आशा टीबी उन्मूलन कार्य में घर-घर जाकर कर रही हैं रोगियों की पहचान

Jehanabad News - यक्ष्मा यानि टीबी की पहचान करने के लिए अब संबंधित विभाग के कर्मी, डॉक्टरों, नर्सों के साथ-साथ आशा की भी मदद भी ली जा...

Oct 13, 2019, 07:46 AM IST
यक्ष्मा यानि टीबी की पहचान करने के लिए अब संबंधित विभाग के कर्मी, डॉक्टरों, नर्सों के साथ-साथ आशा की भी मदद भी ली जा रही है। विभागीय सूत्रों के अनुसार एक्टिव केस फाइंडिंग कार्यक्रम के तहत चलाए गए अभियान में घर-घर जाकर रोगियों की पहचान की गई जिसमें तकरीबन पूरे जिले में सवा सौ नए रोगियों की पहचान की गई। जिला यक्ष्मा पदाधिकारी ने बताया कि जिला यक्ष्मा केन्द्र में सभी रोगियों के इलाज व जांच की मुफ्त सुविधा है। यहां सभी रोगियों को जांच के बाद टीबी के पूरे कोर्स की दवा दी जा रही है। कुल मिलाकर यहां इलाज की सुविधाअों में पहले से तुलनात्मक रूप से सुधार देखा जा रहा है।

प्रतिमाह मिलेंगे 500 रुपये: अब स्वास्थ्यकर्मी, नर्स व आशा वर्करों के सहयोग से अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान आशा वर्कर स्लम क्षेत्र, झुग्गी-झोपड़ी वाले क्षेत्रों, भट्ठों व जिन स्थानों पर ज्यादा भवन निर्माण कार्य हो रहे हैं, ऐसे स्थानों पर जाकर विशेष अभियान चलाए गए। विभाग का मकसद भी हर मरीज को रोग से मुक्ति दिलाना है। कोई भी मरीज दवा बीच में न छोड़े तो निश्चित ही इलाज कारगर साबित होगा। आशा को निर्देशित किया गया है कि क्षयरोग सिद्ध होने पर रोगी को नि:शुल्क दवा उपलब्ध कराएं साथ ही रोगी का खाता नंबर कार्यालय को उपलब्ध कराएं ताकि प्रतिमाह 500 रुपये पोषण के लिए भेजा जा सके।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना