टूटे हाथ का ऑपरेशन कराने आए युवक की अस्पताल में मौत क्लीनिक में ताेड़फोड़, अागजनी, डॉक्टर पिता-पुत्र को पीटा, गंभीर

Jamui News - महिसौड़ी-महाराजंगज रोड स्थित निजी क्लीनिक में टूटे हाथ का ऑपरेशन के दौरान एक युवक की मौत हो गई। आक्रोशित परिजनों...

Jan 16, 2020, 07:41 AM IST
Jamui News - the young man who came to have a broken hand operation died in the hospital
महिसौड़ी-महाराजंगज रोड स्थित निजी क्लीनिक में टूटे हाथ का ऑपरेशन के दौरान एक युवक की मौत हो गई। आक्रोशित परिजनों क्लीनिक में तोड़फोड़ की। उपद्रवियों ने डॉ. अरुण कुमार सिंह एवं उनके चिकित्सक पुत्र डॉ. विशाल आनंद को जमकर पीटा। क्लीनिक में आग लगा दी।

इतने पर भी उपद्रवी शांत नहीं हुए और क्लीनिक के बाहर खड़ी ऑल्टो में भी आग लगा दी।। डेढ़ घंटे तक हंगामा होता रहा। चिकित्सक पिता-पुत्र क्लीनिक के एक कमरे में बंद होकर किसी तरह अपनी जान बचाई। टाउन थाने की पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद मामले को शांत कराया। आक्रोशित परिजन ने डॉक्टर की गिरफ्तारी को लेकर सड़क पर शव रखकर हंगामा किया। एसपी डॉ. इनामुलहक मेगनु, एसडीपीओ रामपुकार सिंह, थानाध्यक्ष सुभाष कुमार सहित कई पुलिस पदाधिकारी पहुंचे। एसपी के निर्देश पर क्लीनिक को सील कर दिया गया है। सिरचन नवादा के रघुनाथ साव का 25 वर्षीय पुत्र मणी कुमार का हाथ टूट गया था। मणी को पहले एक चिकित्सक के पास दिखाया गया तो उसने ऑपरेशन की सलाह दी थी। दोपहर 12 बजे चिकित्सक डॉ. अरूण कुमार सिंह के यहां अॉपरेशन कराने आए थे।

बुधवार को क्लीनिक में धू-धू कर जलती कार।

युवक की मौत पर डाॅक्टर विशाल आनंद की पिटाई करते आक्रोशि।

एनीमिया सेे होती है परेशानी जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी बताते हैं कि खून की कमी के कारण ऐसे बच्चों में सुस्ती आना, स्मरण शक्ति का कमजोर होना, उम्र के अनुसार शारीरिक विकास ना होना सहित कई अन्य समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसे लेकर आशा कार्यकर्ता के माध्यम से आयरन की दवा भी दिया जा रहा है। शुरुआती दौर में आशा कार्यकर्ता खुद ही नवजात को दवा पिलाकर उसके मां को आवश्यक जानकारी देती है। कार्य की पारदर्शिता को लेकर लाभुकों को विभाग द्वारा प्रदत्त अन्नपूर्णा कार्ड भी दिया जा रहा है।

