 हजार किलो गैस भरा था।

 

डीएम का आदेश मिलने के बाद खाली कराया गया गांव
टैंकर के रेस्क्यू के दौरान आबादी के लिए खतरे को भांपते हुए आस-पास के गांवों को खाली कराने का निर्णय लिया गया। शनिवार की शाम डीएम से अनुमति मिलने के बाद वहां के चार गांवों को खाली करने का आदेश दिया गया। प्रशासनिक अधिकारियों ने पहले शनिवार की रात और फिर रविवार की सुबह लाउडीस्पीकर से गांव को खाली करने की सूचना ग्रामीणों को दी।

10 हजार गाड़ियों के रूट को किया गया डायवर्ट
टैंकर को रेस्क्यू करने के लिए एनएच- 31 को चार घंटे के लिए सील कर दिया। एनएच पर आवागमन बंद होने के कारण दोनों ओर हजारों वाहन सड़क के दोनों ओर खड़े थे और लोग जाम खुलने का इंतजार कर रहे थे। प्रशासन की ओर से एहतियात के तौर पर दोनों तरफ से आने वाली 10 हजार गाड़ियों को डायवर्ट किया गया।

Astrology
Click to listen..