पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आशा कार्यकर्ताओं का आंदोलन एक दिसंबर से

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कटिहार | अपनी मांगों को लेकर मान्यता प्राप्त आशा संघर्ष समिति ने राष्ट्रव्यापी आंदोलन करने का निर्णय लिया है। इसी कड़ी में गुरुवार को संघर्ष समिति की बैठक अध्यक्ष फकरीन निशा की अध्यक्षता न हुई। इस अवसर पर संघ के जिला संयोजक दयानंद सिंह ने बैठक में प्रस्ताव पेश किया। जिसमें निर्णय लिया गया कि एक दिसंबर से आशा कार्यकर्ता अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चली जाएंगी। अपनी विभिन्न मांगाें को लेकर उसी दिन से चिकित्सकों को घेराव किया जाएगा। 10 दिसंबर को सिविल सर्जन का घेराव होगा और 18 दिसंबर को कटिहार समाहरणालय घेरा जाएगा। राज्यव्यापी आंदोलन के अंतर्गत आशाकर्ता 13 और 14 को मुख्यमंत्री का घेराव करेंगी।

जबकि आठ और नौ जनवरी को राष्ट्रीय व्यापी हड़ताल होगी। विदित हो कि 18 हजार रुपए मासिक मानदेय व स्थायीकरण मुख्य मांग है। इसके पहले भी आशा कार्यकर्ताओं द्वारा आंदोलन होता रहता है। इसी बीच 23 दिसंबर को जिला सम्मेलन का भी आयोजन किया गया है। जिला संयोजक दयानंद सिंह ने कहा कि आशा कार्यकर्ता स्वास्थ सेवा की अनुपात में उन्हें उस अनुपात में न तो मानदेय मिलता है और न ही सुविधा। इसलिए मजबूर होकर हम अपनी 12 सूत्रों मांग को लेकर हड़ताल करेंगे। बैठक में निशांत प्रवीण, मीणा देवी, शीला देवी, सुधा कुमारी व रीता कुमारी सहित अन्य भी उपस्थित थीं।

खबरें और भी हैं...