चिकित्सक जब आक्रोशितों को समझाने आए तो लोगों ने कुर्सी से जमकर पीटा

घटना के दौरान जब आक्रोशित लाेगों को समझाने चिकित्सक डॉ. अरूण कुमार सिंह और उनके पुत्र डॉ. विशाल आनंद जैसे ही बाहर आए लोगों का गुस्सा दोनों पर फुट पड़ा। आक्रोशित लोग व उपद्रवियों ने चिकित्सक पिता पुत्र की जमकर पिटाई करनी शुरू कर दी। क्लीनिक में रखे टेबल कुर्सी आदि से पिता पुत्र पर हमला कर दिया। कुछ स्थानीय लोग व क्लिनिक के कम्पाउंडरों की मदद से आक्रोशित लोगों के बीच से किसी तरह पिता पुत्र को निकाला गया और क्लिनिक के एक कमरे में बंद कर दोनों की जान बचाई गई। तकरीबन डेढ़ घंटे तक पिता और पुत्र क्लीनिक के उसी कमरे में बंद रहकर अपनी जान बचाई। आक्रोशित लोगों ने क्लीनिक के बाहर रखे आल्टो कार को भी आग के हवाले कर दिया। बाद में दमकल की सहायता से गाड़ी के आग को बुझाया गया लेकिन तबतक कार पूरी तरह से जलकर क्षतिग्रस्त हो चुका था।

तीन घंटे बाद भी नहीं निकले डॉक्टर तो परिजनों ने जमकर किया हंगामा

मरीज मणी कुमार को ऑपरेशन के लिए ले गए तीन घंटे होने के बाद भी जब उसे बाहर नहीं निकाला गया तो परिजन आक्रोशित हो गए और हंगामा शुरू कर दिया। परिजनों को जैसे ही पता चला कि मणी की ऑपरेशन के दौरान मौत हो गई है। क्लीनिक में जमकर हंगामा शुरू कर दिया। क्लीनिक में चिकित्सक के चैम्बर में पहुंचकर उनके टेबल को आग लगा दिया और क्लीनिक के दरबाजे, केबिन, टेलब कुर्सियों को तोड़ने लगे। आक्रोश इतना अधिक था कि वे किसी की नहीं सून रहे थे। परिजनों का आरोप था जान बूझ कर उनके पुत्र की हत्या कर दी है।

बाइक और ट्रैक्टर की टक्कर में छह लोग जख्मी

युवक की मौत के बाद क्लीनिक में कुर्सी से डॉक्टर को पीटते लोग।

सुबह के वक्त छाया घना कोहरा।

पुलिस और उपद्रवियों के बीच आधे घंटे तक तनाव की स्थिति रही

मौके पर पहुंची पुलिस ने जब उपद्रवियों को समझाने का प्रयास किया तो वे मानने को तैयार नहीं थे। वे लगातार क्लीनिक में तोड़-फोड़ व आगजनी करते रहे। मजबूरन पुलिस को उपद्रवियों के उपर लाठी चार्ज करना पड़ा। पुलिस द्वारा लाठी चार्ज करने पर आक्रोशित लोगों ने पुलिस पर भी पत्थर चलाना शुरू कर दिया। पुलिस और उपद्रवियों के बीच तकरीबन आधे घंटे तक तनाव की स्थिति बनी रही। बाद में पुलिस को उपद्रवियों पर हथियार तानना पड़ा तब जाकर उपद्रवी शांत हुए। मामले को शांत कराने के बाद जब पुलिस मृतक के पुत्र को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने लगे तो एक बार फिर परिजन शव ले जाने से रोक कर चिकित्सक की गिरफ्तारी की मांग पर अड़ गए। एसडीपीओ द्वारा परिजनों को समझाने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया।

तीन दिन तक हवा की गति में होगी बढ़ोतरी

मौसम वैज्ञानिक डॉ. प्रमोद कुमार बताते हैं कि अगले तीन दिनों तक हवा की गति में परिवर्तन होगा। संभावना जताई जा रही है कि प्रतिदिन हवा की गति बढ़ेगी। बुधवार को हवा की गति जहां 6 मिलोमीटर प्रति घंटे रही, वहीं गुरूवार को यह बढ़कर 8 किलोमीटर प्रति घंटे, शुक्रवार को 9 किलोमीटर प्रतिघंटा, शनिवार को 10.3 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवा चलेगी। प्रतिदिन हवा की गति में बढ़ोतरी होने के कारण ठंड में कोई खास कमी नहीं आएगी।

X
Jamui News - the young man who came to have a broken hand operation died in the hospital
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना