पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आरोप-हत्या के आरोपी चौकीदार को पुलिस कर रही है मदद

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुन्ना हत्याकांड में आरोपी चौकीदार की गिरफ्तारी को लेकर परिजनों की नजर अभी तक पुलिस पर टिकी हुई है। मृतक के परिजनों के सामने आरोपी खुला घूम रहा हैं । लेकिन थावे पुलिस ने चौकीदार को गिरफ्तारी नहीं कर रही है। मृतक के परिजनों का कहना है कि रोज देर शाम हत्या के आरोपी अपने घर आता है। जबकि पुलिस ने छापेमारी करने की बात कहती है। 12 जून को मारपीट को लेकर भी पीड़ित परिवार ने थाना में आवेदन दिया गया था। जिसमें चौकीदार को आरोपी बनाया था। उसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इस बीच इलाज करा रहे पीटाई से घायल व्यक्ति की मृत्यु हो गई। हत्या के मामलें दर्ज होने के बाद भी चौकीदार जंग बहादुर उर्फ जसवीर पासवान खुल्ला धुम रहा है।

महज 12 धुर जमीन के लिए मुन्ना का हुई हत्या : थावे थाना के अमैठी खुर्द गांव के मुन्ना मांझी और चौकीदार जंग बहादुर उर्फ जसवीर पासवान के बीच महज 12 धुर जमीन को लेकर पिछले पांच वर्षो से विवाद चल रहा था। इसी विवाद को लेकर हुई मारपीट में मुन्ना मांझी की इलाज के दौरान मौत हो गई। मृतक मुन्ना मांझी के प|ी संगीता देवी के बयान पर चौकीदार जंग बहादुर उर्फ जसवीर पासवान, सितांसु कुमार,नन्हक उर्फ धनंजय कुमार, सिंगासन मांझी और गिरजा देवी के विरुद्ध हत्या का मामला दर्ज कराया गया। एक माह बीतने के बाद भी आरोपी में से किसी की गिरफ्तारी पुलिस ने अभी तक नही की है। मुन्ना की विधवा प|ी गिरफ्तारी को लेकर थाना और एसपी कार्यालय का चक्कर लगा रही है।

22 अगस्त और 16 नवंबर 17 को एसपी चौकीदार के खिलाफ की गई थी शिकायत

चौकीदार के बढ़ते दबदवा और जबरन जमीन पर कब्जा करने को लेकर स्व योगेंद्र मांझी की बेटियों ने कबिता कुमारी और रीता कुमारी ने 22 अगस्त 2017 को एसपी से चौकीदार के क्रियाकलाप की शिकायत की थी। जिसमें उन दोनों महिलाओं ने आरोप लगाया था कि परिवार के लड़कियों के साथ गलत हरकत करने,जमीन हड़पने की नीयत से मारपीट करने का आवेदन दिया गया था। वहीं 16 नवंबर 2017 को दुबारा एसपी के पास आवेदन दिया था जिसमे चौकीदार और उसके परिजनों पर शादी में बाधा डालने, घर पर कब्जा करने और हत्या करने की धमकी देने का आरोप लगाया गया था। उसके बाद भी चौकीदार जब कार्रवाई नहीं हुई ताे फिर पीड़ित परिवार ने 16 मई 2019 को मारपीट कर घर में आग लगाने, मजदूरी कर घर में रखा गेंहु जलने, और हत्या की धमकी देने को लेकर सारण के आरक्षी पुलिस उप महानिरीक्षक को आवेदन दिया। फिर भी उस चौकीदार पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

क्या कहते है थानाध्यक्ष

चौकीदार और उसके परिवार की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी चल रही है। न्यायालय से वारंट और कुर्की के लिए आवेदन कोट में दिया गया है। जब उनसे पूछा गया कि हत्या के आरोपी की गिरफ्तारी नहीं होने में देरी का कारण क्या है। जब थानाध्यक्ष से कहा गया कि पीड़ित परिजन का कहना है कि चौकीदार गांव में ही रहता है। जिसपर थानाध्यक्ष ने कहा यह जानकारी आपके पास है। मुझे इसकी जानकारी नहीं हैं। विशाल आनंद,थानाध्यक्ष,थावे

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें