चुनाव के चलते फीका रहेगा वैशाली महोत्सव का रंग, पर्यटन विभाग ने अधिकारियों ने खींचे कदम

Hajipur News - जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर की जयंती के उपलक्ष्य में एतिहासिक वैशाली में आयोजित होने वाले वैशाली...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:25 AM IST
Vaishali News - the color of the vaishali festival will be faded due to the election the tourism department has taken steps
जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर भगवान महावीर की जयंती के उपलक्ष्य में एतिहासिक वैशाली में आयोजित होने वाले वैशाली महोत्सव का रंग इस बार फीका ही रहेगा। आयोजक पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन के स्तर से लोकसभा चुनाव व आदर्श आचार संहिता की दुहाई देकर आयोजन को बिल्कुल ही शॉर्ट कर दिया गया है। आयोजन के नाम पर सिर्फ रश्म अदायगी ही होगी।

17 और 18 अप्रैल को ही आयोजित किए जाएंगे विभिन्न कार्यक्रम

लोकसभा निर्वाचन प्रक्रिया में व्यस्तता के वजह से जिला प्रशासन ने तीन दिवसीय वैशाली महोत्सव को शॉर्ट कर दो दिनों का कर दिया है। 17 एवं 18 अप्रैल को ही विविध कार्यक्रम आयोजित होंगे। सांस्कृतिक कार्यक्रम के नाम पर सिर्फ खानापूरी ही होगी। दो दिवसीय कार्यक्रमों की श्रृंखला में कोई भी बड़े किसी कलाकार का नाम नहीं दिख रहा है। ज्यादातर लोकल कलाकारों को प्राथमिकता दी गई है।

गजल और भजन का रहेगा जलवा

दूसरे व अंतिम दिन 18 अप्रैल को संध्या सात बजे से कला मंच गुलजार होगा। संगीत यात्रा संस्था की मंडली द्वारा गजल एवं भजन के रूप में पहली प्रस्तुति होगी। इसके बाद नैतिक कुमार एवं गौतम कुमार, रूपम राम्या का गायन व नालंदा संगीत कला विकास संस्थान पटना के कलाकारों की अंतिम प्रस्तुति होगी। इसके बाद डीएम व एसपी विधिवत महोत्सव समापन की घोषणा करेंगे। दूसरे दिन का कार्यक्रम 7 बजकर 10 मिनट से शुरू होकर 9.50 में समाप्त हो जाएगा।

महावीर जयंती को लेकर हर साल होता है भव्य आयोजन, इसबार सिर्फ अदा होगी रस्म

वैशाली महोत्सव की तैयारी इस नहर से निकलेगी शोभायात्रा व कार्यक्रम स्थल का का निरीक्षण करते बीडीओ ।

समारोह में नहीं लगेंगा एक भी सरकारी स्टॉल

सरकारी प्रदर्शनियां व स्टॉल, फूड प्लाजा आदि वैशाली महोत्सव के आकर्षण का केंद्र हुआ करता था। बुद्ध दर्शन सम्यक संग्रहालय के लिए अधिगृहित 72 एकड़ ग्राउंड पर विशाल मेला जैसा नजारा होता था। करीब चार दर्जन प्रदर्शनी व स्टॉल में आर्ट एंड क्राफ्ट का अपना अलग इमेज होता था। इस बार महोत्सव में ऐसा कुछ नहीं दिखेगा। सरकारी एक भी प्रदर्शनी व स्टॉल नहीं लगे है। वैशाली महोत्सव व मेला देखने के लिए वैशाली, मुजफ्फरपुर व पूर्वी चंपारण जिले के लोग बड़ी संख्या में आते थे। इस बार लोगों को वह सब देखने को नहीं मिलेगा।

यह है पहले दिन के कार्यक्रमों के लिए तैयार रूपरेखा

17 अप्रैल को पहले दिन डीएम राजीव रौशन, एसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो व जिला प्रशासन के अफसरों की मौजूदगी में प्रमंडलीय आयुक्त नर्मद्धेश्वर लाल परंपरानुसार मंगल अभिषेक पुष्करिणी से लाए गए पवित्र जलकलश ग्रहण कर व मंच पर स्थापित कर महोत्सव का विधिवत उदघाटन करेंगे। इससे पहले मंगल अभिषेक पुष्करिणी में परंपरागत मछुआ गीत, कलामंच पर जैन समाज द्वारा भजन व नृत्य, वैशाली संगीत कलामंच महावीर जन्मोत्सव पर आधारित नृत्य नाटिका, क्रमश: डा. नीतू नवगीत का लोक गायन, संगीताचार्य श्याम किशोर प्रसाद का शास्त्रीय, सुगम संगीत व सूफी गायन, कला संग्रह द्वारा भगवान महावीर की जीवनी पर आधारित नृत्य नाटिका, इसके बाद पुलिस सेवा के अधिकारी आलोक राज की प्रस्तुति, सुविका का फॉक डांस, सोमलता सुषमा के द्वारा भजन की प्रस्तुति एवं भैरवी तराना के रूप में प्राची पल्लवी की अंतिम प्रस्तुति होगी। यानि प्रशासन की हड़बड़ी व बेकरारी इतनी कि संध्या 6.30 से सांस्कृतिक कार्यक्रम शुरू होकर 7.20 में समाप्त हो जाएगा। यानि 11 कलाकारों को पांच मिनट से भी कम कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए समय दिया जाएगा।

X
Vaishali News - the color of the vaishali festival will be faded due to the election the tourism department has taken steps
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना