--Advertisement--

72 घाटों पर अर्घ्य देंगे व्रती, एक पर भी सुविधा नहीं

भगवान भास्कर की उपासना का महापर्व छठ नहाय खाय के साथ रविवार से शुरू हो रहा है पर इस बार गंदगी के बीच छठ व्रती भगवान...

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 05:00 AM IST
Sono - varanasi will not help at 72 ghats
भगवान भास्कर की उपासना का महापर्व छठ नहाय खाय के साथ रविवार से शुरू हो रहा है पर इस बार गंदगी के बीच छठ व्रती भगवान सूर्य को अर्घ्य देंगे। बता दें कि प्रखंड में छोटे-बड़े करीब 72 घाट हैं, जहां अर्घ्य दिया जाएगा। एक तो नदी और तालाबों का पानी सूख चुका है, दूसरी ओर प्रशासन की उदासीनता के कारण घाटों पर गंदगी पसरी है। घाटों की साफ-सफाई नहीं की गई है।

हालांकि कुछ घाटों की सफाई लोगों द्वारा की गई है पर अधिकांश छठ घाटों की स्थिति खराब है। यहां हर तरफ कूड़ा फैला है। लोक आस्था का महापर्व छठ पर घाटों की साफ-सफाई के प्रति प्रशासन की उदासीनता समझ से परे है। घाटों तक जाने के लिए बना पहुंच पथ काफी खराब है। इनपर बड़े-बड़े गड्ढे हैं। बरनार नदी के विभिन्न घाटों पर बड़े-बड़े कांश का घास उग आया है। घाट से बालू के अवैध उठाव के कारण बने गड्ढे से भी व्रतियों को दो-चार होना पड़ेगा। पिछले दिनों बीडीओ रवि जी द्वारा कुछ घाटों का निरीक्षण किया गया था फिर भी घाटों की स्थिति नारकीय है।

बीडीओ रविजी ने घाटों का निरीक्षण कर सफाई कराने का दिया था निर्देश, अभी भी स्थिति नारकीय

सोनो घाट पर पसरी गंदगी, जहां बड़ी संख्या में अर्घ्य देने पहुंचते हैं व्रती।

घाट के चारों ओर कचरा का लगा है ढेर


सड़क के दोनों ओर पसरी है गंदगी


घाट पर जाने में व्रतियों को होगी काफी परेशानी


पंचायत के मुखिया को दिया गया है निर्देश


झाझा के उलाय नदी, जिसमें कम पानी में व्रतियों को अर्घ्य देने में होगी परेशानी।

गंदगी अौर बदबू से अर्घ्य देना मुश्किल


उलाय नदी में पानी नहीं, व्रतियों को होगी परेशानी

झाझा | उलाय नदी में पानी की समस्या छठ व्रतियों को सताने लगी है। नदी में नाम मात्र भर पानी होने से व्रतियों एवं श्रद्धालुओं को स्नान करने में समस्या होगी। वहीं नगर पंचायत की ओर से छठ घाटों पर सफाई अभियान के साथ पानी की भी व्यवस्था में लोग जुटे हैं। बीते वर्ष तो नदी में पानी होने के कारण व्रतियों को परेशानी नहीं हुई थी पर इस बार नदी में पानी नहीं दिखाई पड़ रही है। नगर पंचायत ने पानी की समस्याओं से निजात के लिए नदी में जेसीबी से खुदाई करा रही है, लेकिन पर्व मनाने के लिए नदी में पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं है।

Sono - varanasi will not help at 72 ghats
X
Sono - varanasi will not help at 72 ghats
Sono - varanasi will not help at 72 ghats
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..