विज्ञापन

3 राज्यों की पुलिस के लिए सिरदर्द बना था मनीष सिंह, दबिश बढ़ी तो छिपने की जगह पड़ गई कम

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 05:35 AM IST

Hajipur News - 3 राज्यों की पुलिस के लिए सिरदर्द बना मनीष सिंह मुठभेड़ में मारा गया। इस खबर ने बिहार के साथ राजस्थान आैर पश्चिम...

Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
  • comment
3 राज्यों की पुलिस के लिए सिरदर्द बना मनीष सिंह मुठभेड़ में मारा गया। इस खबर ने बिहार के साथ राजस्थान आैर पश्चिम बंगाल पुलिस को भी राहत दी है। हाल के समय में सोना लूट की ताबड़तोड़ वारदात को अंजाम देकर मनीष गैंग लगातार सुरक्षा एजेंसियों को चुनौती दे रहा था। उसकी तलाश में अक्सर दूसरे राज्यों से पुलिस यहां आती रहती थी। कई बार सर्च ऑपरेशन भी चलाया गया, पर नतीजा सिफर ही रहा। पुलिस को चकमा देने के लिए मनीष खास तरीका अपनाता था। दूसरे राज्य में वारदात करने के बाद वह अमूमन बिहार या झारखंड के किसी इलाके में अंडरग्राउंड हो जाता था। इसी क्रम में वह अगले अपराध की साजिश रचता। फिर उसे अंजाम देने के लिए बाहर निकल जाता था। जुर्म करने के बाद पुलिस की नजरों से बचने के लिए वह लगातार ठिकाने बदलते रहता था। ऐसे हालात के साथ विभिन्न राज्यों की पुलिस की दस्तक के बीच एसटीएफ ने जब सरगना मनीष सिंह की तलाश में दबिश बढ़ाई तो उसके लिए छिपने की जगह कम पड़ गई। बीते एक माह से मनीष गैंग व एसटीएफ के बीच लुकाछिपी का खेल चल रहा था। ठोस सुराग मिलने पर तीन जिले पटना, समस्तीपुर व वैशाली के सीमावर्ती एरिया में बहलोलपुर (दियारा) के पास जब एसटीएफ व पुलिस की टीम पहुंची तो अपराधियों से आमना-सामना हो गया।

पुलिस के लिए सिरदर्द बना मनीष सिंह मुठभेड़ में मारा गया

महनार में अपराधी के पास से मिले हथियार को दिखाती पुलिस।

अत्याधुनिक असलहों से लैस था गिरोह

मनीष सिंह का गैंग एके 47 व अन्य अत्याधुनिक व घातक असलहों से लैस था। उसके साथ कई गुर्गे व शूटर भी रहते थे। ऐसे हालात को लेकर एसटीएफ के स्तर से भी मुकम्मल तैयारी की गई थी। रणनीति ऐसी थी कि जब अपराधियों ने पुलिस पर निशाना साधा तो फिर जवाबी गोलीबारी में उन्हें संभलने की भी मौका नहीं मिला। बाद में मौके पर पुलिस का शक उस समय यकीन में बदल गया, जब मारे गए अपराधियों के पास से 2 एके 47 राइफल के साथ ही बेरेटा कंपनी के विदेशी पिस्टल व अन्य हथियार मिले।

बिहार, राजस्थान आैर पश्चिम बंगाल पुलिस को थी तलाश

अपराधियों के शव को टेलर से ले जाती पुलिस।

कहती है पुलिस


बहलोलपुर के पास एसटीएफ व पुलिस की टीम ने की घेराबंदी

बरामद एके 56 भी इसी ग्रुप ने दिया था

सूत्रों की माने तो लोजपा नेता बृजबिहारी हत्यकांड के मुख्य आरोपी सोहन गोप भी इस गैंग से जुड़ा हुआ था। बीते महीने वैशाली पुलिस ने सोहन गोप के शागिर्द के घर से एक एके 56 बरामद किया था। पुलिस का कहना है कि जेल में बंद सोहन गोप गैंग के भी तार इस गैंग जुड़े हो सकते हैं। पुलिस इसकी जांच कर रही है। अनुमान यह भी लगाया जा रहा है कि मनीष सिंह गैंग ने ही एके 56 मुहैय्या कराई थी। जिससे दियारे क्षेत्र में शराब, गांजा व हफीम जैसे वस्तुओं की तस्करी में पुलिस से मुठभेड़ और धौंस जमाने में मदद मिले।

हर घटना के बाद पूरा गैंग बदल लेता था आईडी

पुलिस ने बताया कि यह गैंग बेहद शातिर था। हर तरह के बड़े अपराध को यह गैंग अंजाम देता था। इस गैंग में शामिल 12 के करीब अपराधियों के पास कई तरह के पहचान पत्र थे। ये हमेशा बड़ी वारदात के अपना नाम बदलकर एक आई कार्ड बनवा लेते थे। एसपी के अनुसार ये इतने पहचान बदल चुके हैं कि यह भी एक जांच का मुद्दा बन गया है। पुलिस जांच में जुटी है कि कितने आईडी कैसे कैसे बने है।

सूत्र बताते हैं कि कई राज्यों से लगभग 1 क्विंटल से ज्यादा सोना इन अपराधियों के गैंग ने लूटे थे। सबसे पहले सोना लूट कांड में हाजीपुर के अन्नू सिंह और विक्की यादव को जयपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद पटना के सुबोध सिंह और हाजीपुर के दो अन्य लोगों की गिरफ्तारी हुई। सूत्र बताते हैं कि सोने के मामले में ही सुशील सिंह और संजीव लाला की हत्या की गई थी। इसके अलावा बहलोलपुर दियारे में भी अपराधी सोने को धीरे-धीरे खपाने के लिए रुकते थे। इसी सोने के कारण ये तीन अपराधी भी मारे गए।

मुठभेड़ में तीन अपराधियों को मार गिराया, तीन पुलिस के हत्थे चढ़े

खाना लोकल लोग पहुंचाते थे

जिस झोपड़ी में अपराधियों का गैंग रहता था वहां हर तरह की सुविधा मौजूद थी। यहां बस एक ही कमी दिखी वह थी खाना बनाने के सामानों की। पुलिस को पूरा यकीन है कि आसपास के लोग भी इन अपराधियों से मिले हुए हैं और वे ही इनको बना हुआ खाना पहुंचाते थे। जिनकी शिनाख्त की जा रही है। यह भी पता लगाया जा रहा है कि किसने इन्हें झोपड़ी के लिए जमीन दी थी।

लूट के सोना के कारण अबतक 5 की जा चुकी है जान

जेल में बंद बड़े गैंगस्टर से मिलता था निर्देश

पुलिस सूत्र बताते हैं कि जेल में बंद बिहार के चर्चित किसी गैंगस्टर के इशारे पर यह पूरा गैंग काम करता था। उसी के इशारे पर सोना को धीरे धीरे हथियार और गाड़ियों में इनवेस्ट किया जा रहा था। आशंका है कि लगातार पुलिस जो बड़े हथियार बरामद कर रही है वह उसी सोने के पैसे से खरीदा गया है।

महनार के दियारा क्षेत्र में सर्च ऑपरेशन के जुटी पुलिस।

सुबोध का शागिर्द रहे मनीष ने बनाया अपना गैंग

सरगना सुबोध सिंह (जेल में) का दाहिना हाथ मनीष सिंह को माना जाता था। सुबोध का शागिर्द रहते हुए उसने अपराध जगत में अपनी पहचान बना ली थी। सोना लूटने वाले अंतरराज्यीय गिरोह के सरगना सुबोध को एक साल पहले एसटीएफ ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इसके बाद मनीष ने अपने बल पर गिरोह को संगठित किया आैर लगातार आपराधिक वारदातों को अंजाम देता रहा। समस्तीपुर, बेगूसराय अादि जिलों के गुर्गों को बड़ी संख्या में गिरोह में रखा गया था। एसटीएफ के ताजा एक्शन के बाद गिरोह की कमर टूट चुकी है।

मृतक मनीष का फाईल फोटो

सोना लूट के बाद मनीष ने करोड़ों रुपए कमाए

पुलिस सूत्र बताते हैं कि सोना लूट के बाद उसे बेचकर मनीष ने काफी संपत्ति अर्जित की थी। उसके पास लग्जरी गाड़ियों का पूरा काफिला है। उसकी गाड़ियों के कलेक्शन में सोनाटा, पजेरो, स्कॉर्पियो समेत अन्य कई गाड़ियां शामिल है। इसके अलावा कई महानगरों में उसने फ्लैट्स भी खरीद रखे हैं।

ऐसे जगह पर अड्‌डा कि वहां से तीन जिले कंट्रोल में

जिस जगह पर अपराधी मारे गए हैं वह इन अपराधियों के लिए बड़ा ही सुरक्षित इलाका था। यहां पुलिस से तो ये सभी बच ही सकते थे साथ ही तीन जिलों पर ये अपना कंट्रोल कर सकते थे। यहां से पटना, समस्तीपुर और वैशाली इन अपराधियों के हमेशा निशाने पर होता था।

3 जिलों की सीमा महनार के दियारा में छिपे थे अपराधी, मुठभेड़ में सरगना समेत 3 गुर्गे ढेर

Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
  • comment
Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
  • comment
Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
  • comment
X
Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
Vaishali News - manish singh headache was created for 3 police officers
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन