• Hindi News
  • Bihar
  • Katihar
  • Katihar News doctors don39t have flashlight bp machine even in opd it is not fit to become district hospital

ओपीडी में डॉक्टरों के पास टॉर्च, बीपी मशीन तक नहीं, यह जिला अस्पताल बनने लायक नहीं है

Katihar News - स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार की दो सदस्यीय टीम संयुक्त आयुक्त डॉ. ज्योति रावत एवं मयंक कुमार ने...

Jan 16, 2020, 07:55 AM IST
Katihar News - doctors don39t have flashlight bp machine even in opd it is not fit to become district hospital
स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार की दो सदस्यीय टीम संयुक्त आयुक्त डॉ. ज्योति रावत एवं मयंक कुमार ने कटिहार सदर अस्पताल का लगभग 4 घंटे तक औचक निरीक्षण किया। इस दौरान संयुक्त आयुक्त ने अस्पताल के प्रबंधन से लेकर साफ-सफाई, प्रतिरक्षण कक्ष में गर्म पानी की व्यवस्था नहीं रहने, ओपीडी में डॉक्टरों के पास टॉर्च, बीपी मशीन, आला नहीं रहने, बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम लागू नहीं रहने, अस्पताल परिसर में जर्जर अवस्था में पड़े हुए वाहन एवं अन्य सामग्री को नहीं हटाने पर गहरी नाराजगी जतायी।

निरीक्षण के दौरान सिविल सर्जन सहित उपस्थित अधिकारियों को अधिकारी द्वय ने स्पष्ट कहा कि ऐसी व्यवस्था में ये जिला अस्पताल कहलाने लायक नहीं है। संयुक्त आयुक्त डॉ ज्योति रावत ने निरीक्षण के दौरान अस्पताल के सभी वार्ड, दवा वितरण केंद्र, दवा भंडार कक्ष, टीवी वार्ड, एसएनसीयू, ब्लड बैंक, एंबुलेंस, प्रसव वार्ड आदि जगहों का बारीकी से निरीक्षण किया।

प्रतिरक्षण कक्ष में नहीं मिली वेस्टेज के लिए बाल्टी, अस्पताल परिसर में पड़े हैं जर्जर वाहन

अस्पताल में डॉक्टर के ड्यूटी चार्ट को बोर्ड पर देखते संयुक्त आयुक्त।

जल्द ही एक्सपायर करने वाली दवा हटाने का दिया निर्देश

जांच के दौरान उपस्थित कर्मी एवं मरीजों से आवश्यक पूछताछ भी की। टीवी वार्ड में तो जानकारी देने के लिए कर्मी ही गायब मिले। संयुक्त आयुक्त ने खासकर सर्जिकल वार्ड के निरीक्षण के दौरान कहा कि सरकार की राशि का पूर्णत: दुरुपयोग हो रहा है। निरीक्षण के दौरान अस्पताल के एक्स-रे रूम और मशीन को देखकर स्पष्ट कहा कि यह सदर अस्पताल के लायक नहीं है। उन्होंने दवा भंडार कक्ष में जाकर नियरेस्ट एक्सपायरी दवा को हटाने का निर्देश दिया।

9:30 बजे से चार घंटे तक अस्पताल का किया निरीक्षण

संयुक्त आयुक्त ने 9:30 बजे से निरीक्षण प्रारंभ किया जो चार घंटा चला अपने निरीक्षण के दौरान सबसे पहले वो प्रतिरक्षण कक्ष गए जहां उन्होंने प्रतिरक्षण कक्ष में गंदगी देखकर कहा ऐसी व्यवस्था में अगर बच्चे का टीकाकरण हो रहा तो वह स्वस्थ कभी नहीं होगा। उन्होंने प्रतिरक्षण कक्ष में न तो बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम के तहत बकेट देखा और न ही हीटर, गर्म पानी, स्ट्रलाइज करने की सुविधा उन्हें देखने को मिला।

ईसीजी और कालाजर केंद्र के निरीक्षण में पूछताछ करते अधिकारी।

24 घंटे में प्रसव वार्ड में नवजात का किया जाए टीकाकरण

संयुक्त आयुक्त ने प्रसव वार्ड का निरीक्षण करते हुए कहा कि मरीजों का पंजी संधारित पूर्ण रूप से नहीं है। उन्हें रजिस्टर में कितने माता एनिमिक है इसका विवरण नहीं मिला। उन्होंने स्पष्ट कहा कि जन्म के बाद किसी भी बच्चे का टीकाकरण के लिए उसे कहीं अन्यत्र नहीं ले जाना है बल्कि प्रसव वार्ड में ही 24 घंटे टीकाकरण की व्यवस्था होनी चाहिए। संयुक्त आयुक्त को प्रसव वार्ड में ऑक्सी टॉक्सिन जैसी महत्वपूर्ण दवाई उपलब्ध नहीं रहने पर खासी नाराजगी जाहिर की।

अस्पताल में साफ-सफाई के नाम पर कुछ नहीं है


Katihar News - doctors don39t have flashlight bp machine even in opd it is not fit to become district hospital
X
Katihar News - doctors don39t have flashlight bp machine even in opd it is not fit to become district hospital
Katihar News - doctors don39t have flashlight bp machine even in opd it is not fit to become district hospital
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना