शिक्षकों के हितों पर कुठाराघात करने वाली है सरकार की नीति

Jehanabad News - समान काम के लिए समान वेतन की मांग को लेकर शिक्षक संयुक्त संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर शनिवार को काको स्थित मध्य...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:45 AM IST
Kako News - government39s policy to malign the interests of teachers
समान काम के लिए समान वेतन की मांग को लेकर शिक्षक संयुक्त संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर शनिवार को काको स्थित मध्य विद्यालय के प्रांगण में काको प्रखंड के शिक्षकों का कन्वेंशन आयोजित की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष मुमताज हुसैन ने किया। कन्वेंशन को संबोधित करते हुए मोर्चा के जिलाध्यक्ष शंभू शंकर ने कहा कि आज दो तरह की शिक्षा व्यवस्था है। एक तरफ बड़े-बड़े उद्योगपतियों एवं नौकरशाहों के बच्चे के लिए बड़े-बड़े स्कूल हैं तो दूसरी तरफ गरीब गुरबे व आम जनता के बच्चों के बैठने के लिए फर्श भी नसीब नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी निभाने वाले शिक्षक विषम परिस्थितियों से गुजर रहे हैं। सरकार शिक्षकों के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार कर रही है। कन्वेंशन को संबोधित करते हुए मोर्चा के संयोजक रामअवतार कुमार ने कहा कि सरकार शिक्षकों के हितों पर लगातार कुठाराघात कर रही है। मंत्रियों विधायकों का वेतन सिर्फ मेज थपथपा कर बढ़ा दिया जा रहा है। वहीं जब शिक्षकों की सुख-सुविधा और हितों की बात आती है तो सरकार एक न्यायालय के फैसले को पलटवाने के लिए पूरे लाव लश्कर के साथ देश की सर्वोच्च अदालत चली जाती है। यह सरकार की शिक्षक और शिक्षा विरोधी नीति को प्रदर्शित करती है।

शिक्षकों ने कहा- सरकार हमारे साथ दोयम दर्जे का कर रही है व्यवहार

कन्वेंशन में मौजूद शिक्षक व शिक्षिकाएं।

बिहार में सत्रह सौ विद्यालयों को बंद करने पर तुली है सरकार: कन्वेंशन को संबोधित करते हुए मोर्चा के प्रवक्ता राजनधारी शर्मा ने कहा कि सरकार शिक्षा व्यवस्था को पूरी तरह निजीकरण करना चाहती है। इसकी कड़ी के तहत बिहार में लगभग सत्रह सौ विद्यालयों को बंद करने पर तुली है। जो सरकार की घोर शिक्षा विरोधी मानसिकता को प्रदर्शित करती है। मोर्चा के सह संयोजक कौशलेंद्र कुमार ने कन्वेंशन को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षकों को समान काम समान वेतन की मांग को लेकर आगामी 18 जुलाई को पटना में आयोजित महा धरना एवं बिहार विधानसभा का घेराव में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर पटना के धरती को पाट दें। ताकि हमारी मांगों के तरफ सरकार का ध्यान जाए। इस मौके पर मुनेश कुमार, निर्भय कुमार,संजय कुमार, मोहम्मद तनवीर, महासंघ के अध्यक्ष रामाधार शर्मा, माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष बैजनाथ शर्मा, मोर्चा के संयुक्त सचिव सत्येंद्र कुमार, कमलेश कुमार, सत्येंद्र शर्मा, लालबाबू कुमार सहित सैकड़ों शिक्षक उपस्थित थे।

18 को स्कूल बंद कर शिक्षक करेंगे विधान सभा पर प्रदर्शन: जहानाबाद | जिला प्राथमिक शिक्षक समन्वय संघर्ष समिति की बैठक शनिवार को प्राथमिक शिक्षक संघ भवन में आयोजित हुई। बैठक की अध्यक्षता समिति के प्रदेश अध्यक्ष व्रजनंदन शर्मा ने किया। मौके पर उन्होंने कहा कि शिक्षकों के समान कार्य के बदले समान वेतन की मांग को सरकार पूरी नहीं कर नाइंसाफी कर रही है। इस समय हमारी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। अपनी मांगों के लिए शिक्षकों को एकजुट होकर जोरदार आंदोलन करने की जरूरत है। जिससे हमलोगों को न्याय मिल सके लिए शिक्षकों को आर-पार की लड़ाई के लिए तैयार रहने की जरूरत है। ऐसे उनका हक नहीं मिलेगा। मौके पर उन्होंने पूर्व में संघर्ष के बदौलत कई अन्य मांगे पूरी कराने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि शिक्षक समाज का अभिन्न अंग है। इनकी मांगों को सरकार को पूरा करना चाहिए। बैठक में मांगों के समर्थन में 18 जुलाई को स्कूलों को बंद कर पटना में विधान सभा पर धरना प्रदर्शन किये जाने का प्रस्ताव पास किया गया।सभी संगठन के शिक्षक नेताओं ने कहा कि शिक्षक गण पटना की धरती को पाट कर नीतीश कुमार के तुगलकी सरकार की कुंभकरणी निंद्रा को तुड़वाने का कार्य करेंगे।बैठक में प्राथमिक शिक्षक संघ के मोसाहेब शर्मा, नंद्रकिशोर शर्मा, रामप्रवेश सिह, अमरेश कुमार, शंभु कुमार, विनीत पांडेय, राकेश कुमार, ब्रजेश कुमार, रामप्रसाद, अनिल कुमार समेत कई प्रमुख लोग उपस्थित थे।

X
Kako News - government39s policy to malign the interests of teachers
COMMENT