--Advertisement--

600 रुपए देहाड़ी कमाने वाले मजदूर की बेटी ने रचा इतिहास, कामर्स में बनी स्टेट सेकेंड टॉपर

Dainik Bhaskar

Jun 06, 2018, 08:28 PM IST

मां-बाप का कहना है कि बेटी ने हमारा नाम रौशन किया, इससे ज्यादा खुशी की बात क्या हो सकती है।

Worker's daughter did the third top

गया/मानपुर. एक तरफ जहां लोग बेटे के चाहत में बेटियों की हत्या करने से बाज नहीं आते वहीं पटवाटोली स्थित नीमतर के तंग गलियों में लूम मजदूर व नारा बांटने वाली मंजू देवी की बेटी ने अपने मजदूर मां-बाप का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है। माला कुमारी ने बिहार में कॉमर्स स्ट्रीम में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। इंजीनियरों की नगरी पटवाटोली में मां नारा बांटकर और पिता पॉवरलूम पर मजदूरी कर महज 600 रुपये देहाड़ी कमाकर अपनी लाडली को पाला है।

कड़ी मेहनत से मिली सफलता
मां-बाप का कहना है कि बेटी ने तमाम दुश्वारियों के बीच 12वीं में कामर्स में स्टेट सेकेंट टॉपर आकर इतिहास रच दिया। होटल मैनेजमेंट करने का सपना संजोए माला कुमारी ने बताया कि उम्मीदों से बढ़कर परिणाम निकला। उन्होंने बताया कि आठ घंटे की कड़ी मेहनत का ही परिणाम है कि आज राज्य में तीसरा स्थान प्राप्त हुआ।

बेटी ने हमारा नाम रौशन कर दिया
तीन भाई-बहनों में सबसे छोटी माला कुमारी ने 430 अंक हासिल कर गया कॉलेज के साथ-साथ जिले का भी नाम रौशन किया है। परिणाम घोषित होते ही बधाई देने वालो का तांता लग गया। पत्रकारों के साथ बात करते हुए माला कुमारी ने बताया कि विज्ञान में कोई रुचि नहीं होने के वजह कॉमर्स की पढ़ाई शुरू की। उन्होंने बताया कि पढ़ाई के दौरान होने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए भाई व शिक्षक पवन सर, शंकर सर का सहारा मिलता रहा। मां मंजू देवी ने बताया कि घर का काम करते हुए आठ घंटे नरा, नरी और डब्बा बनाकर बच्चों के किसी भी जरूरतों को पूरा किया। मां का कहना है कि आज सारा मेहनत सफल हो गया। बेटी की वजह से हमारा नाम रौशन हुआ, इससे ज्यादा खुशी की बात और क्या हो सकती है।

X
Worker's daughter did the third top
Astrology

Recommended

Click to listen..