सिटीजनशिप बिल गृहयुद्ध में धकेलने की साजिश

Kaimur News - सिटीजनशिप बिल भारत को गृह युद्ध में धकेलने की साजिश है। इसे सरकार को तुरंत वापस लेना चाहिए। यह बातें प्रवक्ता और...

Dec 15, 2019, 06:46 AM IST
सिटीजनशिप बिल भारत को गृह युद्ध में धकेलने की साजिश है। इसे सरकार को तुरंत वापस लेना चाहिए। यह बातें प्रवक्ता और कौमी एकता मंच के प्रमुख जमील खान ने कही। दरअसल सिटीजनशिप बिल को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन के बीच शनिवार को डॉक्टर अंबेडकर स्टूडेंट फ्रंट ऑफ इंडिया और कौमी एकता मंच के तत्वाधान में आक्रोश मार्च निकाला गया। शहर के पटेल चौक से जिला मुख्यालय तक एनआरसी व नागरिक संशोधित बिल के खिलाफ विभिन्न संगठनों के द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया। लोगो को संबोधित करते कौमी एकता मंच के प्रमुख ने कहा कि भारत के अंतरराष्ट्रीय बार्डर के समीप लगे राज्य मणिपुर, मिजोरम, सिक्किम, अरुणाचल में विद्रोह होना शुरू भी हो गया है। फिर अंदरूनी राज्यो में होंगे।इसका नतीजा असम देख चुका है। जहाँ सरकारी सेवा में रहे लोग भी कैंप में रह रहे हैं। चाहे वो हिन्दू हो या मुस्लिम। अगर देश में बंगलादेश के लोग है या कही के भी है उनको पहचान कर निकलना काफी आसान है। यह कानून लाकर मुस्लिमो को परेशान करने के लिए अलग से लाया गया हैं। हकीकत में सरकार इसे हिन्दू- मुस्लिम मुद्दा बना कर देश मे ये मुद्दा जारी रखने देना चाहती है।

एनआरसी बील के खिलाफ नगर में प्रदर्शन करते लोग।

बिल सविंधान के खिलाफ वापस ले सरकार | कहा गया कि ये बिल सिर्फ मुसलमानों के ही खिलाफ नहीं देश और संविधान के भी खिलाफ है। इसलिए सरकार को इस दमनकारी अलोकतांत्रिक व पूर्णतः असंवैधानिक बिल को तुरंत वापस लेना चाहिए। ताकि देश की एकता अखंडता कायम रह सके। इस दौरान सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुलिस भी हर जगह मौजूद रही। विरोध प्रदर्शन में शब्बीर आलम,मीम साहिल खान, वसीम खान, इलियास अंसारी, आमिर अंसारी, मासुक खान,हनीफ खान, नीयाजुद्दीन अंसारी,औरंगज़ेब खान,सतीश यादव पिंटू, समेत सैकड़ों लोग शामिल रहे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना