पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Katihar News Bliss Giving Employment To People By Making Sattu As Cottage Industry

सत्तू निर्माण को कुटीर उद्योग का रूप देकर लोगों को रोजगार दे रहे परमानंद

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दो दर्जन से अधिक महिला व पुरुषों को रोजगार दे चुके } सत्तू की मांग बढ़ने पर किया मिल स्थापित

शहर के लालकोठी में आनंद मार्का सत्तू तैयार कर रहे परमानंद झा ने बिना किसी सरकारी मदद के अपने कारोबार को कुटीर उद्योग का रूप दे दिया है।
सत्तू को मशहूर करने अधिक से अधिक लोगों को रोजगार देने के उद्देश्य से अपनी धुन में जुटे परमानंद अभी तक दो दर्जन से अधिक महिलाएं व पुरुषों को रोजगार दे चुके हैं। पहले यहां आसपास की महिलाएं इस काम में लगकर सत्तू बनाती थीं, लेकिन जब सत्तू की मांग बढ़ने लगी तो संचालक परमानंद ने स्वयं की मिल स्थापित किया। अब रोजाना दो से ढाई क्विंटल सत्तू तैयार किये जा रहे हैं। इस काम में दो दर्जन से अधिक बेरोजगार महिला, पुरुषों को रोजगार भी मिल रहा है। सत्तू निर्माण कार्य में जुटी महिलाओं का भी कहना है इससे उन्हें अच्छी आमदनी हो रही है जिससे आर्थिक उन्नति के साथ उनकी जिंदगी संवर रही है। परमानंद की सोच है कि कटिहार के इस सत्तू उद्योग को पूर्णिया, सीमांचल ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय स्तर पर बढ़े। जिसके लिए वो स्वयं थोक खरीदारों से लेकर खुदरा विक्रेताओं से संपर्क करते हैं। अभी यहां की सत्तू पूर्णिया एवं सीमांचल के अलावा कोसी क्षेत्रों में पैठ बना चुकी है।

साफ-सफाई से पैकेजिंग तक का रखते हैं ध्यान

सत्तू तैयार करने से लेकर इसे उद्योग का रूप देने वाले परमानंद कार्य स्थल पर साफ-सफाई से लेकर अन्य जरूरी कामकाज को पूरी पारदर्शिता के साथ ध्यान रखते हैं। सत्तू पैक करने के लिए पैकेजिंग मशीन मंगाई गई है। साथ ही परमानंद ने उद्योग विभाग में अपना निबंधन कराकर इस व्यवसाय को और बढ़ाने की आशा भी जतायी है। परमानंद बताते हैं कि जब बिहारी सत्तू की मांग राज्य से बाहर होती है तो फिर हम इसे घर में क्यों नहीं तैयार कर सकते। अगर हर जिले में प्रशासन बेरोजगारों को जोड़कर इस तरह के व्यवसाय को बढ़ावा दे तो बड़े पैमाने पर आर्थिक उन्नति की जा सकती है।

चूड़ा मिल से की थी सत्तू निर्माण की शुरुआत

परमानंद बताते हैं कि उन्होंने चूड़ा मिल से अपने रोजगार शुरू किए लेकिन कम बचत होने के कारण उसमें मन नहीं लगा। जब आसपास के इलाके में देखा कि गर्मी के समय में सत्तू की मांग बढ़ जाती है तो सोचा क्यों नहीं इस उद्योग को ही रोजगार का रूप दिया जाए। बस इसी को आगे बढ़ाते हुए वाे यहां तक पहुंचे हैं। आज आनंद सत्तू की मांग शहर व आसपास के इलाके में बढ़ गई है। खरीदार भी सोचते हैं कि इससे किसी स्थानीय उद्योग को ही बल मिल रहा है।

लालकोठी स्थित व्यवसायिक परिसर में सत्तू निर्माण में लगीं महिलाएं।

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। वैसे भी आज आपको हर काम में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इसलिए पूरी मेहनत से अपने कार्य को संपन्न करें। सामाजिक गतिविधियों में भी आप...

और पढ़ें