पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Katihar News Internet Banking Facility Will Not Be Available From December 1

एक दिसंबर से नहीं मिलेगी इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के वैसे ग्राहक जिनका मोबाइल नंबर उनके बैंक खाता से लिंक नहीं है उसे जोड़ने का शुक्रवार यानी 30 नवंबर को आखिरी दिन है। इसे बैंक प्रशासन ने अनिवार्य बताया है। कहा है कि ऐसे ग्राहक जो अबतक अपना नंबर बैंक खाते से रजिस्टर्ड नहीं करा पाए हैं उन्हें एक दिसंबर से बैंक द्वारा इंटरनेट बैंकिंग की सुविधा नहीं दी जाएगी। इसके अलावा बैंक प्रशासन का कहना है कि एसबीआई के ग्राहकों को पूर्व में मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले एटीएम कार्ड को 31 दिसंबर से पहले बदलवा लें। इसकी जगह अब ईएमवी चिप वाले डेबिट कार्ड डाक द्वारा भेजे जा रहे है। एसबीआई के मुख्य शाखा प्रबंधक अरुण कुमार ने बताया कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से बैंक प्रशासन द्वारा ऐसा निर्णय लिया गया है। जिसका जिले की विभिन्न शाखाओं में पालन किया जा रहा है। एसबीआई के खाताधारकों को अभी इंटरनेट बैकिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है जिसमें वह अपने एंड्रायड मोबाइल से योनो खाता द्वारा न केवल पैसे का स्थानांतरण करते हैं बल्कि कई तरह के बिल का भी भुगतान इसके माध्यम से होता है। जबकि वैसे ग्राहक जिनका मोबाइल नंबर बैंक खाता से लिंक नहीं है, उनकी सेवा एक दिसंबर से बंद हो जाएगी। इसके साथ ही एसबीआई के मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले एटीएम कार्ड को ईएमवी चिप वाले कार्ड में बदला जा रहा है। डाक द्वारा संबंधित एसबीआई शाखा के ग्राहकों को मुंबई एवं दिल्ली के एटीएम कार्ड निर्माण करने वाले कंपनी से से सीधे डाक द्वारा भेजा जा रहा है।

शहर के न्यू मार्केट स्थित एसबीआई बैंक की शाखा।

सुरक्षा की दृष्टि से हो रहा है बदलाव
बैंक सूत्रों ने बताया कि पुराने डेबिट कार्ड के पीछे की तरफ कि काली पट्टी मैग्नेटिक स्ट्रीप से लैस रहती है, जिसमें बैंक खाता की पूरी जानकारी दर्ज होती है। किसी भी बैंक के एटीएम में स्वैप करने के बाद पिन नंबर डालते ही खाते से पैसे निकलते हैं। लेकिन मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले कार्ड सुरक्षा के दृष्टिकोण से कमजोर है। हाल के दिनों में एटीएम पिन व पासवर्ड के वर्ड का क्लोन तैयार कर धोखाधड़ी के बढ़ते मामले को देखते हुए बैंक प्रशासन ने ऐसा निर्णय लिया है। इसलिए ऐसे कार्डों को चिप वाले कार्ड में तब्दील किया जा रहा है। इसके एवज में ग्राहकों को कोई शुल्क जमा नहीं करना होगा।

योनो खाताधारी को 200 प्वाइंट का रिवॉर्ड
एसबीआई में पूर्व की तरह सीधे तौर पर ग्राहकों का खाता खोलना मुश्किल भरा होता था। जिसके विकल्प के रूप में ऑनलाइन बैंकिंग के माध्यम से एसबीआई ने पिछले साल पूर्व योनो खाता की शुरुआत की थी। जिसमें ग्राहक बिना बैंक गए घर बैठे अपना खाता खुलवा सकते हैं। इसके साथ ही पूरी बैंकिंग सुविधा मिलती है।

खबरें और भी हैं...