पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पश्चिमी विक्षोभ के कारण आज छाए रहेंगे बादल

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हाल ही में बीते पश्चिमी विक्षोभ का असर अभी तक खत्म नहीं हुअा कि चार दिन बाद फिर से दूसरे विक्षाेभ का सामना करना पड़ा। हालांकि जिले में इसका असर ज्यादा नहीं हुआ। कुछ जगहों पर बूंदाबादी हो रह गई। इससे अधिकतम तापमान में दो डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। मौसम विभाग की माने तो जिले भर में ओले व बारिश का खतरा इस बार नहीं है। अलबता अगले दो दिनों तक आसमान में बादलों की आवाजाही रहेगी। कल से गर्मी बढ़ने के अासार हैं। शनिवार का अधिकतम तापमान 29 और न्यूनतम 17 डिग्री दर्ज किया गया।

मौसम परिवर्तन का कारण

मौसम वैज्ञानिक डॉ. संजय कुमार ने बताया पिछले कुछ दिनों से कश्मीर से चक्रवात बना था। इसके कारण जिले में बारिश और ओले गिरे थे। इसका असर तो कम होने के बाद फिर से एक और चक्रवात राजस्थान में ही बना है। इस कारण से एक बार फिर से मौसम में बदलाव हुआ है।

आगे क्या होगा

मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव अब धीरे-धीरे कम हो रहा है। फिलहाल किसी नए चक्रवात के बनने के संकेत नहीं मिले हैं। रविवार को आसमान में बादलों की आवाजाही बनी रहेगी। धूप भी होंगे। सोमवार से आसमान पूरी तरह से साफ हो जाएगा। दिन व रात के पारे में तेजी से इजाफा होगा। बुधवार तक पारा चढ़कर 33 डिग्री पहुंच सकता है।

मौसम बदलाव के ये तीन प्रमुख कारण

{दक्षिण-पश्चिमी मप्र में हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना हुआ है।

{ दक्षिण-पश्चिमी मप्र में कर्नाटक तक एक द्रोणिका बनी है।

{पश्चिमी विक्षोभ राजस्थान के ऊपर बना हुआ है।

आसमान में छाए रहे बादल।


खबरें और भी हैं...