मस्जिदों में उमड़ी नमाजियों की भीड़,अमन व शांति के लिए मांग गई दुआ

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:41 AM IST

Gopalganj News - रमजान मुबारक के दूसरे जुमे को शहर की मस्जिदें नमाजियों से खचाखच भर गईं। बड़ी मस्जिद के मौलाना शौकत अली फ़हमी ने कहा...

Gopalganj News - due to the demand for peace and prosperity in the mosque crowd of namajis
रमजान मुबारक के दूसरे जुमे को शहर की मस्जिदें नमाजियों से खचाखच भर गईं। बड़ी मस्जिद के मौलाना शौकत अली फ़हमी ने कहा कि अल्लाह के हुक्कू के साथ बंदों के हुक्कू का भी ख्याल रखें। ऐसा न हो कि कल हश्र के मैदान में कोई बंदा खड़ा होकर यह न कहे कि मेरा हक अदा नहीं किया गया। नमाज के बाद अल्लाह के दरबार में मुल्क व कौम की तरक्की के अलावा अमनों अमान के लिए दुआ कराई।

रमजान के दूसरे जुमे में मस्जिदों में नमाज अदा करते रोजेदार

कयामत के दिन लोगों की मगफेरत कराने के लिए रोजा और कुरान ही बेहतर

खचाखच भरी जगंलिया स्थित मस्जिद में सैकड़ों लोगों ने रमजान के दूसरे जुमे की नमाज अदा की। हालांकि,शहर के अधिकांश लोगों ने मोहल्लों की मस्जिदों में नमाज अदा की। तकरीर में मौलाना ने कहा कि हुजूर ए अकरम सल्लल्लाहो अलैही वसल्लम फरमाते हैं कि कयामत के दिन लोगों की मगफरत कराने के लिए रोजा और कुरआन ही खड़े होंगे। कहा कि मगफरत के अशरे में अपने रिश्तेदारों की मगफरत के लिए अल्लाह के दरबार में दुआ करें। उन्होंने कहा कि तरावीह पढ़ने के दौरान कुरआन मजीद की अजमत और मस्जिद जोकि अल्लाह का घर है उसका एहतेराम करना चाहिए।

इफ्तार कराने वाले को मिलता है एक गुलाम आजाद करने का सवाब

सेहरी का खाना सवाब है इसलिए सेहरी खाना चाहिए। कहा कि रात के अंधेरे से सुबह सादिक तक सेहरी खा सकते हैं। इस मौके पर हजारों नमाजियों ने नमाज अदा की। बड़ी मस्जिद ,दरगाह मुहल्ला के अलावा शहर के तमाम मोहल्लों में तीन बजे तक जुमे की नमाज अदा की गईं। नमाज से पहले हुए खुतबे में मौलाना ने कहा कि रमजान के महीने में इबादत करने से सत्तर गुना ज्यादा सवाब मिलता है। कहा कि रोजा इफ्तार कराने से अल्लाह पिछले गुनाह माफ कर देता है और इफ्तार कराने वाले को एक गुलाम आजाद करने का सवाब देता है।

X
Gopalganj News - due to the demand for peace and prosperity in the mosque crowd of namajis
COMMENT