--Advertisement--

अगहन रविवार व्रत का आज अर्घ्य देंगी महिलाएं

Gaya News - नहाय खाय के साथ शनिवार काे महिलाओं ने अगहन “रविवार’ का व्रत शुरू किया। इस व्रत की महत्ता भी छठ पर्व जैसी है। व्रत को...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 03:16 AM IST
Gaya News - women will celebrate agnew sunday fast today
नहाय खाय के साथ शनिवार काे महिलाओं ने अगहन “रविवार’ का व्रत शुरू किया। इस व्रत की महत्ता भी छठ पर्व जैसी है। व्रत को लेकर महिलाओं ने घर में विशेष पूजा अर्चना की। इसके बाद चावल, चना की दाल, कद्दू व कोबी की सब्जी के साथ पालक का साग बनाया, फिर अन्न की पूजा कर प्रसाद के रूप में ग्रहण किया। ऐसी मान्यता है कि रविवार व्रत मार्गशीर्ष (अगहन) से प्रारंभ किया जाता है, जिसका वैशाख मास में समापन होता है। आचार्य की माने तो इस बार अगहन माह में मात्र एक दिन ही रविवार का व्रत शुभ है। अगले रविवार से धनु राशि में सूर्य प्रवेश करेंगे, यानि खरमास शुरू हो जाएगा। इसके कारण सिर्फ नौ दिसंबर वाला रविवार व्रत शुभ है। फल्गु नदी सुखी रहने से इस बार रविवार को सूर्यकुंड तालाब पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ेगी। छठ पर्व की भांति इस दिन भी कई श्रद्धालु भगवान भास्कर को अर्घ्य देकर घरों में सुख-समृद्धि की कामना करेंगे।

दोपहर 02:00 से 03:00 बजे तक पूजा करना सर्वोत्तम

आचार्य नवीन चन्द्र मिश्र “वैदिक’ ने बताया कि सूर्य उपासना में रविवार के व्रत का अपना एक विशिष्ट स्थान है। इस दिन व्रती सरोवरों, तालाबों में भगवान भास्कर को अर्घ्य देती है। उन्होंने बताया कि रविवार की दोपहर 02:00 से 03:00 बजे तक भगवान सूर्य को अर्घ्य देना उत्तम है। छठ व्रत कर चुके या जो पहले से व्रत करते आ रहे है उनके लिए यह व्रत अनिवार्य है।

सूर्यकुंड तालाब जहां अाज लगेगी व्रतियों की भीड़।

संतान सुखादि के लिए उत्तम है यह व्रत

आचार्य ने बताया कि इस व्रत की महत्ता भी छठ की तरह है। इस पर्व से भी चर्म रोग, रक्त विकार से निदान और संतान सुखादि के लिए उत्तम है। उन्होंने बताया कि रविवार को अर्घ्य देने के बाद एक ही बार अन्न ग्रहण करें। इधर नहाय-खाय को लेकर केदारनाथ मार्केट में सब्जी की खरीदारी के लिए लोगों की अच्छी भीड़ भी दिखीं। कद्दू की अच्छी खरीदारी हुई।

X
Gaya News - women will celebrate agnew sunday fast today
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..