सत्संग मनुष्य को ऊर्जावान बनाता है,इसके बिना जीवन अधूरा

Gopalganj News - सत्संग मनुष्य को ऊर्जावान बनाता है इसके बिना जीवन अधूरा हैं। सत्संग के अभाव में ब्राह्मण कुल में जन्म लेने के...

Feb 22, 2020, 08:45 AM IST

सत्संग मनुष्य को ऊर्जावान बनाता है इसके बिना जीवन अधूरा हैं। सत्संग के अभाव में ब्राह्मण कुल में जन्म लेने के बाद भी रावण निसाचर बन गया। सत्संग में जाना तभी सार्थक होता है जब उसपर अमल किया जाए।अपने प्रवचन के दौरान रामअवध शुक्ल रामायणी ने उपस्थित श्रद्धालुओं को बताया। पंचदेवरी प्रखंड के तेतरिया धुपसाह में श्री हनुमान प्राण प्रतिष्ठा महायज्ञ के चौथे दिन भारी भीड़ श्रद्धालुओं की उमड़ पड़ी । उन्होंने कहा कि सत्संग के प्रभाव से गिद्ध बड़भागी हो गया। जबकि इंद्र का बेटा अभागा हो गया। मनुष्य के जीवन में सत्संग की बड़ी आवश्यकता है।

धरती से पाप का नाश करने के लिए लेना पड़ा अवतार : अर्चना

कथावाचक अर्चना मिश्रा ने अपने कथा के दौरान कहा कि देवर्षि नारद के अभिशाप के कारण श्री हरि विष्णु को निराकार रूप से श्री राम के रूप में साकार अवतार लेना पड़ा था। भगवान श्री राम का अवतार होने पर 33 कोटि देवताओं ने पुष्प वर्षा करके उनके इस अवतार का स्वागत किया था। भगवान विष्णु ने धरती से पाप का नाश करने के लिए श्रीराम का रूप धरा। श्रीराम जी ने धरा पर पाप का तो नाश किया ही साथ ही मानव जगत को वास्तविक जीवन के आदर्शों से अवगत करवाया। मौके पर आयोजन समिति के स्थानीय मुखिया पति सन्तोष साह, हरेन्द्र राय ,राजेन्द्र राय ,विश्वनाथ दास ,नन्दलाल कुशवाह ,अमरजीत कुशवाहा,, रितेश राय ,सूर्यदेव राय, उषा शाही सहित तमाम श्रद्धालु मौजूद थे।

पंचदेवरी में प्रवचन करते हुए महाराज जी

पंचदेवरी में हो रहे यज्ञ में प्रवचन सुनते श्रद्धालु

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना