महिला चिकित्सक की जगह ममता दीदी व नर्स के भराेसे महिला मरीज

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:06 AM IST

Kishanganj News - प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्र में सरकारी स्वास्थ्य सेवा बदहाल है। सरकार और सिस्टम बेहतर स्वास्थ्य का दावा ताे करती...

kishanganj News - mamta didi and female nurses full of female doctor instead of female doctor
प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्र में सरकारी स्वास्थ्य सेवा बदहाल है। सरकार और सिस्टम बेहतर स्वास्थ्य का दावा ताे करती है, लेकिन बेलवा स्वास्थ्य उपकेंद्र में डॉक्टर के अभाव में पीएचसी में इलाज की सुविधा नहीं मिल पा रही है। बेलवा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसव कराने आई महिलाओं के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। वार्ड तो है मगर कोई महिला डॉक्टर नहीं है। दो माह पहले सदर अस्पताल में पदस्थापित महिला चिकित्सक डॉ आशिया नूरी को पीएचसी में डिप्टेशन पर भेजा गया था, वापस बुला लिया गया।

स्थिति यह है कि प्रसव के लिए पहुंचने वाली महिलाओं का ममता दीदी और जीएनएम देख रेख करती हैं। केंद्र में पीएचसी प्रभारी सहित एक अन्य डॉक्टर वर्तमान में पदस्थापित हैं, जबकि यहां छह डॉक्टरों के पद स्वीकृत है। केंद्र में कर्मी भी पर्याप्त संख्या में नहीं हैं। यह दिखाई नहीं देता।

शहर से 12 किमी दूर किशनगंज-ठाकुरगंज पथ स्थित बेलवा पीएचसी।

टीकाकरण अभियान तक सिमट गया विभाग

जिला स्वास्थ्य महकमा सरकारी अभियान व टीकाकरण अभियान तक ही सिमट कर रह गया है। आम लोगों को बुखार, सर्दी की भी दवाई इन दिनों स्वास्थ्य उपकेंद्र से नहीं मिलता है। ग्रामीण थक हार कर गरीबी के कारण झोलाझाप डॉक्टर से अपना इलाज कराते है। गंभीर मरीजों को सदर अस्पताल रेफर कर दिया जाता है।

झोलाझाप डॉक्टराें की कट रही चांदी

प्रखंड के सैकड़ाें मरीज यहां इलाज के लिए पहुंचते हैं, लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगती है। दवा केंद्र ताे है, लेकिन सभी तरह की दवाएं यहां उपलब्ध नहीं हैं। केंद्र में न प्रयाप्त संख्या में कर्मी है अाैर न डॉक्टर अाैर नर्स। एक छोटे से कमरे में दवा केंद्र व डाटा एंट्री के कर्मी काम करने को मजबूर हैं। वहीं क्षेत्र में झोलाझाप डॉक्टर की भरमार है एवं मरीज उन्हीं के भरोसे हैं। एक दशक में ग्रामीण क्षेत्र में झोलाझाप डॉक्टरों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है। अब तो गांव में भी क्लीनिक व नर्सिंग होम खुलने शुरू हो गए है, जिसके संचालक ऐसे झोलाछाप डॉक्टर ही हैं।

स्टाफ की कमी से सेवा पर असर


X
kishanganj News - mamta didi and female nurses full of female doctor instead of female doctor
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543