मूंजा-जगदीशपुर नहर में 7 वर्षों में भी नहीं पहुंचा पानी,खेती करना हो रहा है मुश्किल

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:41 AM IST

Gopalganj News - सारण और गोपालगंज जिले की सीमा पर अवस्थित बैकुंठपुर प्रखंड का मूंजा-जगदीशपुर गांव अपने किस्मत पर आंसू बहाने को...

Gopalganj News - munja jagdishpur canal water not reach even in 7 years it is difficult to cultivate
सारण और गोपालगंज जिले की सीमा पर अवस्थित बैकुंठपुर प्रखंड का मूंजा-जगदीशपुर गांव अपने किस्मत पर आंसू बहाने को विवश है। दर्द यहां सबसे अधिक किसानों को है। सारण शाखा से निकली मूंजा जगदीशपुर नहर में पिछले सात वर्षों से पानी नहीं आ रही है। नहर में पानी नहीं आने से फसलों की सिंचाई किसानों के लिए गंभीर समस्या बन कर रह गई है। बता दें कि सारण मुख्य नहर से इस शाखा नहर में सात वर्ष पहले एक हजार क्यूसेक पानी प्रतिवर्ष किसानों के लिए छोड़ी जाती थी। जिससे यहां के किसान गन्ना,गेहूं,मक्का सहित अन्य फसलों की पटवन आसानी से कर लेते थे। लेकिन वर्ष 2012 के बाद इस शाखा नहर में नहर परियोजना की ओर से पानी छोड़ने की व्यवस्था नहीं की जा सकी है। ऐसे में किसानों की मुश्किलें रोज बढ़ती जा रही है।

बैकुण्ठपुर में सुखा और झाड़ी में तब्दील हुई नहर।

10-12 गांवों के किसान इस नहर से संजोए हैं सिंचाई का सपना

प्रखंड के मूंजा, जगदीशपुर, बखरी, हेमु छपरा, लक्ष्मीगंज,यादवपुर,मटियारी,बंगरा सहित दर्जन भर गांवों के किसानों के लिए वरदान साबित होने वाली यह नहर अब अभिशाप के रूप में जानी जा रही है। किसानों की सुने तो पिछले वर्ष इस शाखा नहर में पानी छोड़े जाने की मांग को लेकर कागजी घोड़ा की दौड़ाया था । बावजूद नहर परियोजना के अधिकारी किसानों की इस गंभीर समस्या पर उचित कार्रवाई नहीं कर सके। इससे नाराज किसानों ने गांव में ही धरना-प्रदर्शन व हंगामा किये थे। स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने किसानों को समझा-बुझाकर शांत करा दिया था। अब एक वर्ष बाद भी नहर में पानी नहीं आने का दर्द किसानों को एक बार फिर सता रहा है। हताश किसानों का कहना है कि यदि उनकी समस्या पर त्वरित कार्रवाई नहीं हुई तो वे प्रखंड कार्यालय और जिला मुख्यालय में भी अपनी मांगों को लेकर आमरण अनशन करेंगे।

X
Gopalganj News - munja jagdishpur canal water not reach even in 7 years it is difficult to cultivate
COMMENT