पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Kaimur News Road Jammed Due To The Row Of Rice Laden Trucks Near Sfc Warehouse

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एसएफसी गोदाम के समीप चावल लदे ट्रकों की कतार लगने से सड़क जाम

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी रिपोर्टर | रामगढ़/मोहनिया

एसएफसी द्वारा इन दिनों पैक्स समितियों से चावल की खरीद की जा रही है। जिसके चलते एसएफसी के गोदाम के अगल बगल चावल लदे ट्रकों की लम्बी कतार लग जा रही है। सड़क जाम हो जा रही है। इसकी वजह यह बताई जा रही है कि एसएफसी द्वारा गोदाम की क्षमता से अधिक का एक्सेप्टेंस आर्डर पैक्स समितियों को दे दिया जा रहा है। मोहनिया की पैक्स समितियों द्वारा मिल से चावल का उठाव कर मोहनिया बाज़ार समिति स्थित एसएफसी गोदाम में जमा करना होता है। इसके लिए मोहनिया बाजार समिति में एसएफसी के गोदाम बने हुए हैं। लेकिन जिस गोदाम की क्षमता 50 टन की है उस गोदाम में चावल स्टॉक करने के लिए 70 टन से भी अधिक का एक्सेप्टेंस आर्डर पैक्स समितियों को दे दिया जा रहा है। नतीजतन पैक्स समितियों के चावल लदे ट्रकों को कई दिनों तक गोदाम के बाहर सड़क पर खड़ा रहना पड़ रहा है। इसके चलते रामगढ़- मोहनिया पथ पर हर रोज घंटों जाम की स्थिति उत्त्पन्न हो जा रही है।

एसएफसी गोदाम की क्षमता से ज्यादा दे दिया जा रहा है एक्सेप्टेंस आॅर्डर
सड़क किनारे खड़े चावल लदे ट्रक।

64 मिलों का किया गया है चयन
कुल 151 पैक्स समितियों व करीब 10 व्यापार मंडलों द्वारा किसानों से खरीदे गए धान की मिलिंग करने के लिए जिले में 64 मिलों का चयन किया गया है। ताकि समय से धान की मिलिंग कर चावल एसएफसी को दिया जा सके। कैमूर में धान की अच्छी उपज होती है। लिहाजा पैक्स समितियों व व्यापार मंडल द्वारा काफी मात्रा में धान की ख़रीदादरी की जाती है। लेकिन जिले में धान की उपज के अनुसार गोदामों का निर्माण नही कराया जा सका। जिसकी वजह से पैक्स समितियों के चावल लदे ट्रकों कई दिनों तक सड़क पर खड़ा करना पड़ जा रहा है।

एसएफसी समय से नहीं कर रहा है चावल का भुगतान
पैक्स अध्यक्ष राजू सिंह, अंगद सिंह, लोहा चौधरी, संजय सिंह व पप्पू सिंह समेत कई लोगों ने बताया कि मिलरों द्वारा चावल की मिलिंग तो कर दी जा रही है लेकिन एसएफसी द्वारा समय से चावल का स्टॉक करने की कोई समुचित व्यवस्था नहीं की जा रही है। जिस गोदाम की क्षमता 50 मिट्रिक टन है उसके लिए 70 से 80 टन तक चावल लेने के लिए एक्सेप्टेंस आर्डर पैक्स समितियों को दे दिया जा रहा है। जिसकी वजह से समय से चावल गोदाम में अनलोड नहीं हो पा रहा है। लिहाजा कई दिनों तक चावल लोड ट्रकों को सड़क पर खड़ा रहना पड़ रहा है। जबकि ट्रक वालों को किराया के अलावा अतिरिक्त 15 सौ रुपए प्रतिदिन देने पड़ते हैं। यह स्थिति कई दिनों से बनी हुई है। एसएफसी द्वारा पैक्स समितियों को समय से चावल का भुगतान भी नहीं किया जा रहा है। सरकार 30 मार्च तक लक्ष्य के मुताबिक धान खरीदने का फरमान जारी कर चुकी है।

समितियों को समय से हो रहा है भुगतान : डीएम
एसएफसी डीएम संतोष कुमार ने बताया कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष चावल का उठाव ज्यादा हुआ है। पिछले वर्ष मार्च तक एक रैक भी चावल का उठाव नहीं हुआ था। जबकि इस वर्ष अब तक तीन रैक चावल का उठाव किया जा चुका है। मार्च के अंत तक 8 रैक चावल का उठाव होने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि पैक्स समितियों को समय से भुगतान कर दिया जा रहा है। कुछ लोग बिना एक्सेप्टेंस आर्डर लिए ही ट्रकों पर चावल लोड कर गोदाम पर लेकर चले आ रहे हैं। जिसकी वजह से गोदाम के बाहर फिजूल के ट्रकों की लम्बी कतार लग जा रही है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी भी लक्ष्य को अपने परिश्रम द्वारा हासिल करने में सक्षम रहेंगे। तथा ऊर्जा और आत्मविश्वास से परिपूर्ण दिन व्यतीत होगा। किसी शुभचिंतक का आशीर्वाद तथा शुभकामनाएं आपके लिए वरदान साबित होंगी। ...

    और पढ़ें