संख्या में 50 फीसदी मरीजों की बढ़ोतरी हुई

Gaya News - गया जंक्शन से कैंसर का इलाज कराने के लिए मुम्बई जाने वाले मरीजों की संख्या में 50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। लेकिन...

Aug 23, 2019, 07:35 AM IST
गया जंक्शन से कैंसर का इलाज कराने के लिए मुम्बई जाने वाले मरीजों की संख्या में 50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। लेकिन गुजरने वाली इमरजेंसी कोटा में बढ़ोतरी नहीं होने से मरीजों व यात्रियों को परेशानी का सामाना करना पड़ रहा है। रेल पदाधिकारियों की मानें तो टिकट कंफर्म कराने के लिए थर्ड एसी में गया से हावड़ा-मुम्बई मेल(12321) में 2 कोटा पर औसतन 4 मरीजों के आवेदन मिल रहे हैं। विष्णुपद व बोधगया के कारण राष्ट्रीय-अंतराष्ट्रीय पहचान बना चूके शहर के जंक्शन से पर्यटकों व वीवीआईपी मूवमेंट अत्यधिक है। लेकिन जंक्शन से गुजरने वाली कई गाड़ियों में कोटा नहीं है, जबकि 140 करोड़ jरुपए की औसत आय वाला गया जंक्शन मुगलसराय रेल मंडल के स्टेशनों में सबसे अव्वल है। कमाई के मामले में जंक्शन को एनएसजी टू कैटेगरी में रखा गया है। वहीं जिस ट्रेन में इमरजेंसी कोटा निर्धारित किया गया है, उसका आवंटन भी लोकल स्तर पर नहीं होकर मुगलसराय से किया जाता है। इसे स्थानीय स्तर पर पदाधिकारी नियुक्त कर कोटा की सीट आवंटन करने व विभिन्न स्तरों पर गुजरने वाली ट्रेनों में कोटा बढ़ाने को लेकर गुहार लगाई जाती रही है।

140 करोड़ रुपए की औसत आय के साथ मंडल में गया अव्वल, फिर भी उपेक्षा!

-ट्रेनों में इमरजेंसी कोटा का टोटा, जंक्शन से कैंसर का इलाज कराने के लिए मुम्बई जाने वाले मरीजों की संख्या में 50 फीसदी की बढ़ोतरी, परेशानी

गया रेलवे जंक्शन

सिर्फ इन ट्रेनों में है कोटा

गया नई दिल्ली महाबोधि एक्सप्रेस 12397, डाउन हावड़ा देहरादून एक्सप्रेस 13010, अप हावड़ा मुम्बई मेल 12321, अप पुरुषोत्तम एक्सप्रेस 12801, गया-हावड़ा 13024, अप पूर्वा एक्सप्रेस 12381, अप शिप्रा एक्सप्रेस 22911, अप हावड़ा जोधपुर 12307,गया कामख्या वीकली एक्सप्रेस(15619), गया-आनंद विहार गरीब रथ (22409), गया-चेन्नई एग्मोर एक्सप्रेस(12389), भुवनेश्वर राजधानी एक्सप्रेस(20817/22823/22811/22806) में कोटा दिया गया है। जो पैसेंजर आवाजाही के अनुसार कम बताई जा रही है।

कंफर्म नहीं होने पर मुश्किल से पहुंची थी मुम्बई



जंक्शन से गुजरने वाली हर ट्रेन में कोटा दे रेलवे


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना