कण-कण में बसते हैं भगवान : भागवत शरण

Khagaria News - परबत्ता प्रखंड अंतर्गत देवरी पंचायत के देव नगर शिव मंदिर परिसर में चल रही श्रीमद भागवत कथा के दूसरे दिन बुधवार को...

Jan 16, 2020, 08:40 AM IST
Parbatta News - god resides in every particle bhagwat sharan
परबत्ता प्रखंड अंतर्गत देवरी पंचायत के देव नगर शिव मंदिर परिसर में चल रही श्रीमद भागवत कथा के दूसरे दिन बुधवार को भागवत शरण महाराज ने हिरण्यकश्यप और भक्त प्रह्लाद की कथा सुनाई। देवरी पैक्स अध्यक्ष रंजीत कुमार उर्फ राणा ने दीप प्रज्वलित एवं ठाकुर जी को माल्यार्पण कर कथा का शुभारंभ किया।

कथा सुनाते हुए भागवत शरण महाराज ने कहा कि हिरण्यकश्यप अपने भाई की मौत का बदला भगवान विष्णु से लेने के लिए ब्रह्मा जी को खुश करने के लिए एक वट वृद्वा के नीचे तपस्या करने लगा। वहीं देव गुरु वृहस्पति तोते का रूप धारण कर वृक्ष पर बैठ गए। और नारायण नाम का रटने लगे। आजिज होकर हिरण्यकश्यप तपस्या छोड़ कर घर आ गया। पत्‍‌नी ने पूछा कि आप तपस्या छोड़कर क्यों चले आए तो उसने तोते की बात बताई। पत्‍‌नी ने भी भगवान के नाम का जप किया और गर्भ ठहर गया और भक्त प्रह्लाद का जन्म हुआ। जब प्रह्लाद गुरुकुल से घर आए तो हिरण्यकश्यप ने पूछा कि क्या शिक्षा ग्रहण किया तो प्रह्लाद भगवान का गुणगान करने लगे।

इससे हिरण्यकश्यप क्रोधित होकर बोला- तुम मेरे शत्रु का गुणगान कर रहे हो। लेकिन प्रह्लाद ने भगवान की अराधना नहीं छोड़ी। हिरण्यकश्यप अत्याचार करता रहा और भगवान प्रह्लाद को बचाते रहे। एक दिन हिरण्यकश्यप ने प्रहलाद से कहा कि तुम्हारे भगवान कहां हैं। प्रह्लाद ने जवाब दिया कि वे कण-कण में हैं और इस खंभे में भी हैं। इतना सुनते ही हिरण्यकश्यप ने तलवार निकाल कर खंभे पर वार कर दिया। तब नरसिंह के रूप में भगवान प्रकट होकर हिरण्यकश्यप का वध कर देते है। कथा को श्रवण करने के लिए पिंटू कुमार, विंदेश्वरी यादव, संजय,विलास एवं सैकड़ों महिला श्रद्धालु मौजूद थे।

देवरी में भागवत कथा के दौरान प्रवचन करते भागवत शरण महाराज।

X
Parbatta News - god resides in every particle bhagwat sharan
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना