बाढ़ से सुरक्षा के लिए तैयारी शुरू, नदी के तटबंधों की सुरक्षा व मरम्मत के निर्देश

Hajipur News - मानसून के शुरू होने के साथ ही गंगा-गंडक व अन्य सहायक नदियों के जरिये आने वाली बाढ़ की स्थिति को देखते हुए जिला...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:25 AM IST
Vaishali News - preparations for protection from flood protection safety and repair instructions of river embankments
मानसून के शुरू होने के साथ ही गंगा-गंडक व अन्य सहायक नदियों के जरिये आने वाली बाढ़ की स्थिति को देखते हुए जिला प्रशासन ने जानमाल की सुरक्षा व संभावित बाढ़ पर हरसंभव नियंत्रण के लिए अपने स्तर से प्रयास शुरू कर दिया है। बाढ़ जैसी घटनाओं से निपटने के लिए ज संसाधन विभाग के साथ जिला प्रशासन के जिम्मेवार विभागों के अफसरों को तटबंधों के मरम्मत करने के साथ ही हर संभव तैयारी पूरी कर लेने का निर्देश दिया है। वैशाली जिले के सबसे अधिक बाढ़ प्रभावित क्षेत्र राघोपुर एवं उसके आस-पास के क्षेत्रों में तटबंधों की सुरक्षा व मरम्मति के लिए पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है। बाढ़ के समय मानुष्य और पशुओं खाना एवं उसके रहने के लिए उचित स्थानों को चिन्हित किया जा रहा है। बाढ़ आने या अधिक पानी के कारण जानमाल को खतरा नहीं हो इसके लिए युद्ध स्तर पर कार्य शुरु किया है। जिसके अंतर्गत वर्षा मापक यंत्र, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र एवं संकट ग्रस्त व्यक्तियों की पहचान, बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का मैपिंग, संचार साधन, तटबंधों की सूरक्षा, जल स्तर, नाव, पॉलीथीन, शीट्स, सत्तू, गुड़, चुड़ा, शरण स्थल, मनुष्यों के लिए दवा, पशु चारा व दवा, शुद्ध पेयजल, लाइफ जैकेट, मोटर बोट, जनरेटर, महाजाल, नियंत्रण कक्ष, टास्क फोर्स, सामुदायिक प्रशिक्षण, राहत एवं बचाव दल का गठन समेत बाढ़ नियंत्रण से संबंधित अन्य मुद्दों पर तैयारी शुरु कर दी गई है।

बाढ़ से सुरक्षा के लिए तैयारी शुरू, नदी के तटबंधों की सुरक्षा के निर्देश

कैंप के लिए जगह चिन्हित करने को दिया गया निर्देश

जिला स्तरीय टास्क फोर्स का गठन कर प्रखंड स्तर पर बाढ़ का आकलन किया जा सके। मनुष्य एवं पशु को बाढ़ पूर्व सुरक्षित स्थान पर उपलब्ध कराने के लिए कई कदम उठाए गए है। प्रभावित क्षेत्रों का मानचित्र बनाकर बाढ़ से पूर्व ही संकट ग्रस्त व्यक्तियों समूह बना जा रहा है। समूह के सदस्यों के माध्यम से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले को हर संभव सहायता उपलब्ध कराया जाएगा। आपातकालीन स्थिति होने पर बाढ़ प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का कार्य किया जाएगा। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में संचार तंत्र मजबूत करने के लिए स्थानीय जनप्रतिनिधि एवं सामजिक संगठनों के सदस्यों का मोबाइल नंबर संग्रह किया जा रहा है।

होमगार्ड के जवान करेंगें तटबंधों की सुरक्षा

कार्यपालक अभियंता के नेतृत्व में बाढ़ से पूर्व तटबंधों की पुख्ता सुरक्षा किया जाएगा। होमगार्ड के बल को बांधों पर डयूटी लगाया जाएगा। ड्यूटी पर तैनात होमगार्ड के जवान बांधों की स्थिति से हर वक्त वरीय पदाधिकारियों को स्थिति के विषय में अवगत कराते रहेंगे। साथ ही बांध की सुरक्षा के लिए सीमेंट की बोरी में बालू, मिट्टी को भर कर रखा जाएगा। इसके लिए कनीय अभियंता सुबह व शाम बांधों पर प्रतिनियुक्त होम गाडों का उपस्थिति चेक करेंगे। क्षतिग्रस्त स्लूईस गेट को चिन्हित मरम्मत कार्य किया जाएगा।

पर्याप्त रहेगा नाव और वोट

बाढ़ जैसी विभीषिका से नि पटने के लिए सरकारी एवं निजी नावों को पर्याप्त संख्या में उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही क्षतिग्रस्त नावों का मरम्मति कराया जाएगा। सरकार के मानक के अनुसार निबंधित नाव ही बाढ़ के समय उपयोग में लाया जाएगा।

बाढ़ पीडितों को रहने के लिए होगा मुकम्मल व्यवस्था| बाढ़ के दौरान शरणार्थियों को उचित स्थान पर रखने के लिए स्थलों का चयन किया गया है। इसके लिए जिले के सभी प्रखंडों के सीओ को ऊंचाई पर बने स्कूल, पंचायत भवन को चिन्हित किया गया है। जबकि जिले में उपलब्ध मोटर बोट एसडीआरएफ को दुरुस्त रखने का निर्देश दिया गया। दवा, पशु चारा एवं पशु दवा, शुद्ध पेयजल, खाद्यान, लाईफ जैकेट, मोटर वोट, जेनरेटर, महाजाल का व्यवस्था किया गया है।

गोताखोरों का प्रशिक्षण

सभी अंचलों के पंचायतों में एसडीआरएफ के तत्वावधान में गोताखोरों को प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षित गोताखोर बाढ़ के दौरान हर समय पीडितों की मदद के लिए उपलब्ध रहेंगे। राहत एवं बचाव दल का गठन किया गया है। जिसमें प्रशिक्षित व्यक्ति, गोताखोर, प्रखंड अंचल के कर्मी, प्राथमिक उपचार में दक्ष स्वास्थ्य कर्मी, पुलिस जवानों को शामिल किया गया है।


X
Vaishali News - preparations for protection from flood protection safety and repair instructions of river embankments
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना