धन संपत्ति ईश्वर की कृपा से मिलती है इसलिए संतों के बताए मार्ग पर चलें : पं.शिवपूजन

Kaimur News - विख्यात साधक एवं यज्ञकर्ता जगतशिष्य पं. शिवपूजन चतुर्वेदी ने कहा कि धन संपत्ति ईश्वर की कृपा से हीं प्राप्त होती...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:50 AM IST
Bhabhua News - wealth is inherited by the grace of god so follow the path of saints pt shivpujan
विख्यात साधक एवं यज्ञकर्ता जगतशिष्य पं. शिवपूजन चतुर्वेदी ने कहा कि धन संपत्ति ईश्वर की कृपा से हीं प्राप्त होती है। इसलिए संतों के बताए मार्ग पर चलकर इनका प्रयोग जन कल्याण, गरीबों वंचितों की सहायता में करना आवश्यक है। इसी से समाज में प्रेम, करुणा एवं शांति की स्थापना होगी। धर्म और परोपकार नहीं होने पर माता लक्ष्मी उस व्यक्ति को छोड़कर किसी धर्मात्मा की खोज में निकल पड़ती हैं। पंडित जी की बातों से प्रभावित होकर रामगढ़ के प्रतिष्ठित विद्वान पं. गिरीश दूबे ने गांव के गरीब लालता साह, शिवम साह, रामजी गुसाईं एवं पुजारी जी को वस्त्र, अन्न एवं नकद राशि की सहायता प्रदान की जिसके लिए पंडित चतुर्वेदी ने उनका अभिनंदन किया। रामगढ़ एवं पड़ोसी गांवों के कई समृद्ध लोगों ने अपने यहाँ निर्धन एवं वंचित जन की सेवा सहायता का संकल्प लिया। पंडित जी ने व्यक्तित्व के समग्र विकास के बारे में बताया कि प्रत्येक व्यक्ति के अंदर ईश्वर स्थित हैं। जिनके जागरण का बीजमंत्र व्यक्ति के नाम में हीं निहित है। जिसका विधि पूर्वक उपयोग करने से व्यक्ति के जीवन की सारी परेशानियाँ दूर होने लगती हैं। इस मंत्र के प्रभाव से व्यक्ति ब्राह्मी चेतना को प्राप्त कर सकता है। यदि पृथ्वी पर स्थित दो प्रतिशत लोग प्रतिदिन इस बीज मंत्र का अभ्यास करने लगेंगे तो विश्व में शांति एवं सम्पन्नता सम्भव है। पंडित जी ने वहाँ उपस्थित श्रद्धालुओं को बीजमंत्र तथा उसके जागरण की प्रक्रिया बताई। उन्होंने कहा कि मात्र तीन दिनों के प्रयोग से सकारात्मक परिवर्तन स्पष्ट होने लगेंगे। उन्होंने कहा कि मेरा उद्देश्य मानवता की स्थापना है।

श्रद्धालुओं द्वारा अर्पित चढ़ावे को असहायों में किया वितरित

श्रद्धालुओं द्वारा अर्पित चढ़ावे को पंडित जी द्वारा रामगढ़ एवं शबरी टोला के के अति ग़रीब व असहाय लोगों में वितरित कर दिया गया। कथा का आयोजन रामगढ़ यज्ञ समिति ने किया जिसमें जगतशिष्य के साथ पधारे वाराणसी के वैदिक विद्वान एवं काफी संख्या में स्थानीय श्रद्धालु उपस्थित थे।

भास्कर न्यूज। भभुआ/रामगढ़

विख्यात साधक एवं यज्ञकर्ता जगतशिष्य पं. शिवपूजन चतुर्वेदी ने कहा कि धन संपत्ति ईश्वर की कृपा से हीं प्राप्त होती है। इसलिए संतों के बताए मार्ग पर चलकर इनका प्रयोग जन कल्याण, गरीबों वंचितों की सहायता में करना आवश्यक है। इसी से समाज में प्रेम, करुणा एवं शांति की स्थापना होगी। धर्म और परोपकार नहीं होने पर माता लक्ष्मी उस व्यक्ति को छोड़कर किसी धर्मात्मा की खोज में निकल पड़ती हैं। पंडित जी की बातों से प्रभावित होकर रामगढ़ के प्रतिष्ठित विद्वान पं. गिरीश दूबे ने गांव के गरीब लालता साह, शिवम साह, रामजी गुसाईं एवं पुजारी जी को वस्त्र, अन्न एवं नकद राशि की सहायता प्रदान की जिसके लिए पंडित चतुर्वेदी ने उनका अभिनंदन किया। रामगढ़ एवं पड़ोसी गांवों के कई समृद्ध लोगों ने अपने यहाँ निर्धन एवं वंचित जन की सेवा सहायता का संकल्प लिया। पंडित जी ने व्यक्तित्व के समग्र विकास के बारे में बताया कि प्रत्येक व्यक्ति के अंदर ईश्वर स्थित हैं। जिनके जागरण का बीजमंत्र व्यक्ति के नाम में हीं निहित है। जिसका विधि पूर्वक उपयोग करने से व्यक्ति के जीवन की सारी परेशानियाँ दूर होने लगती हैं। इस मंत्र के प्रभाव से व्यक्ति ब्राह्मी चेतना को प्राप्त कर सकता है। यदि पृथ्वी पर स्थित दो प्रतिशत लोग प्रतिदिन इस बीज मंत्र का अभ्यास करने लगेंगे तो विश्व में शांति एवं सम्पन्नता सम्भव है। पंडित जी ने वहाँ उपस्थित श्रद्धालुओं को बीजमंत्र तथा उसके जागरण की प्रक्रिया बताई। उन्होंने कहा कि मात्र तीन दिनों के प्रयोग से सकारात्मक परिवर्तन स्पष्ट होने लगेंगे। उन्होंने कहा कि मेरा उद्देश्य मानवता की स्थापना है।

श्रद्धालुओं द्वारा अर्पित चढ़ावे को असहायों में किया वितरित

श्रद्धालुओं द्वारा अर्पित चढ़ावे को पंडित जी द्वारा रामगढ़ एवं शबरी टोला के के अति ग़रीब व असहाय लोगों में वितरित कर दिया गया। कथा का आयोजन रामगढ़ यज्ञ समिति ने किया जिसमें जगतशिष्य के साथ पधारे वाराणसी के वैदिक विद्वान एवं काफी संख्या में स्थानीय श्रद्धालु उपस्थित थे।

प्रवचन सुनते लोग।

X
Bhabhua News - wealth is inherited by the grace of god so follow the path of saints pt shivpujan
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना