सोनपुर मेले के सरकारी मियाद पूरी होने में 3 दिन बचे शेष, ऊनी बाजार में गरमाहट

Hajipur News - सोनपुर मेला के लिए तय सरकारी मियाद पूरी होने में अब सिर्फ तीन दिन ही शेष रह गए हैं। हालांकि, मेला अपने पूरे शबाब पर...

Dec 08, 2019, 09:31 AM IST
Sonepur News - 3 days left to complete the official term of sonpur fair heat in woolen market
सोनपुर मेला के लिए तय सरकारी मियाद पूरी होने में अब सिर्फ तीन दिन ही शेष रह गए हैं। हालांकि, मेला अपने पूरे शबाब पर है। मेले में लगातार लोगों की भीड़ बढ़ रही है। अब जमकर खरीदारी होने से सोनपुर मेला आर्थिक और वाणिज्यिक गतिविधियों का साकार रूप प्रस्तुत कर रहा है। लगभग 1 महीने से देश के विभिन्न हिस्सों से आए व्यवसायियों के लिए यह मेला व्यापार का केंद्र बना हुआ है। ऊनी वस्त्रों के देश के विभिन्न राज्यों में फैले बड़े व्यापारी हों अथवा छोटे दुकानदार सभी की नजर लाभ के दृष्टिकोण से इस मेले पर होती है। ऐसा नहीं कि यह आर्थिक गतिविधि केवल मेले की सरकारी अवधि तक ही बनी रहती है, बल्कि यह गतिविधि तो सरकार के द्वारा निर्धारित अवधि के बाद भी डेढ़ से दो महीने तक निरंतर चलता रहता है। सोमवार से अचानक ठंड बढ़ने से गर्म कपड़े के लिए खरीददारों की भीड़ उमड़नी शुरू हो गई है। ठंड शनै-शनै बढ़ती जा रही है। खरीद-बिक्री का यह आलम है कि हरिद्वार, सहारनपुर तथा दिल्ली आदि से यहां कारोबार कर रहे दुकानदारों के चेहरे पर रौनक छा गयी। हालांकि सोनपुर मेला का बाजार ज्यादातर मोलभाव का है और समान खरीदने एवं मार्केटिंग का अनुभव नहीं है तो आप ठगे जाएंगे। हालांकि समाज मे अब ज्यादा समृद्धि देखी जा रही है जिसके कारण सामान को खरीद बिक्री अब मिनटों में होती है। मेला के शुरुआती दौर में अधिकतर दर्शक दाम पूछ कर आगे बढ़ जाते थे लेकिन जैसे-जैसे मेला समापन की ओर बढ़ा, वैसे-वैसे वस्तुओं की बिक्री दर में भी काफी वृद्धि देखी जा रही है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, जम्मू कश्मीर आदि जगहों से आए गर्म कपड़ों के व्यवसायी हों या दुकानदार, श्रृंगार प्रसाधन या घरेलू उपयोग में काम आने वाले वस्तुओं की दुकान हो अथवा झूले, सभी के यहां ग्राहकों की भीड़ लगी हुई है। अब मेले में जमकर खरीदारी हो रही है। उलेन के ऐसे-ऐसे कारोबारी यहां आए हुए हैं जिनके कम्बल, बेडशीट, ऊनी कपड़े यहां के एक दर्जन से ऊपर दुकानों में सप्लाई किए जाते हैं। जिन दुकानों में यह माल सप्लाई किया जाता है वे स्थानीय छोटी दुकानें होती हैं। माल जैसे-जैसे बिकता जाता है, वैसे-वैसे दुकानदार व्यापारी को पेमेंट करते जाते हैं।

X
Sonepur News - 3 days left to complete the official term of sonpur fair heat in woolen market
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना