सौंदर्यीकरण में रेल प्रशासन ने इंजन लगाकर खर्च किया था 25 लाख, अब कबाड़ में बेचा

Katihar News - कटिहार रेल स्टेशन परिसर की सुंदरता को और बेहतर बनाने के उद्देश्य से चार साल पहले 25 लाख में जिस बड़े लोकोमॉटिव इंजन...

Bhaskar News Network

Mar 20, 2019, 03:25 AM IST
Katihar News - in the beautification of the railway administration the engine was spent 25 lakhs now sold in junk
कटिहार रेल स्टेशन परिसर की सुंदरता को और बेहतर बनाने के उद्देश्य से चार साल पहले 25 लाख में जिस बड़े लोकोमॉटिव इंजन को आकर्षक ढंग से सजाकर लगाया गया था उसे रेल प्रशासन ने अब कबाड़ को बेच दिया गया। मजे की बात ये है कि इस पूरे मामले से रेल मैकेनिकल एवं इलेक्ट्रिकल विभाग के वरीय अधिकारी अपने अाप को अनजान बताते हैं।

जब इंजन लगी थी तो खासकर आते जाते रेल यात्रियों एवं आसपास के युवा एवं युवतियों के लिए मोबाइल से फोटो खीचने का यह सेल्फी प्वांइट बन गया था। लेकिन करीब सवा करोड़ से स्टेशन परिसर में अभी चल रहे सौंदर्यीकरण योजना में इस इंजन से बाधा उत्पन्न होने लगा। रेल उपभोक्ता एवं जानकार बताते हैं कि आखिर इतनी बड़ी राशि से इंजन अधिष्ठापन से लेकर हटाने का जिम्मेवार कौन होगा। अधिकारी का मन बदल जाए तो रेल राजस्व के लाखों रुपए पानी की तरह बहा दिए जाते हैं। जबकि, इस राशि का किसी रेल की विकास योजनाओं में सदुपयोग किया जा सकता था। पहले रेल मैकेनिकल विभाग द्वारा इस कार्य की देखरेख की जाती थी, लेकिन अब रेल इलेक्ट्रिकल एवं इंजीनियरिंग विभाग के मातहत स्टेशन परिसर में सुंदरता को लेकर चार चांद लगाए जा रहे हैं। इस चार चांद के चक्कर में रेल के लाखों के वारे न्यारे हो रहे हैं।

विभागीय अधिकारी अनजान

भास्कर पड़ताल में विभागीय अधिकारियों से भी बात की गई तो उन्होंने इस सवाल से अपने को अलग रखना चाहा। लेकिन इतना जरूर बताया कि तत्कालीन रेल अधिकारियों के निर्णय पर ही इस इंजन को लगाया गया था। मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल के अलावा इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी भी सारे काम का ठीकरा पूसी रेल मुख्यालय पर तोड़ रहे हैं।

क्यों हटाया जा रहा है इसकी जानकारी नहीं


मुख्यालय के निर्देश पर हटाई जा रही है, मुझे जानकारी नहीं है


X
Katihar News - in the beautification of the railway administration the engine was spent 25 lakhs now sold in junk
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना